बारिश और ओलावृष्टि से दलहनी फसलें चौपट, सब्जियां बर्बाद

 

(ब्यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। महाकोशल- विंध्य में ओले- बारिश से चना, मसूर, बटरी आदि दलहनी फसलों और सब्जियों को नुकसान हुआ है। खरीदी केंद्रों में रखी हजारों क्विंटल धान भीग गया है। शुक्रवार से ओले बारिश का जारी क्रम सोमवार को भी रहा। सोमवार को सिवनी, कटनी और अनूपपुर में बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई।

अनूपपुर के कई गांवों में बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवा के कारण दो दिन से बिजली गुल है। रविवार से लेकर सोमवार की सुबह तक जिले में 125 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को भी बारिश हो सकती है। इधर मंडला में भी देररात ओलावृष्टि और बारिश से दलहनी और गेहूं की फसल को नुकसान हुआ है।

पशु-पक्षी भी हुए आहत: रविवार को हुई तेज बारिश और ओलावृष्टि से जैतहरी वन क्षेत्र अंतर्गत लहसुना बीट के जंगल में ओलों के वार से पशु पक्षी भी घायल हुए हैं। और कई पक्षी सड़क पर मृत हालत में पाए गए।

उमरिया में ओलावृष्टि से 25 प्रतिशत नुकसान

उमरिया जिले में रविवार की दोपहर और रात को अलग-अलग क्षेत्रों में गिरे ओलों की वजह से रबी की फसल को लगभग 25 प्रतिशत नुकसान होने का अनुमान लगाया गया है। गेहूं के अलावा दलहन को भ्ाी खासा नुकसान हुआ है। कई जगह पेड़ गिर गए हैं और कई जगह लोगों के घर गिर गए है। 

कटनी में रात में गिरे ओले

कटनी जिले के ढीमरखेड़ा क्षेत्र में रविवार रात ओले गिरने से किसानों की फसलें में नुकसान हुआ है। रविवार देर शाम हुई बारिश तेज ओलावृष्टि, अतरिया, कटरिया, सर्रा के गांवों में प्रशासन की तरफ से पटवारी सर्वे करने पहुंचे हैं। कटनी जिले में फिर ओलावृष्टि हुई है। ढीमरखेड़ा क्षेत्र में रात में तेज ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को नुकसान हुआ है। ओला बारिश से 20 गांवों में नुकसान हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *