प्रियंका गांधी की सुरक्षा में सेंध

 

 

 

 

बिना अनुमति अज्ञात लोग घर में घुसे : सूत्र

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)।दिल्ली के लोधी एस्टेट स्थित कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के आवास का सुरक्षा घेरा तोड़ने का मामला सामने आया है।

सूत्रों के मुताबिक, एक सप्ताह पहले अज्ञात लोग बिना उनके आवास में घुस गए और प्रियंका के साथ सेल्फी लेने का अनुरोध करने लगे। उधर, गृह मंत्रालय ने मामले संज्ञान लिया है और गृह राज्य मंत्री का कहना है कि वह इस संबंध में अपने अधिकारियों से बात करेंगे। बता दें कि यह घटना ऐसे समय में हुई है जब हाल ही में गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटा दी गई है और उन्हें जेड-प्लस सुरक्षा दी गई है। मामले में सीआरपीएफ से शिकायत की गई है जिसके पास अब गांधी परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी है।

बिना अपॉइंटमेंट घुसे घर

सूत्रों ने बताया, ‘कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के आवास पर सुरक्षा घेरा तोड़ने का मामला सामने आया है, एक सप्ताह पहले अज्ञात लोग उनके आवास में दाखिल हुए, बिना पूर्व अपॉइंटमेंट के उन्होंने सेल्फी खिंचने की मांग की। इस संबंध में सीआरपीएफ के पास शिकायत दर्ज कराई गई है। जांच जारी है।

वहीं, इस संबंध में जब पत्रकारों ने सोमवार को गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी से पूछा तो उन्होंने कहा, ‘मुझे इसकी विस्तृत जानकारी नहीं है। मैं लोकसभा से आ रहा हूं। मैं इस संबंध में अपने अधिकारियों से बात करूंगा।

उल्लेखनीय है कि एसपीजी की सुरक्षा हटाए जाने पर कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी पार्टियों ने बीजेपी को लोकसभा में घेरा और बदले की राजनीति का आरोप लगाया। वहीं, गृह मंत्री अमित शाह ने एसपीजी अमेंडमेंट बिल पर चर्चा के दौरान इस पर जवाब दिया। उन्होंने बिना किसी का नाम लिए कहा कि अबतक एसपीजी सुरक्षा के नियमों में जो भी बदलाव हुए थे, वे सिर्फ एक परिवार को ध्यान में रखकर हुए, पहली बार पीएम की सुरक्षा को ध्यान में रखकर बदलाव हो रहा है। उन्होंने कहा कि एसपीजी प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए है, इसका स्टेटस सिंबल के तौर पर इस्तेमाल नहीं होगा।

गांधी परिवार की सुरक्षा के साथ समझौते के कांग्रेस के आरोपों पर गृह मंत्री ने कहा कि पहले उनकी सुरक्षा में जितने सुरक्षाकर्मी होते थे, अब भी उतने या उससे ज्यादा ही होंगे। लोकसभा ने पिछले सप्ताह एसपीजी अमेंडमेंट बिल को मंजूरी दे दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *