अपराधियों से दोस्ताना व्यवहार बना चर्चा का विषय!

 

रिमाण्ड पर लिये गये आरोपी के साथ गलबहियां करती दिख रही पुलिस!

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। जिले में इन दिनों कानून का भय समाप्त होता दिख रहा है। जिस तरह से जिले में जरायमपेशा लोगों के द्वारा वारदातें की जा रहीं हैं, उससे तो कम से कम यही प्रतीत हो रहा है। पुलिस का काम कानून के हिसाब से चीजें हों, यह देखने का है, पर जब पुलिस ही अपराधियों के साथ कदमताल करती दिखे तो इसे क्या माना जाये!

पुलिस के विश्वस्त सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि जिले में इन दिनों अपराधियों की पौ बारह ही दिख रही है। अन्य जिलों में जहाँ अपराधी पुलिस से भय खाते होंगे वहीं सिवनी में अपराधियों के साथ पुलिस का व्यवहार बदला हुआ नज़र आ रहा है जिसे लेकर लोग दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर हो गये हैं।

पुलिस सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में एक थाना पुलिस के द्वारा एक आरोपी को रिमाण्ड पर लिया गया है। इस आरोपी से पूछताछ करने की बजाय पुलिस के द्वारा उसे समस्त सुविधाएं प्रदान करते हुए इधर – उधर घुमाया जा रहा है। महंगे होटलों में खाना भी इस आरोपी को रिमाण्ड पर लेने के बाद पुलिस के द्वारा खिलवाया जा रहा है।

पुलिस सूत्रों ने यह भी बताया कि यदि आरोपी को रिमाण्ड पर ले लिया गया है तो उससे लॉकअप या ऐसे ही किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाकर सघन पूछताछ की जाना चाहिये, न कि यहाँ वहाँ घुमाने में ही रिमाण्ड की सीमित अवधि को समाप्त कर दिया जाना चाहिये। पुलिस सूत्रों ने बताया कि उक्त मामला आला अधिकारियों की जानकारी में भी आ गया है।

सूत्रों ने यह भी कहा कि अगर इस तरह से पुलिस के द्वारा आरोपियों के साथ व्यवहार किया जायेगा तो इसका संदेश बहुत अच्छा कतई नहीं माना जा सकता है। जिला पुलिस अधीक्षक से जनापेक्षा है कि पिछले तीन चार दिनों में जिन भी आरोपियों को पुलिस के द्वारा रिमाण्ड पर लिया गया है, उनके साथ क्या – क्या किया गया! कहाँ – कहाँ ले जाया गया, आदि की जानकारी ली जाये ताकि पुलिस के कुछ अधिकारी या कर्मचारी स्वेच्छाचारिता के चलते पुलिस की छवि को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं, उनकी इस प्रवृत्ति पर लगाम लगायी जा सके।