वृक्ष लगाने के स्थान पर अब वृक्षों को पुष्पित होने के प्रयास की आवश्यकता

 

पर्यावरण के क्षेत्र में सतत लगे हुए हैं सुनील राय

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। पर्यावरण प्रदूषण रोकने के लिये एक ऐसी तकनीकी विकसित करने की आवश्यकता है जिससे पर्यावरण का क्षय न हो। इस तकनीकी को विकसित करने के लिये पर्यावरण वैज्ञानिकों की माँग बढ़ी है। उक्त उदगार केवलारी क्षेत्र के वरिष्ठ भाजपा नेता सुनील राय ने पर्यावरण को लेकर जन चेतना जाग्रत करने के लिये लोगों के बीच रखे।

उन्होंने कहा कि यही नहीं, औद्योगिक ईकाईयों में प्रदूषण नियंत्रण और पर्यावरणीय निगरानी के लिये संस्थापित किये जा रहे उपकरणों के सफल संचालन हेतु भी बड़ी संख्या में पर्यावरण विज्ञान विशेषज्ञों की आवश्यकता महसूस की जा रही है। आज वृक्ष लगाने के साथ ही साथ वृक्ष संवारने की भी आवश्यकता है।

श्री राय ने कहा कि वे लगभग 05 वर्षाें से अधिक समय से पर्यावरण को लेकर सिवनी जिले में जन चेतना जाग्रत कर रहे है। उन्होंने ग्रामीण जनों के सहयोग से हजारों पौधे न केवल लगवाये बल्कि अब पेड़ लगाने की अपेक्षा लोगों से यह गुजारिश कर रहे हैं कि अगर आप इन वृक्षों को पुष्पित पल्लवित करने में सहयोग करेंगे तो आने वाले समय में पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचा सकते हैं। सभी के सामने राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण का उदाहरण सामने है जहाँ पर आबादी की दृष्टि से वृक्षारोपण का अभाव है और लगातार वृक्ष कट रहे हैं।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में आवश्यकता है कि लोग अपने घरों में ऐसे स्थान पर वृक्ष लगायें जहाँ पर उसे घर का वेस्टेज पानी सुगमता से मिल सके। और छायादार वृक्ष जैसे बड़, पीपल सहित अनेक ऐसे वृक्ष हैं जिससे अधिक मात्रा में ऑक्सीजन प्राप्त होती है। ये वृक्ष कार्बन डाई ऑक्साईड ग्रहण करते है। ऐसे वृक्षों से पर्यावरण शुद्ध रह सकता है। श्री राय के इस प्रयास की गाँव – गाँव में सराहना की जा रही है। वहीं दूसरी ओर लोग भी जागरूक हो रहे हैं।