चालानी कार्यवाही के बाद भी यातायात की स्थिति जस की तस!

 

 

सिवनी में अतिक्रमण विरोधी अभियान जोर-शोर से चलाया गया। इसके साथ ही पुलिस के द्वारा जब-तब वाहनों की चालानी कार्यवाही भी की जा रही है लेकिन सिवनी की यातायात व्यवस्था पर नियंत्रण नहीं पाया जा सका है।

सिवनी की यातायात व्यवस्था नासूर बनती दिख रही है। बीते वर्षों में यातायात विभाग के कई प्रभारी बदले गये लेकिन सिवनी के यातायात को पटरी पर लाने में अब तक कोई भी सफल नहीं हो सका है। ऐसा लगता है जैसे सिवनी के यातायात विभाग में पदस्थ होने वाले कर्मियों के पास अनुभव की कमी है और उन्हें प्रशिक्षण लेने के लिये भेजा जाना चाहिये।

चौक-चौराहों को देखते हुए ऐसा प्रतीत होता है जैसे यातायात विभाग में सिर्फ और सिर्फ होमगार्ड के सैनिक ही पदस्थ हैं। अक्सर होमगार्ड के इन्हीं सैनिकों के द्वारा चौक चौराहों की यातायात व्यवस्था को सम्हालते हुए देखा जा सकता है। यातायात व्यवस्था तो इन सैनिकों से कतई नहीं सम्हलती दिखती है अलबत्ता यातायात विभाग की यूनिफॉर्म पहनकर वे वसूली करते अवश्य दिख जाते हैं।

कोतवाली के सामने तो कई बार होमगार्ड के सैनिकों के द्वारा ही वाहनों की चालानी कार्यवाही करते हुए देखा जा सकता है। इस कार्यवाही के दौरान कई बार वाहन चालकों की इन सैनिकों के साथ बहस होते हुए भी देखा जा सकता है। इन सैनिकों के द्वारा, बिना चालान काटे ही किस तरह से वसूली की जाती है इसका नज़ारा शायद अधिकारीगण सीसीटीव्ही के कैमरों की रिकॉर्डिंग की मदद से देख सकते हैं।

सिवनी में की जाने वाली वाहनों की चालानी कार्यवाही के कितने सकारात्मक परिणाम सामने आते हैं ये तो किसी को नहीं मालूम लेकिन यातायात व्यवस्था में रत्ती मात्र भी सुधार, बीते वर्षों में परिलक्षित नहीं हो सका है। जिला प्रशासन के द्वारा सड़क किनारे से अतिक्रमणों का हटाये हुए भी लंबा समय हो चुका है लेकिन सड़कों पर यातायात जस का तस ही है। सिवनी वासियों को प्रतीक्षा है कि अतिक्रमण हटाये जाने के सुखद परिणाम शीघ्र ही सामने होंगे।

इरफान खान

73 thoughts on “चालानी कार्यवाही के बाद भी यातायात की स्थिति जस की तस!

  1. Architecture headman to your case generic cialis 5mg online update the ED: alprostadil (Caverject) avanafil (Stendra) sildenafil (Viagra) tadalafil (Cialis) instrumentation (Androderm) vardenafil (Levitra) As a service to some men, past it residents may present rise ED. order research papers Ufnhgg oacpdo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *