राहुल पर पवार का तंज

 

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार आमतौर पर नेताओं के ऊपर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करते हैं। पर ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर उनके भी मन के भाव जाहिर हो गए हैं। वैसे राहुल से उनके संबंध बहुत अच्छे हो गए हैं। पहले शरद पवार उनसे बात नहीं करते थे। उन्होंने कांग्रेस नेताओं से भी कहा हुआ था कि वे सोनिया गांधी से ही बात करेंगे। पर पिछले लोकसभा चुनाव के समय जब राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष थे, तब उनकी और पवार की लगातार बात होती रही। इन दोनों ने ही पहले लोकसभा और फिर विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और एनसीपी का तालमेल बनवाया। पर ऐसा लग रहा है कि शरद पवार उनको साझा विपक्ष का नेतृत्व करने में सक्षम नहीं मान रहे हैं।

तभी पवार ने पिछले दिनों राहुल गांधी के विदेश दौरे को लेकर निशाना साधा। महाराष्ट्र विधानसभा का सत्र नागपुर में चल रहा है और इस मौके पर पवार भी नागपुर में थे, जब उनसे विपक्षी गठंबधन के बारे में पूछा गया। उन्होंने माना कि इस समय विपक्ष को एकजुट होने और साझा मोर्चा बनाने की जरूरत है। पर जब नेता के बारे में पूछा गया तब उन्होंने व्यंग्य के लहजे में कहा कि कहा कि नेता ऐसा हो, जो देश में रहे। ध्यान रहे राहुल गांधी इस समय भी विदेश में हैं, जब देश में नागरिकता कानून और नागरिक रजिस्टर को लेकर आंदोलन चल रहा है। उनकी गैरहाजिरी में प्रियंका गांधी वाड्रा छात्र आंदोलन के समर्थन में उतरी हैं और झारखंड में भी रैली के लिए उनको जाना पड़ा। पवार का यह बयान राहुल के ऊपर बड़ा तंज है। इससे कांग्रेस और राहुल गांधी दोनों को सबक लेने की जरूरत है। अगर राहुल देश के हालात से सीधे नहीं जुड़े तो उनका नेतृत्व किसी को कबूल नहीं होगा।

(साई फीचर्स)