कोरोना वायरस: दिल्ली में 31 मार्च की आधी रात तक लॉकडाउन

जरूरी सेवाओं को रहेगी इजाजत

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने सभी 7 जिलों में लॉकडाउन का ऐलान किया है। सोमवार सुबह 6 बजे से 31 मार्च को आधी रात तक लॉकडाउन रहेगा।

इस दौरान सभी बाजार, व्यापारिक प्रतिष्ठान, दुकानें, पब्लिक ट्रांसपोर्ट सब बंद रहेंगे। पड़ोसी राज्यों से सटी दिल्ली की सीमा सील रहेगी। हालांकि, जरूरी सेवाएं बहाल रहेंगी। लॉकडाउन का ऐलान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फेंस में की। उनके साथ दिल्ली के एलजी अनिल बैजल भी मौजूद थे।

दिल्ली में कुल 27 केस, ट्रांसमिशन के सिर्फ 6

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया, ‘अभी दिल्ली में कोरोना वायरस के 27 केस हैं। इनमें से 6 केस ट्रांसमिशन हैं यानी ये केस ऐसे हैं जो एक से दूसरे में लगें। 21 केस ऐसे हैं, जो बाहर से यानी विदेश से आए। यह बताता है कि दिल्ली में अभी यह फैला नहीं है, ट्रांसमिशन के सिर्फ 6 केस हैं।

केजरीवाल ने बताया, क्यों जरूरी था लॉकडाउन

लॉकडाउन की जरूरत को बताते हुए उन्होंने कहा, ‘अगर आज हमने इसके ऊपर कठिन कदम नहीं उठाए, कल को अगर कुछ दिनों के अंदर मान लीजिए हजार केस हो गए, डेढ़ हजार केस हो गए और तब लॉकडाउन करेंगे तो उसका उतना असर नहीं होगा जैसे अभी इटली में देखने को मिल रहा है। दूसरा अगर ज्यादा केस होने के बाद हम लॉकडाउन करेंगे तो उन ज्यादा केसों को हमारे अस्पताल और शायद हमारा पूरा का पूरा हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर उससे डील नहीं कर पाएगा और ज्यादा मौत हो सकती हैं। इसीलिए हम सबने मिलकर तय किया है, आपकी सेहत के लिए कि कल (सोमवार) सुबह 6 बजे से 31 मार्च की आधी रात 12 बजे तक लॉकडाउन किया जाएगा।

लॉकडाउन के दौरान क्या-क्या खुले रहेंगे, क्या-क्या बंद

इस दौरान कोई भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सर्विस को इजाजत नहीं होगी। इसमें प्राइवेट बसें, टैक्सी, ऑटो रिक्शा, रिक्शा, ई-रिक्शा सब बंद रहेंगी।

डीटीसी की 25 प्रतिशत बसें चलेंगी और इसलिए ताकि जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले लोग अपने गंतव्य तक जा सकें।

दिल्ली के सारे शॉप्स, बाजार, व्यापारिक प्रतिष्ठान, फैक्ट्री, वर्कशॉप, ऑफिस, गोदाम, साप्ताहिक बाजार ये सब बंद रहेंगे।

दिल्ली से सटे सभी राज्यों के बॉर्डर सील कर दिए जाएंगे। जरूरी सामानों जैसे दूध, सब्जियां, खाने-पीने के सामानों की आपूर्ति को इजाजत होगी।

इंटरस्टेट बसें, ट्रेन और मेट्रो सेवाएं निलंबित रहेंगी।

सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द रहेंगी।

कंस्ट्रक्शन ऐक्टिविटी बंद रहेंगी।

सभी धार्मिक स्थान, चाहें जिस भी धर्म से जुड़ी हों, बंद रहेंगी।