हल्दी की गांठ है रामबाण इलाज

 

 

सर्दी-खांसी और बुखार होने की बीमारी इस मौसम में काफी होती है। ऐसे में हल्दी की गांठ का इस्तेमाल कर दवाईयों पर पैसे खर्च करने से बच सकते हैं। हल्दी का दूध पीने से जख्म जल्दी भर जाते हैं। मौसम बदल रहा है। सर्दी-खांसी और बुखार होने की बीमारी इस मौसम में काफी होती है। ऐसे में हल्दी की गांठ का इस्तेमाल कर दवाईयों पर पैसे खर्च करने से बच सकते हैं।

सर्दी-जुकाम ठीक करे

हल्दी एक ऐसी हर्ब है जो सौदंर्य बढ़ाने के साथ आपको सेहतमंद बनाने का भी काम करती है। अभी मौसम बदल रहा है जिसके कारण कई लोगों को सर्दी-खांसी की समस्या हो जाती है। ऐसे में एलोपैथी की जगह हल्दी की गांठ का इस्तेमाल करें। हल्दी की गांठ को मूंह में रखकर चूसते रहें। इससे खांसी की समस्या दूर हो जाती है।

साइनस करे ठीक

हल्दी का दूध पीने से सांस से जुड़ी बीमारियां जैसे साइनस, दमा, ब्रोनकाइटिस और बलगम की परेशानी से आराम मिलता है। सर्दी-खांसी के दौरान जब नाक बंद हो जाती है तो साइनस के मरीजों को काफी दिक्कत होती है। इस बंद नाक से छुटकारा पाने के लिए हल्दी में शहद और काली मिर्च मिलाकर सेवन करें। इससे मौसमी बुखार से भी छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

इम्युन सिस्टम बनाए मजबूत

हल्दी को एक बेस्ट एंटीबायोटिक माना जाता है। इस कारण शरीर को क्लीन रखने के लिए एक चुटकी हल्दी का सेवन करने पर काफी जोर दिया जाता है। इससे शरीर की प्रतिरोधकता क्षमता मजबूत होती है और बीमारी होने की आशंका कम रहती है।

गठिया में मिलता है आराम

हल्दी का दूध पीने से जख्म जल्दी भर जाते हैं। ये हर किसी को मालुम है। लेकिन क्या आपको ये मालुम है कि नियमित तौर पर हल्दी का दूध पीने से भविष्य में गठिया होने की संभावना कम हो जाती है और अगर किसी को गठिया है भी तो उससे भी आराम मिलता है। हल्दी का दूध पीने से गठिया से होने वाली सूजन और दर्द कम होती है।

इंफेक्शन नहीं होने देता

अगर मौसम बदलने के दौरान कीड़-मकोड़ों के पनपने से आपको इंफेक्शन हो जाता है या छोटे जख्म से भी आपको इंफेक्शन होने का खतरा रहता है तो हल्दी आपके लिए उपयोगी साबित हो सकती है। हल्दी आपकी त्वचा को हेल्दी रखता है और कोशिकाओं को सेहतमंद बनाए रखता है जिससे इंफेक्शन त्वचा में फैलती नहीं।

(साई फीचर्स)