गरीबों तक नहीं पहुंच पा रहा राशन

जिनके आवेदन लंबित हैं, उन तक भी पहुंचे राशन

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। कोरोना कोविड 19 के चलते प्रशासन के द्वारा गरीबों को घरों घर अनाज पहुंचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। जमीनी हकीकत इससे उलट नजर आ रही है। वास्तविक जरूरतमंद लोगों तक अभी भी सरकार या प्रशासन के द्वारा भेजा जाने वाला राशन और अनाज नहीं पहुंच पा रहा है।

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन से गरीब,मजदूर और छोटे दुकानदारों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। सरकार एवं प्रशासन गरीबों को दो जून की रोटी पहुंचाने की हर मुमकिन कोशिश कर रही है लेकिन फिर भी बड़े पैमाने पर लोग परेशान हैं। गरीबों तक राशन नहीं पहुंच पा रहा है। पिछले 15 दिनों में सीएम हेल्पलाइन पर करीब 15 हजार से शिकायतें दर्ज हुईं। इनमें से साढ़े नौ हजार से ज्यादा शिकायतें सिर्फ राशन न मिलने की आईं।

गत दिवस तक सीएम हेल्पलाइन में 14834 शिकायतें प्राप्त हुईं जिनमें से 9513 शिकायतों में लोगों ने कहा कि उन तक राशन नहीं पहुंचा है जिससे उनको इस लॉकडाउन के समय में खाने-पीने की बहुत परेशानी हो रही है। वहीं प्रशासन की सख्ती के बाद कई जगह कम्युनिटी किचिन बंद हो चुके हैं। वहीं भोपाल,इंदौर,उज्जैन में बढ़ते मामलों को देखते हुए टोटल लॉकडाउन किया गया है।

मुख्यमंत्री दे चुके हैं निर्देश:

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहले ही निर्देश दे चुके हैं कि सभी गरीबों को जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं उनको भी राशन दिया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए है कि प्रदेश में कोई भी गरीब भूखा नहीं सोयेगा। जो पीडीएस व्यवस्था के दायरे में नहीं आते उन सब को भी उचित मात्रा में राशन पहुँचाया जाए। सभी कलेक्टर ये व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे और इस के लिए जो भी ख़र्चा आएगा वो मध्य प्रदेश शासन वहन करेगा। सरकार की तरफ से हर जिले के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं जहां लोग अपनी राशन संबंधी समस्या को दर्ज करा सकते हैं।

प्रशासन को सलाह

समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया जिला प्रशासन से अपील करता है कि नगर पालिका सिवनी सहित नगर पंचायत बरघाट एवं लखनादौन में उन लोगों की सूची निकलवाई जाए जिनके द्वारा गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करते हुए राशन कार्ड के लिए आवेदन दिए गए थे, और उनके कार्ड नहीं बन पाए हैं। प्रशासन इन लोगों को भी राशन अगर मुहैया करता है तो वास्तविक गरीबों तक शासन की इमदाद पहुंचाई जा सकती है।