मुख्यमंत्री को सिवनी नहीं लाना चाहती काँग्रेस!

 

ढेरों भवन कर रहे उदघाटन की प्रतीक्षा! सवा साल में मुख्यमंत्री को नहीं ला पायी काँग्रेस!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। लगता है वर्तमान समय में काँग्रेस की बागडोर काँग्रेस के जिन आलंबरदारों के हाथों में है, वे मुख्यमंत्री कमल नाथ को सिवनी लाने से हिचकिचा ही रहे हैं। इसका कारण क्या है यह बात तो वे ही बता पायेंगे, पर काँग्रेस के अंदर ही अंदर इस बात का लावा खदबदाने लगा है कि मुख्यमंत्री को सिवनी लाने से काँग्रेस परहेज़ क्यों कर रही है!

काँग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि भाजपा के शासन काल में छोटे बड़े शिलान्यास और भूमि पूजन के लिये भाजपाईयों के द्वारा तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सिवनी बुला लिया जाता था।

उन्होंने यह भी कहा कि मेडिकल कॉलेज़ के भूमि पूजन के लिये भी शिवराज सिंह चौहान सिवनी आये थे। सवा साल से ज्यादा समय से मेडिकल कॉलेज़ का मामला भी ठण्डे बस्ते के हवाले है। काँग्रेस के जिला स्तरीय क्षत्रप अगर चाहते तो मुख्यमंत्री कमल नाथ को सिवनी लाकर मेडिकल कॉलेज़ के संबंध में किसी तरह की घोषणा करवाकर इसका श्रेय लिया जा सकता था।

इधर, काँग्रेस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि जिला अस्पताल में कायाकल्प अभियान के तहत कराये गये कार्यों, प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी की प्रतिमा के लोकार्पण जैसे बड़े कार्यक्रमों के लिये मुख्यमंत्री को सिवनी बुलाया जा सकता था। विडंबना ही कही जायेगी कि मुख्यमंत्री बनने के बाद काँग्रेस के द्वारा एक बार भी कमल नाथ को सिवनी नहीं लाया जा सका है, जबकि सीमावर्ती जिलों, नरसिंहपुर, मण्डला, छिंदवाड़ा, बालाघाट, जबलपुर आदि में मुख्यमंत्री अनेकों बार जा चुके हैं।

सूत्रों ने यह भी कहा कि जिला अस्पताल में ट्रामा केयर भवन, मछली और मटन मार्केट, पॉलीटेक्निक कॉलेज़ का गर्ल्स हॉस्टल का भवन वर्तमान में उदघाटन की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इसके अलावा थोक सब्जी मण्डी, प्रस्तावित चिल्ल्हर सब्जी मण्डी, पुरानी थोक सब्जी मण्डी आदि के कार्यों को कराये जाने के लिये भूमि पूजन कार्यक्रम भी मुख्यमंत्री के हाथों करवाया जा सकता था, किन्तु काँग्रेस के आलंबरदारों के द्वारा इस ओर ध्यान न दिया जाना आश्चर्य का ही विषय है।

यहाँ यह भी उल्लेखनीय होगा कि मुख्यमंत्री कमल नाथ के द्वारा सिवनी सहित 14 जिलों में मेगा स्किल सेंटर की घोषणा किये दो दिन बीत जाने के बाद भी किसी भी काँग्रेस के नेता अथवा प्रवक्ता के द्वारा इस संबंध में मुख्यमंत्री का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए विज्ञप्ति जारी करना भी मुनासिब नहीं समझा गया।

सूत्रों ने बताया कि जिस तरह पूर्व में भाजपा की सरकार के कार्यकाल में जिला स्तरीय नेताओं के द्वारा भोपाल जाकर मुख्यमंत्री, मंत्री या अन्य नेताओं से एक दूसरे की शिकायत की जाती थी, उस परंपरा का निर्वहन अब काँग्रेस के जिला स्तरीय नेताओं के द्वारा किया जा रहा है।

सूत्रों ने कहा कि सिवनी जिले में विकास की अपार संभावनाएं हैं। विकास के लिये काँग्रेस के नेताओं के द्वारा अगर रोडमेप तैयार किया जाकर उसे मुख्यमंत्री कमल नाथ के समक्ष रखा जाता तो विकास की सोच और दूरंदेशी से ओतप्रोत मुख्यमंत्री कमल नाथ के द्वारा विकास की योजनाओं पर मुहर लगाने में एक मिनिट की देरी नहीं की जाती।

 

2 thoughts on “मुख्यमंत्री को सिवनी नहीं लाना चाहती काँग्रेस!

  1. Pingback: immediate edge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *