दूल्हा बिकता है?

 

साल 1982 में फिल्म निर्माता ताहिक हुसैन ने एक फिल्म बनाई, जिसका नाम था दूल्हा बिकता है. ये फिल्म जब सिनेमाघर में पहुंची तो लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि भारत में ऐसा भी होता है.

इसी तरह कालांतर में दूल्हों के बिकने पर कई फिल्में बनीं, लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में दूल्हे बिकते हैं.

जी हां, ये बात सौ फीसदी सही है. दूल्हों की सौदेबाजी होती है बिहार के मिथिलांचल यानी मधुबनी जिले में. यहां दूल्हों की मंडी ऐसे लगती है, जैसे कोई सब्जी, फल या राशन मंडी होती है. दूल्हों की इस मंडी को कहा जाता है सौराठ सभा यानी दूल्हों का मेला. लोग इसे सभागाछी के नाम से भी जानते हैं.

मैथिल ब्राह्मणों के इस मेले में देश-विदेश से कन्याओं के पिता योग्य वर का चयन करके विवाह करते हैं. इतना ही नहीं यहां योग्यता के हिसाब से दूल्हों की सौदेबाजी भी होती है.

9 दिनों तक चलने वाले इस मेले में पंजिकारों की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है. यहां जो संबंध तय होते हैं, उसे मान्यता पंजिकार ही देते हैं.

पंजीकरण में पिता पक्ष और ननिहाल पक्ष के 7 पीढ़ी तक के संबंधों को देखा जाता है. किसी तरह का संबंध रहने पर वर-कन्या का विवाह नहीं होता है, क्योंकि पडितों के हिसाब से उनकी नाड़ी समान होती है.

इस मामले में पंजिकार वीएन झा बताते हैं कि यह मेला लगभग 700 साल पहले शुरू हुआ था. साल 1971 में यहां लगभग 1.5 लाख लोग विवाह के समंबंध में आए थे लेकिन वतर्मान में आने वालों की संख्या काफी कम हो गई है.

इस मेले के बारे में लोग बताते हैं कि राजा हरि सिंह देव ने दहेज प्रथा को रोकने के लिए इस मेले की शुरुआत की थी, लेकिन बाद में इस मेले में लड़की पक्ष वाले वर की योग्यता के हिसाब से मूल्य निर्धारित करने लगे. इस वजह से इसका महत्व कम होने लगा है और आज ये मेला अपनी आखिरी सांसे गिन रहा है.

(साई फीचर्स)

11 thoughts on “दूल्हा बिकता है?

  1. Hey there! I know this is somewhat off topic but I was wondering if you knew where I could get
    a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having difficulty finding one?
    Thanks a lot!

  2. I used to be recommended this web site via my cousin. I am now not positive whether this post is written via him as no one
    else realize such exact approximately my difficulty.
    You’re incredible! Thanks!

  3. Pingback: axiolabs winstrol
  4. You actually make it appear so easy along with your presentation but I find
    this matter to be actually something which I feel I’d by no means understand.
    It seems too complex and very vast for me. I’m taking a look ahead to your subsequent
    post, I’ll try to get the hold of it!

    Here is my website :: biden we just did

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *