प्लास्टिक पर प्रतिबंध नपा का काम कर देगा आसान!

 

अमानक प्लास्टिक पर प्रतिबंध का कड़ाई से पालन करवाया जाना चाहिये जो सिवनी में नहीं किया जा रहा है। यदि इसका पालन करवाया जाता है तो कुछ हो या न हो लेकिन यह नगर पालिका सिवनी का काम बहुत आसान कर देगा।

सिवनी में नालियों के जाम होने का सबसे प्रमुख एक कारण प्लास्टिक का उनमें पड़े होना है। नगर पालिका के द्वारा कई-कई दिनों तक विभिन्न क्षेत्रों के नाले नालियों की सफाई करवाने की जहमत नहीं उठायी जाती है जिसके कारण शहर के वाशिंदों की हमेशा से शिकायत नगर पालिका से रहती आयी है। यह अलग बात है कि नगर पालिका अपने नागरिकों की परेशानियों की ओर ध्यान देना प्राथमिकता में कतई नहीं रखती है।

जिला प्रशासन के साथ ही साथ यदि नगर पालिका प्रशासन भी सिवनी में अमानक प्लास्टिक के उपयोग पर यदि प्रतिबंध लगाकर उसका सख्ती के साथ पालन करवाते हैं तो उसका एक फायदा नगर पालिका को यह मिलेगा कि नालियां चोक होने की शिकायत उसको कम मिलने लगेंगी जिसके कारण लोगों के द्वारा नगर पालिका प्रशासन को कोसने का एक कारण भी बस्ते में बंद जैसा हो जायेगा, लेकिन नगर पालिका इस बहाने भी ऐसा करने की ओर ध्यान नहीं देना चाहती दिख रही है।

नगर पालिका की निष्क्रियता और जिला प्रशासन के द्वारा उसकी कार्यप्रणाली की ओर से आँखें मूंद लेने के कारण शहर के नागरिक समझ ही नहीं पा रहे हैं कि वे शहर में व्याप्त गंदगी से कैसे निज़ात पा सकते हैं। शहर के नागरिक जब अन्य शहरों में जाते हैं तो वहाँ की नगर पालिका के जिम्मेदारों की कर्त्तव्यनिष्ठता को देखकर दंग हुए बिना नहीं रहते हैं। यही हाल बाहर के शहरों के नागरिकों का भी है। दूसरे शहर के नागरिक जब सिवनी आते हैं तो वे भी नगर पालिका सिवनी की कार्यप्रणाली को देखकर दंग हुए बिना नहीं रहते हैं। वे लोग यही सवाल करते हैं कि इस संस्था में कैसे लोग हैं जिन्हें आम नागरिक तो दूर की बात है, उन्हें जिला प्रशासन के हंटर तक की चिंता नहीं है।

उन शहरों के नागरिकों को यह समझाना मुश्किल हो जाता है कि जिला प्रशासन के द्वारा नगर पालिका को अभयदान, आखिर क्यों दे दिया गया है। बहरहाल जिला प्रशासन और नगर पालिका सिवनी की मैत्री वे ही जानें, मैं तो इतना ही कहना चाहता हूँ कि अमानक प्लास्टिक पर प्रतिबंध का पालन सख्ती से करवाया जाता है तो इससे आम जनता ही नहीं बल्कि नगर पालिका सिवनी के प्रिय आवारा मवेशी, जो यहाँ की सड़कों पर स्वच्छंद विचरण करते रहते हैं, वे भी सुरक्षित रह सकेंगे।

रिज़वान खान