यहाँ टॉपर्स को मिलती है चाँदी की पायल व चैन

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले के धनौरा विकास खण्ड की माध्यमिक शाला बोरिया में पदस्थ शिक्षक ए.जी. खान ने बच्चों में शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाने के लिये तरह – तरह के प्रयोग कर प्रत्येक छात्र – छात्रा में उत्साह भर दिया है। इसके साथ ही ग्रामीणों की सोच में परिवर्तन भी किया है।

शिक्षक श्री खान अपने विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देने के साथ विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिये सतत रूप से कार्य कर रहे हैं। शिक्षक ए.जी. खान बताते हैं कि 25 वर्ष पूर्व में जब उनकी पदस्थापना माध्यमिक शाला बोरिया में हुई थी, तब यहाँ न ही रोड थी और न बच्चों में शिक्षा के प्रति उत्साह। लोगों में बच्चों की शिक्षा के प्रति कोई रूचि नहीं थी साथ ही उस समय स्कूल में बच्चों की दर्ज संख्या भी बहुत कम थी, जिसमें लड़कियों की संख्या न के बराबर थी तब उनके एवं सहयोगी शिक्षकों द्वारा ग्रामीणों से सतत संवाद स्थापित कर उनके घर तक पैठ बनाकर शिक्षा की ऐसी अलख जलायी गयी।

अब माध्यमिक शाला की दर्ज संख्या 178 हो गयी है। विद्यालय की औसत उपस्थिति 85 प्रतिशत है। ड्रॉप आऊट्स की संख्या शून्य है। मीन्स कम मेरिट स्कॉलरशिप में भी शाला के विद्यार्थी लाभ ले रहे हैं। विद्यालय के अधिकांश बच्चे मूलभूत दक्षताओं में दक्ष हैं। इसके चलते ग्राम का कोई भी बच्चा प्राईवेट स्कूल में पढ़ने नहीं जाता है।

श्री खान बताते है कि शिक्षा के इस महायज्ञ में ग्राम पंचायत एवं स्थानीय जन प्रतिनिधियों द्वारा भी बच्चों को प्रोत्साहित करने हेतु प्रत्येक 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर में टॉपर्स बालिकाओं को चाँदी की पायल और बालकों को चाँदी की चैन देकर प्रोत्साहित किया जाता है। इसी तरह विगत 14 नवंबर को बाल दिवस के अवसर पर बच्चों की परफॉर्मेंस से खुश होकर स्थानीय सरपंच और जनपद सदस्य द्वारा 55 इंच की एंड्रॉयड टीवी विद्यालय को प्रदान करने की घोषणा की गयी है।

इसके साथ ही बच्चों में शिक्षा के प्रति लगाव को बढ़ाने के उद्देश्य से विकास खण्ड धनौरा के शासकीय शिक्षकों द्वारा पिछले 05 वर्षों से ..चलो अच्छा पढायें स्कूल बचायें.. नाम से अनोखा आंदोलन चलाया जा रहा है, जिसका उद्देश्य शासकीय विद्यालयों और उनमंे कार्यरत शिक्षकों की विश्वसनीयता और शाख की पुर्नस्थापना अपने गुणवत्ता पूर्ण शिक्षण और नवाचारों से करना है। इसमें माध्यमिक शाला बोरिया ..चलो अच्छा पढायें, स्कूल बचायें.. मुहिम में अग्रज की भूमिका निभा रहा है। इस विद्यालय की प्रगति में प्रधान पाठक रामकुमार साहू, शिक्षक राकेश डहेरिया एवं शिक्षक जेहर सिंह भलावी भी अपना बहुमूल्य योगदान विद्यार्थी हित में दे रहे हैं।