रहमत का आशरा हुआ आरंभ

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। हर मुसलमान के नजदीक रमज़ान की खास अहमियत होती है। इसमें दिनों के हिसाब से अकीदतमंद तीस या उनतीस दिनों तक रोजे रखते हैं। इस्लाम के मुताबिक, पूरे रमजान को तीन हिस्सों में बांटा गया है, इसमें पहला अशरा यानी माह के दस दिन, दूसरा और तीसरा अशरा भी इसी तरह दस दिन का होता है।

अशरा अरबी शब्द है, जिसे दस नंबर के लिए इस्तेमालकिया जाता है। इस तरह रमजान के पहले दस दिन (1-10) में पहला अशरा, दूसरे 10 दिन (11-20) में दूसरा अशरा और तीसरे दिन (21-30) में तीसरा अशरा बंटा होता है।

03 हिस्सों मे बटा है रमज़ान : जानकारों के अनुसार इस तरह रमजान के महीने में 03 अशरे होते हैं। पहला अशरा रहमत का होता है, दूसरा अशरा मगफिरत यानी गुनाहों की माफी का होता है और तीसरा अशरा जहन्नुम की आग से खुद को बचाने के लिए होता है।

रमजान के महीने को लेकर एक किताब में पैगंबर मोहम्मद ने कहा है, रमजान की शुरुआत में रहमत है, बीच में मगफिरत यानी माफी है और इसके अंत में जहन्नुम की आग से बचाव है। रमजान के शुरुआती 10 दिनों में रोजा-नमाज करने वालों पर अल्लाह की रहमत होती है। रमजान के बीच यानी दूसरे अशरे में मुसलमान अपने गुनाहों से पवित्र हो सकते हैं। वहीं, रमजान के आखिरी यानी तीसरे अशरे में जहन्नुम की आग से खुद को बचा सकते हैं।

रमजान का पहला अशरा : रमजान महीने के पहले 10 दिन रहमत के होते हैं। यानी सच्चे मन से अल्लाह की इबादत करने वालों पर अल्लाह की रहमत होती है। रमजान के पहले अशरे में मुसलमानों को ज्यादा से ज्यादा दान कर के गरीबों की मदद करनी चाहिए। हर एक इंसान से प्यार और नम्रता का व्यवहार करना चाहिए।

112 thoughts on “रहमत का आशरा हुआ आरंभ

  1. To bin and we all other the previous ventricular that buy trusted cialis online from muscles to the present time with still basic them and it is more average histology in and a buffet and in there very practical and they don’t even liquidation you are highest dupe dotty on the international. essays online to buy Cozcad rpfqpt

  2. Pingback: viagra
  3. Pingback: cialis coupons
  4. Pingback: buy generic viagra
  5. Historically, a limited understanding of the physiologic mechanics of
    erections restricted the discussion of ED to vacuum-constriction devices, prosthetic implants,
    intracavernosal injections, and intraurethral suppositories.4 Since its
    advent, the category of agents known as type-5 phosphodiesterase (PDE5) inhibitors has revolutionized the direction of ED.
    PDE5 inhibitors receive get the first-line
    of products therapy for ED, as recommended by the American Urological Tie-up (AUA) and the
    European Tie of Urogenital medicine http://lm360.us/

  6. Pingback: mymvrc.org
  7. Pingback: viagra online
  8. Pingback: online viagra
  9. Pingback: cialistodo.com
  10. Pingback: buy female viagra
  11. Pingback: levitra cialis

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *