मलेरिया प्रकरणों में आई कमी

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिला मलेरिया अधिकारी द्वारा जानकारी दी गई कि वर्ष 2018 की तुलना में वर्ष 2019 मे मलेरिया के प्रकरणों में 78.89 प्रतिशत की कमी आयी है।

आपने बताया कि जहां वर्ष 2018 मे मलेरिया के 483 पॉजिटिव केस पाए गए थे वहीं वर्ष 2019 मे मलेरिया के 102 पॉजिटिव केस पाये गयें।। इसी तरह वर्ष 2018 मे फाल्सीपेरम मलेरिया के 270 प्रकरणों की तुलना में वर्ष 2019 में फाल्सीपेरम के 35 प्रकरण ही पायें गये। 

उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसी वाहक जनित बीमारियों से बचाव के लिए जिले में सर्वेलेंस कार्य प्रचार-प्रसार, नारे लेखन, लार्वा सर्वे, जागरूकता रैली, स्कूल हेल्थ प्रोग्राम, अर्न्तविभागीय बैठक का आयोजन, वन रक्षक प्रशिक्षण, छात्रावास अधीक्षकों का प्रशिक्षण एवं आशा कार्यकर्ताओं, ए.एन.एम., एम.पी.डब्लू का प्रशिक्षण आयोजित किये गये थे। साथ ही कीटनाशक मच्छरदानी वितरण, कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करने के साथ ही जिले में 110 ग्रामों के 287 जलस्त्रोतों में गम्बूसिया मछली को छोड़ा गया है।

मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया से बचाव एवं उपाय : घर के आसपास तथा कंटेनरो में पानी 05 से 07 दिन से ज्यादा जमा न होने दें। कूलर तथा पानी के बडे बर्तनों की सप्ताह में एक बार सफाई अवश्य करें। छत पर एवं घर में अनुपयोगी सामान (टूटे बर्तन, मटके, खुली टंकिया, बेकार फेंके हुए टायर, गमले इत्यादि) में बारिश का पानी जमा न होने दें।

इसके साथ ही साथ पानी से भरे कंटेनरों को ढक्कन रखे ताकि मच्छर उसमें अंडे न दे सके। सोते समय मच्छरदानी लगाए। पूरी बॉहे के कपडे पहनें। खिडकी दरवाजों में मच्छररोधी जाली लगाए। बुखार आने पर मलेरिया/डेंगु/चिकनगुनिया की निःशुल्क जॉच शासकीय अस्पताल में कराए मलेरिया होने पर पूर्ण उपचार लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *