भारी मात्रा में की गयी धान रिजेक्ट!

 

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। समर्थन मूल्य पर खरीदे गये धान में गड़बड़झाले की खबरों के बाद भी प्रशासन के द्वारा इस मामले में किसी तरह की कार्यवाही न किये जाने का खामियाज़ा सामने आया है। छिंदवाड़ा ने सिवनी के 03 हजार 863 मीट्रिक टन धान को निरस्त कर दिया गया है।

नागरिक आपूर्ति निगम के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि मशीनों से नमी (मॉयस्चर) जाँच कर लिये गये धान गोदाम में पहुँचने के बाद रिजेक्ट हो रहे हैं। सिवनी से छिंदवाड़ा भेजे गये लगभग 03 हजार 863 मीट्रिक टन धान को रिजेक्ट कर दिया गया है। अब इसे सुधारने की जिम्मेदारी केन्द्र प्रबंधकों को दी गयी है। इसके लिये तीन दिन का समय दिया गया है। इसकी पुष्टि नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंधक ललित झारिया ने की है।

सूत्रों ने बताया कि जिले भर के लगभग 40 हजार 132 किसानों ने 22 करोड़ 35 लाख 49 हजार 3.91 क्विंटल धान बेचा है। इन किसानों को 04 अरब 05 करोड़ 74 लाख 21 हजार 442 रुपये का भुगतान किया जाना है। संबंधित अधिकारियों का दावा है कि अब तक 03 हजार 6872 किसानों को 03 अरब 26 करोड़ 83 लाख 40 हजार 851 रुपये का भुगतान कर दिया गया है।

वर्तमान में 3260 किसानों को भुगतान किया जाना है। वर्तमान में खरीदी केन्द्रों पर 01 लाख 05 हजार 812.25 क्विंटल धान पड़ी हैं, जिनका परिवहन होना शेष है। परिवहन की गति धीमी बतायी जा रही है। 60 ट्रकों से सोमवार को परिवहन का दावा किया गया है। प्रति ट्रक 200 क्विंटल धान का परिवहन किये जाने की बात बतायी गयी है।

नागरिक आपूर्ति निगम के अनुसार सिवनी से छिंदवाड़ा भेजे गये 3863 मीट्रिक टन धान रिजेक्ट हुआ है। इन धानों को सुधारने के लिये समिति प्रबंधकों को तीन दिन का समय दिया गया है। बारिश में धान भीगने की वजह से धान रिजेक्ट होने की बात बतायी जा रही है।

ओपन केप कारीरात में 900 बोरी धान रिजेक्ट : ओपन केप कारीरात में 22 हजार मीट्रिक धान के 192 स्टेग बनाये गये हैं। इसकी देखरेख के लिये सात कर्मचारी दिन में और आठ कर्मचारियों की रात में ड्यूटी लगायी गयी है। केप में रखे कुछ स्टेग के धान खराब होने लगे हैं। केप में मौजूद सुनील ने बताया कि जो धान खराब दिख रहे हैं, वे रिजेक्ट हो चुके हैं। यहाँ पर रखे गये लगभग 900 बोरी धान रिजेक्ट हुई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *