लापता नाबालिग का चार माह बाद भी नहीं लगा सुराग!

 

 

प्रदीप की निशानदेही पर पुलिस ने खोद डाली नाले के बाजू की जमीन!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। जुलाई में केवलारी थानांतर्गत खैररांजी ग्राम से गायब हुई गर्भवती नाबालिग को खोजने में लगी केवलारी पुलिस, चार माह बाद भी खाली हाथ ही है। सोमवार को एक आरोपी प्रदीप की निशानदेही पर केवलारी पुलिस के द्वारा खैररांजी में नाले के पास की जमीन को खुदवाया गया किन्तु पुलिस के हाथ कुछ भी नहीं लगा।

केवलारी के अनुविभागीय अधिकारी पुलिस कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि गायब नाबालिग के मामा के पुत्र मण्डला जिले के बंधा निवासी प्रदीप को पुलिस के द्वारा दो दिन पूर्व ही पूछताछ के लिये बुलाया गया था। प्रदीप ने पुलिस को यह कहकर चौंका दिया था कि नाबालिग की हत्या कर दी गयी है।

सूत्रों ने बताया कि एक आरोपी प्रदीप है जिस पर नाबालिग को लेकर जाने का आरोप है, वह अभी जेल में है। यह दूसरा प्रदीप है जो नाबालिग के मामा का बेटा बताया जा रहा है। इसके द्वारा पुलिस को बताया गया कि नाबालिग की माँ ने नाबालिग का गला घोंटा है। उसने (प्रदीप ने) उस वक्त नाबालिग के पैर पकड़े हुए थे।

सूत्रों ने बताया कि इसके बाद प्रदीप के द्वारा पुलिस को बताया गया कि उसने और नाबालिग की माता ने बाद में नाबालिग के शव को ले जाकर खैररांजी के श्मशान के बाजू में बहने वाले नाले के पास ले जाकर दफना दिया था। पुलिस के द्वारा इस बात की तस्दीक के लिये प्रदीप की निशानदेही वाली जमीन पर सोमवार को खुदाई आरंभ करवायी गयी।

सूत्रों ने बताया कि पुलिस के द्वारा पहले तो गैती फावड़े से खुदाई करवायी गयी, पर जब समय अधिक लगा तो पुलिस के द्वारा जेसीबी की व्यवस्था कर खुदाई आरंभ करवायी गयी। देर शाम तक चली खुदाई में पुलिस को मिट्टी के अंदर से एक सफेद गमछा और एक सिक्का मिला। इस पर पुलिस को लगा कि हो सकता है प्रदीप की बात में दम हो।

सूत्रों ने आगे बताया कि इसी बीच नाबालिग की माँ को भी मौके पर लाया गया और उससे वहाँ पूछताछ की गयी। नाबालिग की माँ ने इस पूरी कहानी को प्रदीप के दिमाग की उपज बताते हुए खारिज कर दिया। पुलिस के द्वारा थक हारकर खुदाई बंद कर, उस स्थान की सुरक्षा के लिये पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

क्या था मामला : खैररांजी ग्राम की एक नाबालिग बालिका के गर्भवती होने पर गाँव के ही एक अन्य युवक पर शक किया गया था। इस संबंध में पंचायत बैठायी गयी थी, जिसमें उक्त युवक के द्वारा नाबालिग युवती से विवाह करने की बात कही गयी थी। इसके बाद युवती गाँव से गायब हो गयी थी।

बताया जाता है कि गायब होने के बाद युवती गाँव में लौटी और फिर अचानक ही एक दिन वह खेत से भाजी तोड़कर लाने की बात कहकर फिर से गायब हो गयी। उसके गायब होने के लगभग चार माह बाद भी अब तक उसका पता नहीं चल सका है। इसी बीच युवती के पिता का शव भी एक कुंए में मिला था। इस पूरे घटनाक्रम को लेकर गाँव में रोष और असंतोष पनप रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *