जनता कर्फ्यू: ठहर गया पूरा राजस्थान, अभूतपूर्व बंदी

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जयपुर (साई)। जनता कर्फ्यू: ठहर गया पूरा राजस्थान, अभूतपूर्व बंदी कोरोना वायरस से निपटने के लिए पूरा देश एकजुट है। पीएम मोदी की अपील पर रविवार को जनता कर्फ्यू को अभूतपूर्व समर्थन मिला। रविवार से ही पूरे राजस्थान में 31 मार्च तक के लिए लॉकडाउन की शुरुआत हुई, लिहाजा पूरे सूबे सड़कें सूनी हैं। मुख्य बाजारों से लेकर बस स्टेशनों और रेलवे स्टेशनों तक पर सन्नाटा है। दुकानें बंद हैं। लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे।

मुख्य सड़कों के अलावा गलियां भी सुनसान

राजस्थान में लॉकडाउन और जनता कर्फ्यू की वजह से इमर्जेंसी सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद हैं। बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है।

जनता कर्फ्यू की वजह से लोग खुद ही घरों में

लोग खुद ही जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे हैं और बाहर निकलने से बच रहे हैं। यह दृश्य हनुमानगढ़ का है जहां अपने घर की खिड़की से एक शख्स बाहर झांकता दिख रहा है।

बाजारों में पसरा है सन्नाट

भरतपुर में भी सड़कें और यहां तक कि गलियां भी सुनसान हैं। लोग खुद को अपने-अपने घरों में कैद कर कोरोना वायरस महामारी से निपटने में केंद्र और राज्य सरकार की मदद कर रहे हैं।

सड़कों पर आम लोग नहीं, जगह-जगह पुलिस वाले

राजस्थान ही नहीं, पूरे देश में यही स्थिति है। रेलवे स्टेशनों, मुख्य बाजारों जैसी वे जगहें जो अब तक जगह गुलजार रहा करती थीं, वहां ढूढ़े से भी कोई नहीं मिल रहा। पुलिस और प्रशासन की टीम भी सड़क पर उतरकर लोगों से सहयोग की अपील करती दिखी।

श्रीगंगानर जिले में भी जनता कर्फ्यू को जबरदस्त समर्थन मिला। मुख्य सड़कों पर जहां तक नजर जा सकती है, कोई शख्स नहीं दिखा।

आम तौर पर गुलजार रहने वाली जगहें सूनी पड़ी हैं

आम तौर पर लोगों की खचाखच भीड़ से गुलजार रहने वाले बाजारों में सन्नाटा है। दुकानें पूरी तरह बंद हैं।