दर्द दूर करने वाली दवाओं की जानकारी

 

कभी न कभी हम सभी कमर, पीठ, दांत दर्द से परेशान होते ही हैं। हर वक्त डाक्टर के पास पहुंचना मुमकिन भी नहीं होता। ऐसे में बाजार में उपलब्ध दर्द निवारक गोलियों से काम चलाना पड़ता है। लेकिन कई बार यह तय करना मुश्किल हो जाता है कि किस दर्द में कौन सी गोली खाई जाए। आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने एक ऐसी सूची तैयार किया है जिससे आपको सही दर्द निवारक गोली चुनने में मदद मिलेगी। विशेषज्ञ एंड्रयू मोरे के मुताबिक 20 हजार लोगों पर दर्द निवारक गोलियों का प्रभाव देखने के बाद इसे तैयार किया गया है।

इटोरिकाक्सिब

आपरेशन के बाद का दर्द, जोड़ो के दर्द, गठिया, दांत का दर्द, कमर दर्द, सिरदर्द में आप इटोरिकाक्सिब (120-240 मिलीग्राम) ले सकते हैं।

डाइक्लोफेन: गठिया, माइग्रेन, सिरदर्द, गालब्लैडर में पथरी (गालस्टोन) के दर्द में डाइक्लोफेन (100 मिलीग्राम) भी असरदार होती है। महिलाएं इसे पीरियड के दर्द में भी ले सकती हैं। इसी तरह सेलेकोक्सिब (400 मिलीग्राम) को भी पीरियड के दौरान होने वाले दर्द या जोड़ों के दर्द में लिया जा सकता है। 

पैरासिटामोल और कोडीन: आपरेशन के बाद का दर्द, पीठ दर्द, गठिया के दर्द में पैरासिटामोल (1000 मिलीग्राम) और कोडीन (60 मिलीग्राम) दोनों दवाओं को एक साथ लिया जा सकता है।

एस्पिरिन: इस दवा से हृदयघात का खतरा नहीं होता। इस कारण यह किसी भी दर्द में ली जा सकती है। इसमें कैंसर निरोधी तत्व भी होते हैं।

आईब्रूफेन: मांसपेशियों और दांत के दर्द, मोच आने या लचक जाने से होने वाले दर्द में आईब्रूफेन (400 मिलीग्राम) लेना फायदेमंद साबित होगा। 

आक्सीकोडोन और पेरासिटामाल: आपरेशन के बाद का दर्द या पीठ में तेज दर्द होने पर आक्सीकोडोन 10 मिलीग्राम और पेरासिटामोल 650 मिलीग्राम दोनों दवाओं को एक साथ लेना लाभकारी होता है।

केटोरोलेक: तेज दर्द में केटोरोलेक 10 मिलीग्राम खाने से थोड़ी राहत मिलती है। ये पथरी से होने वाले दर्द या पीठ दर्द में बेहद असरदार साबित होती है। 

पायरोक्सिकेम: गोल्फर्स एल्बो, खेलकूद के दौरान लगी चोट, गठिया, मोच, जोड़ो के दर्द, टेनिस एल्बो में बेहद प्रभावी। वहीं ल्यूमेरोकोक्सिब 400 मिलीग्राम जोड़ो के दर्द से राहत पहुंचाती है। पेथाडीन 100 मिलीग्राम का इंजेक्शन सर्जरी के बाद होने वाले दर्द में राहत पहुंचाता है।

इन दवाओं को बहुत ज्यादा जरूरत लेने पर ही लेना चाहिए। क्योंकि पेन किलर्स के अपने साइड इफेक्ट्स भी होते हैं। इसके अलावा अगर मुमकिन हो तो आप अपने डॉक्टर से सलाह भी ले सकते हैं।

(साई फीचर्स)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *