18 अगस्त 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन सुनिए

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में मंगलवार 18 अगस्त 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
कोरोना के संक्रमित मरीजों की तादाद बहुत ही तेजी से बढ़ रही है। संक्रमित मरीजों का आंकड़ा सवा 27 लाख को पार कर गया है। वर्तमान में यह आंकड़ा 27 लाख 30 हजार 351 पहुंच गया है। देश में कुल एक्टिव मरीजों की तादाद से लगभग 13 लाख 30 हजार से ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। देश में अब तक सक्रिय मरीजों की तादाद 06 लाख 73 हजार 802 एवं रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 20 लाख 3 हजार 768 है, एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 52 हजार 274 है। अब तक देश में कुल 03 करोड़ 09 लाख 41 हजार 264 लोगों का कोविड परीक्षण कराया जा चुका है। इधर, मध्य प्रदेश में संक्रमित मरीजों की तादाद 46 हजार को पार कर गई है। यहां कुल संक्रमित मरीजों की तादाद से लगभग 24 हजार 793 से ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। प्रदेश में आंकड़ा 46 हजार 385 पहुंच गया है, जिसमें एक्टिव मरीजों की तादाद 10 हजार 232, रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 35 हजार 25 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 1 हजार 128 है। प्रदेश में अब तक 10 लाख 40 हजार से ज्यादा लोगों का टेस्ट कराया जा चुका है।
प्रदेश में 47 जिलों में मरीजों की तादाद 100 से अधिक है। प्रदेश में जिन जिलों में कोरोना के संक्रमित मरीजों की तादाद पांच सौ से ज्यादा है उनमें वर्तमान में इंदौर में 10 हजार 49 कुल मरीजों में से एक्टिव मरीजों की तादाद 03 हजार 87 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 344 है, भोपाल में 08 हजार 462 कुल मरीज, एक्टिव मरीजों की तादाद 1 हजार 372, जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 243, ग्वालियर में 03 हजार 409 कुल मरीजों में एक्टिव मरीजों की तादाद 691 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 24, मुरैना में कुल मरीजों की संख्या 1 हजार 895 एवं सक्रिय मरीजों की तादाद 129 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 11, उज्जैन में एक हजार 443 कुल में से एक्टिव मरीजों की तादाद 189 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 76, जबलपुर में कुल 02 हजार 486 संक्रमित मरीजों में से 740 एक्टिव एवं 53 लोग काल कलवित हुए हैं, खरगौन में कुल मरीजों की संख्या 01 हजार 132, एक्टिव मरीजों की तादाद 200 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 23, बड़वानी में कुल 971 में से एक्टिव मरीजों की तादाद 118 एवं जिनका निधन हुआ उनकी संख्या 10, नीमच में कुल मरीजों की संख्या 922 एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 103 व जिनका निधन हुआ उनकी तादाद 11, सागर में 881 कुल एवं एक्टिव 155 व जिनका निधन हुआ उनकी संख्या 40, खण्डवा में 770 कुल मरीजों में से संक्रमित मरीज 79 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 20, रतलाम में कुल 698 मरीजों में से एक्टिव मरीज 143 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 15, भिण्ड में कुल 528 संक्रमित मरीजों में से एक्टिव मरीज 30 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 03, धार में कुल 582 मरीजों में से 109 संक्रमित व जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 12, बुरहानपुर में कुल 516 मरीजों में से एक्टिव मरीज 24 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 25, देवास में कुल 539 मरीजों में एक्टिव मरीज 71 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 15, विदिशा में कुल 572 मरीजों में से 136 एक्टिव एवं जिनका निधन हुआ उनकी तादाद 10, रीवा में कुल 535 मरीजों में से एक्टिव मरीज 129 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 09, रायगढ़ में कुल 539 मरीजों में से 148 एक्टिव एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 12, मंदसौर में कुल 593 मरीजों में से एक्टिव मरीज 104 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 12 है। प्रदेश में एक भी जिले में एक्टिव मरीजों की तादाद शून्य नहीं है।
—–
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जनकल्याण के लिए संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन की गति बढ़ाई जाए। स्वतंत्रता दिवस 2020 पर की गई व्यापक जनहित की घोषणाओं, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए रोडमेप और उसके अमल के साथ ही उन योजनाओं को जमीन पर उतारने के पूरे प्रयास किए जाएं, जिनका क्रियान्वयन गत वर्ष गंभीरता से नहीं किया गया। विभिन्न कार्यों के लिए शिलान्यास और लोकार्पण भी भौतिक रूप से और जहां कोरोना का प्रभाव है वहां तकनीक के माध्यम से संपन्न किए जाएं। सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सावधानियों का पालन करते हुए इनमें विभिन्न मंत्री सम्मिलित होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं भी लोकार्पण कार्यक्रमों में जाएंगे। कोरोना पर नियंत्रण की दृष्टि से स्थितियां सामान्य होते ही ये कार्यक्रम आयोजित होंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में शासकीय सेवाओं में प्रदेश के ही विद्यार्थियों को लिया जाएगा। इसके लिए आवश्यक वैधानिक प्रावधान किए जाएंगे।
—–
पूरे मध्यप्रदेश में परिवहन विभाग अब हेलमेट को लेकर नए मानक तय करने जा रहा है। बता दें कि अब परिवहन विभाग नापतौल विभाग के साथ में मिलकर हेलमेट चेकिंग का विशेष अभियान चलाएगा। हेलमेट चेकिंग के इस अभियान में ये ये देखा जाएगा कि आपके हेलमेट का वजन कितना है। जिन लोगों के हेलमेट का वजन 1.2 किलो से ज्यादा होगा, उन्हें मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 1000 रुपए का जुर्माना भरना होगा।
जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीते कुछ दिनों पहले ही सड़क परिवहन मंत्रालय ने एक नोटिफिकेशन जारी कर सब स्टैंडर्ड हेलमेट का चलन खत्म करने के लिए मानक लागू किए हैं। इस नियम को परिवहन विभाग अब पूरी गाइडलाइन के साथ मध्यप्रदेश में लागू करने की तैयारी भी कर रहा है। बात मध्यप्रदेश की करें तो यहां पर अभी हेलमेट को लेकर ऐसे कोई भी नियम अभी तय नहीं हैं लेकिन अब परिवहन विभाग का कहना है कि यहां पर भी विशेष अभियान चलाकर हेलमेट के वजन के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी।
—–
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के रातीबड़ क्षेत्र में एक होटल में पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए सेक्स रैकेट को पकड़ा है। पुलिस ने होटल से 5 युवतियों समेत 8 पुरुष को हिरासत में लिया है। होटल में अवैध रूप से शराब भी परोसी जा रही थी। पुलिस के मुताबिक राजधानी भोपाल के रातीबड़ क्षेत्र में होटल वर्मन में सेक्स रैकेट चल रहा था। रातीबड़ थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस को इसके बारे में सूचना मिलने पर विशेष टीम का गठन कर दबिश दी गई जिसमें युवक-युवतियों को आपत्तिजनक हालत में पकड़ा गया है। सभी को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।
—–
जबलपुर के कैचमेंट एरिया में हुई भारी बारिश के चलते बरगी डैम का जलस्तर तेजी से बढ़ा है। इसके साथ जबलपुर में ग्वारी घाट और नर्मदा मंदिर समेत सभी घाट डूब गए हैं। इस वजह से प्रशासन ने बरगी डैम के 13 गेट खोलने का निर्णय लिया है। मंगलवार को दोपहर तक आठ गेट खोले जा चुके थे। बरगी डैम से एक लाख 21 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा। इसे देखते हुए 8 जिलों को हाईअलर्ट कर दिया गया है, इसमें सिवनी, मंडला, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, सीहोर, खरगोन और कटनी जिले शामिल हैं।
—–
मंगलवार को बरगी डैम को खोलने के लिए प्रशासनिक अमला भी मौके पर पहुंचा। हर साल अच्छी बारिश होने पर जुलाई में ही बरगी डैम के कुछ गेट खोलने पड़ते थे, लेकिन इस बार बारिश देरी से हुई, लेकिन अगस्त में जमकर बरसा। इस वजह से बरगी डैम के गेट खोले गए। बरगी डैम के गेट खुलने पर यहां का नजारा देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग एकत्र होते थे, लेकिन इस बार कोरोना की वजह से लोगों को आने से रोक दिया गया है।
—–
सुप्रीमकोर्ट ने 22 विधायकों के इस्तीफे पर एमपी विधानसभा से जवाब तलब किया है। मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने बताया कि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति द्वारा जिन 22 विधायकों का विधिसंवत इस्तीफा स्वीकार किये थे, उसी सम्बंध में सर्वाेच्चय न्यायालय द्वारा जो नोटिस आया है। विधि विशेषज्ञों से सलाह के बाद सुप्रीम कोर्ट के समक्ष जवाब प्रस्तुत किया जाएगा।
—–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जाने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
ओबीसी आरक्षण बढ़ाकर 27 फीसद करने को चुनौती पर मंगलवार को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। प्रशासनिक न्यायाधीश संजय यादव व जस्टिस बीके श्रीवास्तव की युगलपीठ ने 14 फीसद से अधिक ओबीसी आरक्षण पर लगाई गई रोक आगामी आदेश तक बरकरार रखने का निर्देश दिया। अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद करने के निर्देश दिए गए।
जबलपुर की छात्रा आकांक्षा दुबे सहित अन्य की ओर से राज्य सरकार के 8 मार्च 2019 को जारी संशोधन अध्यादेश को चुनौती दी गई है। कहा गया कि संशोधन के कारण ओबीसी आरक्षण 14 से बढ़ाकर 27 फीसदी हो गया। जिससे कुल आरक्षण का कुल प्रतिशत 50 से बढक़र 63 हो गया है। जबकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण नहीं किया जा सकता। एक अन्य याचिका में कहा गया कि एमपीपीएससी ने नवंबर 2019 में 450 शासकीय पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया में 27 प्रतिशत पद पिछड़ा वर्ग हेतु आरक्षित कर लिए।
—–
संक्रमण से निपटने के लिए हर स्तर पर भीड़ कम करने की कवायद की जा रही है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण लॉकडाउन है लेकिन यह बात गैस राहत विभाग के अधिकारियों को कम समझ में आ रही है। विभाग ने शहर में गैस पीड़ितों के इलाज के लिए संचालित चार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के भवनों को तोड़ने का निर्णय ले लिया है, इनमें से तीन स्वास्थ्य केंद्रों में आने वाले गैस पीड़ित मरीजों को दूसरे अस्पतालों में जाने की सलाह दी है।
अब गैस पीड़ित मरीजों का कहना है कि जिन अस्पतालों में जाने की सलाह दी गई हैं वहां पहले से मरीजों की संख्या अधिक है। ऐसे में इन स्वास्थ्य केंद्रों से भी मरीज जाएंगे तो उक्त अस्पतालों में भीड़भाड़ होगी, संक्रमण का खतरा भी रहेगा। गैस राहत विभाग ने इस गंभीर आपत्ति को अभी तक हल नहीं किया है।
—–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में मंगलवार 18 अगस्त का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। बुधवार 19 अगस्त को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।