चुभन उत्पन्न कर रही दोपहर की धूप

 

होती दिख रही सर्दी की आधिकारिक बिदाई, पारा पहुँचा 31 पर

(महेश रावलानी)

सिवनी (साई)। पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण बुधवार को हवा की दिशा बदलने से मौसम ने एक बार फिर करवट ली। बुधवार को सुबह हल्की सर्दी महसूस हुई पर आठ बजे के बाद सर्दी गायब हो गयी। इसके बाद धूप लोगों को चुभती नज़र आयी। दिन में आसमान साफ रहा, दोपहर के बाद बादल छाये और हवा की दिशा भी दक्षिणी नज़र आयी।

बुधवार को अधिकतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस रहा जो इस सीजन का सर्वाधिक तापमान माना जा सकता है। दिन में न्यूनतम तापमान 18.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि मंगलवार और बुधवार की दरमियानी रात अधिकतम तापमान 16.4 डिग्री सेल्सियस एवं न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बुधवार को हवा का रूख पूर्वी से बदलकर दक्षिणी होने से गर्माहट महसूस होने लगी।

लगातार बढ़ते पारे के कारण अब गर्मी का अहसास होने लगा है। मौसम विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि आने वाले दिनों में अगर कोई सिस्टम नहीं बनता है तो सर्दी की आधिकारिक बिदाई हो चुकी है। अब अगर सिस्टम बना भी तो पारा बहुत ज्यादा नीचे आने की उम्मीद नहीं है।

सूत्रों ने बताया कि इस बार ऋतु परिवर्तन कुछ विलंब से हो रहा है। बसंत के आगमन के बाद गुलाबी सर्दी आरंभ हो जाती है पर पिछले कुछ सालों से गुलाबी सर्दी मानो गायब ही हो चुकी है। अब पल भर में सर्दी, पल भर में गर्मी का अहसास हो रहा है, जिसके चलते लोगों की प्रतिरोधक क्षमता पर भी प्रभाव पड़ता दिख रहा है।

गर्मी का अहसास होते ही अब कूलर, पंखों की दुकानें भी सजने की तैयारियां होती दिख रही हैं। इसके अलावा जगह – जगह गन्ने एवं अन्य फलों के जूस की दुकानें भी सजती दिख रही हैं। हाथ ठेलों पर अब फलों की बिक्री करने वाले व्यापारियों ने भी अपनी – अपनी दुकानें सजाना आरंभ कर दिया है।

फरवरी के दूसरे पखवाड़े के आरंभ होते ही पारा 31 डिग्री सेल्सियस पर जैसे ही जा पहुँचा है उसे देखते हुए सूत्रों ने इस बात के संकेत भी दिये हैं कि इस साल गर्मी के दिनों में पारा रिकॉर्ड बना ले तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिये।

रखें स्वास्थ्य का ध्यान : मौसम में आये अचानक परिवर्तन को देखते हुए चिकित्सकों ने भी लोगों से स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी है। मौसम के बदलते ही वायरल फीवर के साथ ही साथ सर्दी जुखाम के मरीज़ों की तादाद में भी इज़ाफा होता दिख रहा है।

क्लीनिकों में सर्दी जुखाम से पीड़ित मरीज़ों की कतारें देखने मिल रही हैं। चिकित्सकों ने इस मौसम में खानपान के साथ सावधानी बरतने की सलाह दी है।