क्यों लगता है स्टेशन के नाम के अंत में टर्मिनल, सेंट्रल, जंक्शन

भारतीय रेलवे भारत के यातायात का एक प्रमुख साधन है। रेलगाड़ी के कारण भारत का विकास बहुत तेजी से हुआ है। ट्रेन के कारण ही बहुत सारे लोग एक साथ बहुत लंबी-लंबी दूरियां तय कर सकते हैं। इसका किराया भी कम होता है। ट्रेन में एक विशाल इंजन लगा हुआ रहता है जो काफी शक्तिशाली होता है।

ट्रेन बहुत सारे डिब्बों को एक साथ खींच सकता है और काफी तेज चल सकता है। ट्रेन का इस्तेमाल सिर्फ यात्रियों के आवागमन के लिए ही नहीं बल्कि भारी-भारी सामानों को ढोने के लिए भी किया जाता है। ट्रेन में लोग आराम से सफर करते हैं। पुराने जमाने में जहां एक जगह से दूसरी जगह जाने में हफ्तों लग जाते थे अब वहीं दूरियां ट्रेन की वजह से कुछ घंटों में तय कर सकते हैं। रेलगाड़ी की वजह से ही बहुत सारे गांव और शहर एक दूसरे से जुड़ पाए हैं। भारत की तरक्की में ट्रेन का एक महत्वपूर्ण योगदान है।

लोग ट्रेन में तो सफर करते हैं पर क्या अपने कभी ट्रेन से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानने की कोशिश की है? ट्रेन के बारे में कई ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं जिसके बारे में कम ही लोगों को पता होता है। परीक्षा में ट्रेन से संबंधित सवाल आने पर हम उसका जवाब नहीं दे पाते। रेलवे स्टेशनों के नाम तो आपने सुने ही होंगे पर क्या कभी आपने सोचा है कि कुछ स्टेशन के मुख्य नाम के साथ टर्मिनल, सेंट्रल और जंक्शन क्यों लगा होता है? उदाहरण के तौर पर लें तो मुंबई सेंट्रल, मथुरा जंक्शन, बांद्रा टर्मिनल आदि। यदि आप सोच रहे हैं कि इसके पीछे कोई तथ्य नहीं है और ये नाम ऐसे ही रख दिए गए हैं तो आप गलत हैं। जानिए क्याई राज छिपा है इसके पीछे 

टर्मिनल

यदि किसी स्टेशन के नाम के अंत में टर्मिनल लगा हुआ है तो इसका मतलब ट्रेन जिस डायरेक्शन से उस स्टेशन पर आई है उसी डायरेक्शन से वापस भी जायेगी। बेहतर से समझें तो दूसरी डायरेक्शन में रेलवे ट्रैक खत्म हो जाता है। इसलिए ट्रेन जिस डायरेक्शन से आती है उसी से वापस भी जाती है। भारत में कुल 27 ऐसे स्टेशन हैं जिनके नाम के साथ टर्मिनल लगा हुआ है।

सेंट्रल

स्टेशन के नाम के अंत में सेंट्रल लगने का मतलब वह शहर का सबसे व्यस्त स्टेशन है। मान लीजिये यदि किसी शहर में एक से ज्यादा स्टेशन हैं तो उनमें से जो सबसे पुराना और प्रमुख स्टेशन होगा उसके नाम के साथ अंत में सेंट्रल लगा होगा। भारत में कुल 5 ऐसे स्टेशन हैं जिनके नाम के पीछे सेंट्रल लगा है। उदाहरण के तौर पर मुंबई सेंट्रल, चेन्नई सेंट्रल, त्रिवेंद्रम सेंट्रल, मंगलोर सेंट्रल और कानपुर सेंट्रल।

जंक्शन

किसी स्टेशन के नाम के अंत में जंक्शन तब लगता है जब वहां ट्रेन आने-जाने के लिए 3 से अधिक रुट्स होते हैं। आसान भाषा में समझाएं तो ट्रेन ने जिस रूट से एंटर किया है उसके अलावा वह 2 अलग-अलग रूट से स्टेशन छोड़ सकती है। उदाहरण के तौर पर मथुरा जंक्शन (7 मार्ग), सेलम जंक्शन (6 मार्ग), विजयवाड़ा जंक्शन (5 मार्ग), बरेली जंक्शन (5 मार्ग)।

(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *