जानिए वर्ष 2020 में कब मनेगी होली एवम कब होगा होलिका दहन?

 

(पंडित दयानंद शास्त्री)

होलिका दहन, होली त्योहार का पहला दिन, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे धुलेंडी, धुलंडी और धूलि आदि नामों से भी जाना जाता है। होली बुराई पर अच्छाई की विजय के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। होलिका दहन (जिसे छोटी होली भी कहते हैं) के अगले दिन पूर्ण हर्षाेल्लास के साथ रंग खेलने का विधान है और अबीर गुलाल आदि एक दूसरे को लगाकर व गले मिलकर इस पर्व को मनाया जाता है।

भारत में मनाए जाने वाले सबसे शानदार त्योहारों में से एक है होली। दीवाली की तरह ही इस त्योहार को भी अच्छाई की बुराई पर जीत का त्योहार माना जाता है। हिंदुओं के लिए होली का पौराणिक महत्व भी है। इस त्योहार को लेकर सबसे प्रचलित है प्रहलाद, होलिका और हिरण्यकश्यप की कहानी। लेकिन होली की केवल यही नहीं बल्कि और भी कई कहानियां प्रचलित है। वैष्णव परंपरा मे होली को, होलिका प्रहलाद की कहानी का प्रतीकात्मक सूत्र मानते हैं।

इस वर्ष 2020 की होली पर बना है 3 ग्रहों का बहुत शुभ संयोग, श्रेष्ठ मुहूर्त में ही करें होली का पूजन, मिलेंगे शुभ वरदान

रंगों का पर्व होली इस वर्ष (सोमवार) 10 मार्च 2020 को मनाया जाएगा। इससे एक दिन पूर्व 09 मार्च को होलिका दहन होगा। होलिका दहन पर इस बार दुर्लभ संयोग बन रहे हैं। 

होलिका दहन का शास्त्रों के अनुसार नियम

फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से फाल्गुन पूर्णिमा तक होलाष्टक माना जाता है, जिसमें शुभ कार्य वर्जित रहते हैं। पूर्णिमा के दिन होलिका दहन किया जाता है। इसके लिए मुख्यतः दो नियम ध्यान में रखने चाहिए 

  1. पहला, उस दिन भद्रा न हो। भद्रा का दूसरा नाम विष्टि करण भी है, जो कि 11 करणों में से एक है। एक करण तिथि के आधे भाग के बराबर होता है।
  2. दूसरी बात, पूर्णिमा प्रदोषकाल व्यापिनी होनी चाहिए। सरल शब्दों में कहें तो उस दिन सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्तों में पूर्णिमा तिथि होनी चाहिए।

यह रहेगा होलिका दहन का शुभ मुहूर्त 

होलिका दहन मुहूर्त शाम 6 बजकर 40 मिनट से 6ः52 गोधूलि वेला अथवा 6ः28 बजकर 40 मिनट से 08 बजे तक चर का चौघड़िए में।

भद्रा दोपहर 1 बजकर 11 मिनीट तक

पूर्णिमा तिथि आरंभ सुबह 3 बजकर 3 मिनट से (9 मार्च 2020)

पूर्णिमा तिथि समाप्त रात 11 बजकर 16 मिनट तक (9 मार्च 2020)

होलिका दहन 2020 शुभ मुहूर्त 9 मार्च 2020 को यह रहेगा

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त प्रदोष समय

होलिका दहन मुहूर्त : 18ः40 से 21ः07ः तक

10 मार्च 2020 (रंगावली होली)

पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ 8/9मार्च 2020 सुबह 3ः03 बजे

पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ 9 मार्च 2020 रात 11ः14 बजे

होलिका दहन की पूजा में रक्षो रक्षोघ्न सूक्त का पाठ होता है। तीन बार परिक्रमा की जाती है। लोग गेहूं,चना व पुआ पकवान अर्पित करते हैं। सुबह उसमें आलू, हरा चना पकाते और खाते हैं। नहा धोकर शाम में मंदिर के पास जुटते हैं। नए कपड़े पहनकर भगवान को रंग अबीर चढ़ाते हैं। भस्म सौभाग्य व ऐश्वर्य देने वाली होती है। होलिका दहन में जौ व गेहूं के पौधे डालते हैं। फिर शरीर में ऊबटन लगाकर उसके अंश भी डालते हैं। ऐसा करने से जीवन में आरोग्यता और सुख समृद्धि आती है। 

इस तरह करें होलिका पूजन 

होलिका दहन से पहले होलिका पूजन विधिपूर्वक करना चाहिए। होलिका पूजन आप घर पर या फिर सार्वजानिक स्थल पर जाकर भी कर सकते है। आजकल सभी लोग अपने घर पर पूजा ना करके सार्वजानिक स्थल पर ही जाते है। सभी लोग मंदिर या चौराहे पर कंडो, गुलरी और लकड़ी से होलिका सजाते है। 

होलिका पूजन के लिए एक थाली में साबुत हल्दी,माला, रोली,फूल, चावल, मुंग, बताशे, कच्चा सूत, नारियल व एक लोटा जल लेकर बैठना चाहिए। इसके अतिरिक्त नई फसल की बालियां जैसे चने की बालियां या फिर गेहू की बालियां भी होनी चाहिए।

होलिका पूजन शाम के समय किया जाता है। पूर्व या उत्तर दिशा की और मुँह करके बैठे, सबसे पहले भगवान गणेश का समरण करे। इसके बाद भगवान नरसिंह को याद करते हुए गोबर से बनी हुई होलिका पर हल्दी, रोली, चावल, मुंग, बताशे अर्पित करने चाहिए। फिर होलिका पर जल चढ़ाये। उसके बाद होलिका के चारो और परिक्रमा करते हुए कच्चा सूत लपेटे, यह परिक्रमा सात बार करनी चाहिए। होलिका पर प्रह्लाद का नाम लेकर फूल अर्पित करे और फिर भगवान को याद करते हुए नए अनाज की बालियां अर्पण करे।

अंत में अपना और अपने परिवार का नाम लेकर प्रसाद चढ़ाये। और होलिका दहन के समय होलिका की परिक्रमा करे। फिर होलिका पर गुलाल डालने के बाद अपने बड़ो के पैरो में गुलाल डाल कर उनका आशीर्वाद ले।

होलिका पूजन से हर प्रकार से बुराई पर जीत प्राप्त होत्ती है। होलिका पूजन परिवार में सुख, समृद्धि और शान्ति लाता है। कई जगह पर लोग होलिका पूजन के दिन व्रत भी करते है व्रत होलिका दहन के बाद ही खोला जाता है।

(साई फीचर्स)