संजय निकुंज में लगे पेड़ों की हरियाली दब गयी धूल से!

सिवनी का कटंगी नाका क्षेत्र पिछले कई महीनों से धूल से नहाया हुआ है और इस धूल से निकट भविष्य में निजात मिलने की कोई उम्मीद भी नज़र नहीं आ रही है। इस स्तंभ के माध्यम से जिला प्रशासन का ध्यान मैं इसी ओर दिलाना चाहता हूँ।
इस क्षेत्र में लंबे समय से अत्यंत कच्छप गति से रेलवे के ठेकेदार के द्वारा काम करवाया जा रहा है। इसी के तहत ब्रिज का निर्माण भी इसी क्षेत्र में जारी है। इस निर्माण कार्य के लिये ठेकेदार के द्वारा कटंगी नाका से दीवान महल जाने वाला रास्ता और कटंगी नाका से ही मठ जाने वाले मार्ग को बंद कर दिया गया है।
इन मार्गों को बंद करके मोहल्ले की छेड़ीनुमा गलियों से होकर वाहन निकल रहे हैं। परेशानी की बात यह है कि रेलवे की पांतें बिछाने के लिये भी कार्य जारी है जिसके लिये मुरम डाली जा रही है। एक लंबी दूरी तक मुरम का ढेर लगा दिया गया है जिसकी पिचिंग न करवाये जाने के कारण यहाँ से धूल के गुबार चौबीसों घण्टे ही उड़ रहे हैं।
ठेकेदार के द्वारा मार्गों को बंद करके जो डायवर्टेड रूट दिया गया है वह आरंभ से ही कच्चा है और उस पर डामर की परत चढ़ाने की जहमत भी नहीं उठायी गयी है। इस कच्चे मार्ग पर कम से कम पानी की हल्की-हल्की सिंचाई ही दिन में कई बार करवायी जाती रहे तो लोगों को धूल से काफी हद तक राहत मिल सकती है। धूल का आलम इस क्षेत्र में इस हद तक है कि संजय निकुंज में लगे पेड़ की हरियाली दब गयी है और उन पर भी धूल ही धूल नज़र आ रही है। ऐसे में लोगों के घरों की स्थिति का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है।
गौर करने वाली बात यह है कि इस निर्माण कार्य के लिये जहाँ से मुरम बटोरी जा रही है वहाँ (साहू कबाड़े के बाजू वाले रास्ते पर, जहाँ से ठेकेदार के डंपर आना जाना करते हैं) पर पानी की सिंचाई करके उस कच्चे मार्ग को धूल से मुक्त करने का प्रयास ठेकेदार के द्वारा किया जा रहा है लेकिन जहाँ से (डायवर्टेड मार्ग) शहर के नागरिक चौबीसों घण्टे ही निकल रहे हैं वहाँ पानी की सिंचाई करने की ओर ठेकेदार के द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
सिवनी में लोग ब्रॉडगेज़ की लंबे समय से और बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं इसलिये ठेकेदार के द्वारा नियम विरूद्ध तरीके से कार्य करवाये जाने के बाद भी शांति है लेकिन ठेकेदार की कार्यप्रणाली अब सिरदर्द बनती जा रही है और लोग जमकर परेशान हो उठे हैं। जिला प्रशासन से अपेक्षा है कि उसके द्वारा शीघ्र अतिशीघ्र रेलवे के ठेकेदार को निर्देशित किया जायेगा।

2 thoughts on “संजय निकुंज में लगे पेड़ों की हरियाली दब गयी धूल से!

  1. Pingback: 메이저놀이터
  2. Pingback: Earn Fast Cash Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *