अशांत इलाकों में देखते ही गोली मारने के आदेश

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। देश की राजधानी दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में हिंसा कर रहे उपद्रवियों के खिलाफ सख्त ऐक्शन शुरू हो गया है। उपद्रवियों पर अंकुश लगाने के लिए सुरक्षाबलों को आदेश दिया गया है कि हिंसा फैलाने की कोशिश करते कहीं भी कोई दिखे तो उसे गोली मार दी जाए।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आदेश पर उपद्रव प्रभावित इलाकों में भारी संख्या में सुरक्षाबलों को उतार दिया गया है। इसके बाद जाफराबाद इलाके से प्रदर्शनकारियों को भी हटा दिया गया। सुरक्षा बलों ने इस इलाके में मार्च निकालकर सड़कों से उपद्रवियों को खदेड़ दिया।

जाफराबाद में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ धरने पर बैठीं महिलाओं को भी बातचीत के बाद हटा दिया गया है। करीब 3 दिन बाद जाफराबाद में हालात कंट्रोल में हुए हैं। पुलिस ने बताया है कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन सड़क खाली कर दी है। ये लोग शनिवार रात से धरना दे रहे थे।

हालात संभालने के लिए स्पेशल कमिश्नर तैनात : पुलिस का कहना है कि जल्द ही चांदबाग, करावल नगर और मौजपुर में भी सारी चीजें कंट्रोल कर ली जाएंगी। सुरक्षाबलों के पैदल मार्च से उपद्रवी खौफ में दिख रहे हैं, वे सड़कों से तितर-बितर होते दिख रहे हैं। दिल्ली में जारी हिंसा को काबू करने के लिए गृह मंत्रालय ने तत्काल प्रभाव से आईपीएस अधिकारी एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली पुलिस का स्पेशल कमिश्नर (कानून व्यवस्था) बनाया है। आईपीएस अधिकारी एसएन श्रीवास्तव अभी सीआरपीएफ में तैनात थे।

चांदबाग में फिर से हुई आगजनी : चांदबाग इलाके में हिंसा के ताजे दौर के तहत मंगलवार शाम को दंगाइयों ने दुकानों में आग लगा दी और पथराव किया। पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे लेकिन यह प्रयास व्यर्थ रहा। स्थिति नियंत्रण में लाने के लिए अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। दंगाइयों ने बेकरी की एक दुकान और फलों के कई ठेलों को फूंक दिया।

हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। देखते ही गोली मारने के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। उधर, जाफराबाद से प्रदर्शनकारियों को सड़कों से हटाया गया है।

आलोक कुमार,

जॉइंट सीपी, ईस्टर्न रेंज.