एक बार फिर सुनाई दे रही हाथियों की पदचाप

(ब्यूरो कार्यालय)

लखनादौन (साई)। सिवनी में लंबे समय तक विचरण करने वाले हाथियों ने एक बार फिर आमद दे दी है। हाथियों का झुण्ड फिर लखनादौन क्षेत्र में दिखाई दिया है।

जिले के लखनादौन ब्लॉक में हाथियों का जोड़ा फिर वापस आ गया है। पिछले माह हाथियों का दल नरसिंहपुर जिले की ओर गया था। दो दिनों से हाथियों का जोड़ा लखनादौन ब्लॉक के कई गांवों में दिखाई देने से ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है। सूचना के बाद वन अमला हाथियों की गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है।

हाथी देखकर भागे लोग

बताया जाता है कि शुक्रवार सुबह तकरीबन 08 बजे से हाथियों का जोड़ा घूरवाड़ा गांव पहुंच गया। यहां बांस के प्लांटेशन के पास जब हाथियों का जोड़ा आगे खेत की ओर बढ़ा तब खेत में काम कर रही कुछ महिलाएं हाथियों को देखकर दहशत में आ गई।

आनन फानन में महिलाएं घबराकर भागते हुए अपने घर पहुंची। घूरवाड़ा के कुंवरमन राय ने बताया कि उनके खेत में काम करने वाली महिलाओं की हालत हाथियों को देखकर बिगड़ गई। काफी देर बाद महिलाएं सामान्य हुई।

फसल बर्बाद कर रहे हाथी

लखनादौन ब्लॉक के जोबा, धनककड़ी, गोरखपुर व घूरवाड़ा सहित आसपास के गांवों में हाथी पहुंच रहे हैं। इस दौरान अनेक किसानों की फसल हाथियों ने बर्बाद कर दी है। इससे किसानों को खासा नुकसान हुआ है। किसानों ने वन विभाग से हाथी द्वारा बर्बाद की गई फसल की नुकसानी की मांग की है।

दहशत में ग्रामीण, नहीं कर पा रहे कटाई

कोरोना वायरस के कारण जिले में कर्फ्यू लगा हुआ है। इसके कारण अधिकांश किसान फसल की कटाई का काम शुरू तक नहीं कर पाए हैं। अब प्रशासन ने किसानों को फसल की कटाई के लिए छूट दी है। इस छूट के बावजूद लखनादौन क्षेत्र के जिन गांवों में हाथियों को देखा जा रहा है उन गांवों के किसान दहशत में फसल की कटाई नहीं कर पा रहे हैं। किसानों का कहना है कि समय पर कटाई नहीं की गई तो काफी नुकसान हो सकता है।

एक दिन पहले जोबा में देखे गए थे हाथी

एक दिन पहले गुरुवार को जोबा गांव के पास हाथियों के जोड़े को देखा गया था। सूत्रों के मुताबिक हाथियों का जोड़ा जोबा गांव से गोरखुपर, धनककड़ी, घूरवाड़ा पहुंचा। शुक्रवार दोपहर हाथियों का जोड़ा घूरवाड़ा से निकलकर मकरझिर गांव पहुंच गया है। वन विभाग के मुताबिक हाथी जहां से आए हैं उसी ओर वापस लौट रहे हैं।

200 मीटर दूर से रख रहे नजर – हाथियों के आने की खबर मिलते ही दो दिनों से वन अमला इन पर नजर रखे हुए है। 200 मीटर दूर से हाथियों की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। अमले में मौजूद वन कर्मियों का कहना है कि उन्हें सिर्फ हाथियों की गतिविधियों पर नजर रखने कहा गया है। कोई भी व्यक्ति हाथियों के करीब न पहुंचे इसकी समझाइश क्षेत्र के ग्रामीणों को दी जा रही है।

घबराएं नहीं, बनाए रखें दूरी

उत्तर वनमंडल लखनादौन के एसडीओ गौरव मिश्र ने बताया कि हाथियों के जोड़े ने अब तक कही कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है। जिस गांव में भी हाथी पहुंच रहे हैं उस गांव के लोग घबराएं नहीं। ग्रामीणों से कहा गया है कि वे हाथियों से 300 मीटर दूर रहें। हाथियों के पास जाने से वे उग्र होकर हमला कर सकते हैं। इसलिए जरुरी है कि जितना हो सके हाथियों से दूर रहा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *