सिवनी के भूकंप की ली सीएम ने जानकारी

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में रविवार 22 नवंबर 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
—–
मध्य प्रदेश का सिवनी जिला पिछले कुछ सप्ताह से भूकंप के मामले में सक्रिय दिख रहा है। अक्टूबर के उपरांत अचानक ही सिवनी जिले मेें एक के बाद एक भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। सोशल मीडिया पर जमकर चीख पुकार होने के बाद केंद्रीय प्रथ्वी विज्ञान मंत्रालय का एक दल सिवनी आया और उसके द्वारा जिले के तीन स्थानों पर सिस्मोमीटर की स्थापना की गई। इन मीटर्स की स्थापना के बाद शनिवार एवं रविवार की दर्मयानी रात में अचानक ही धरती डोली, एक के बाद एक झटके महसूस किए जाने से लोगों में दहशत व्याप्त हो गई। यहां तक कि प्रशासन की ओर से इस बारे में जानकारी दोपहर को ही साझा की गई। सिस्मोमीटर लगाए जाने और केंद्रीय दल के सिवनी आने के बाद भी इस तरह के झटकों के आने का कारण लोगों के समक्ष स्पष्ट न किए जाने से लोगों में रोष असंतोष और भय का वातावरण बना हुआ है।0
—–
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 21 और 22 नवम्बर की मध्यरात्रि सिवनी में आए भूकंप के झटकों के संबंध में सिवनी जिला प्रशासन से विस्तृत जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत सरकार के मेट्रोलॉजी विभाग से सतत् संपर्क में रहते हुए भूकंप की स्थिति में बरती जानी वाली सावधानियों की जानकारी प्राप्त कर आमजन को अवगत करवाया जाए ताकि आमजन में भय की भावना उत्पन्न न हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रशासन द्वारा नागरिकों को विभिन्न जनमाध्यमों से आवश्यक परामर्श भी दिया जाए।
उल्लेखनीय है कि सिवनी में गत 26 अक्टूबर को भी 3.3 रिएक्टर के भूकंप के झटके रिकार्ड किये गये थे। अब पुनः शनिवार और रविवार की मध्य रात्रि 4.3 रिएक्टर की तीव्रता का भूकंप दर्ज हुआ है। इसका एपीसेंटर 10 किलोमीटर गहराई में स्थित है। सिवनी जिला प्रशासन भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिकों के निरंतर सम्पर्क में बना हुआ है।
नागरिकों की जानमाल की हिफाजत के लिये आवश्यक सतर्कता के निर्देश दिये गये हैं। पुलिस, होम गार्ड, एसडीआरएफ, स्वास्थ्य और नगरीय प्रशासन सहित संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित करते हुए अलर्ट रहने को कहा गया है।
—–
प्रदेश में गो-संरक्षण और संवर्धन के लिए सरकार के सभी विभाग मिलकर काम करेंगे। आगर-मालवा के सालरिया में स्थित गो-अभयारण्य में गो-संवर्धन अनुसंधान केंद्र स्थापित किया जाएगा। गाय के गोबर का अधिक से अधिक उपयोग किया जाएगा। गो-मूत्र के औषधि उपयोग में वृद्धि की जाएगी। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहली गो-कैबिनेट में कही।
वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई गो-कैबिनेट में इसके गठन की रूपरेखा प्रस्तुत की गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि गाय के गोबर का अधिक से अधिक उपयोग होना चाहिए। पर्यावरण को बचाने में गो-काष्ठ का उपयोग व्यापक स्तर पर किया जाएगा। अतिकुपोषित बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्रों में अंडा नहीं दूध मिलेगा। गो-मूत्र के औषधि उपयोग में वृद्धि की जाएगी।
—–
माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने सत्र 2020-21 से दसवीं में लागू बेस्ट ऑफ फाइव योजना को बंद करने का फैसला लिया है। इस योजना के लागू होने से अधिकतर विद्यार्थियों ने गणित और अंग्रेजी विषय को पढ़ना छोड़ दिया था। योजना के तहत हर साल करीब डेढ़ लाख विद्यार्थियों को पास किया जाता है।
हर साल गणित व अंग्रेजी विषय में विद्यार्थी अधिक फेल होते हैं। वहीं साल 2019-20 में कोरोना काल में दसवीं में दो पेपर निरस्त कर दिए गए थे तो बेस्ट ऑफ फाइव के बदले बेस्ट ऑफ फोर योजना भी लागू की गई । इस बार मंडल ने इस योजना को बंद करने की पूरी तैयारी कर ली है, इस पर अंतिम मुहर तीन दिन बाद होने वाली कार्यपालिका समिति की बैठक में मंडल अध्यक्ष राधेश्याम जुलानिया लगाएंगे। इस योजना के समाप्त होने के बाद हर साल दसवीं में फेल और सप्लीमेंट्री विद्यार्थियों की संख्या बढ़ेगी। बता दें कि हर साल दसवीं व बारहवीं बोर्ड परीक्षा में करीब 20 लाख विद्यार्थी शामिल होते हैं।
—–
प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को एक घंटे की समीक्षा बैठक की। इसमें जिलों से आई क्राइसिस मैनेजमेंट रिपोर्ट पर मंथन हुआ। यह सामने आया कि प्रदेश में 9 जिलों इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, विदिशा, रतलाम, धार, दतिया, अशोकनगर, शिवपुरी जिलों में संक्रमण सबसे ज्यादा है। शिवराज ने कलेक्टरों को निर्देश दिए कि इन जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के फैसलों को लागू किया जाए।
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि वे बंद के पक्ष में नहीं हैं, क्योंकि इससे आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित होती हैं। लिहाजा, जिला प्रशासन सख्ती न बरते, बल्कि व्यापारियों से बाजार बंद करने की अपील करे। साथ ही उन्हें कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने के लिए प्रेरित करे। मुख्यमंत्री ने कोरोना की स्थिति की समीक्षा के लिए 24 नवंबर को फिर बैठक बुलाई है।
—–
राजधानी में दो साल बाद नवंबर माह में शनिवार-रविवार की रात अब तक की सबसे सर्द रही। यहां तापमान डेढ़ डिग्री सेल्सियस गिरकर 10.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। वर्ष 2018 में नवंबर में सबसे सर्द रात 11.4 डिग्री सेल्सियस की थी। जबकि वर्ष 2017 में नवंबर में रात को न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। अभी उत्तर भारत से आने वाली बर्फबारी के कारण ठंडक बढ़ गई है। मौसम वैज्ञानिक पीके साहा के अनुसार एक दो दिन में न्यूनतम तापमान और नीचे जा सकता है। यह वर्ष 2017 के रिकॉर्ड को भी तोड़ सकता है।
भोपाल की बड़ी झील का सुबह का दृश्य। वर्ष 2017 में नवंबर में सबसे कम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस तक रहा था। भोपाल की बड़ी झील का सुबह का दृश्य। वर्ष 2017 में नवंबर में सबसे कम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस तक रहा था।
साहा ने बताया कि इस बार ठंड ज्यादा पड़ेगी। पश्चिमी विक्षोभ के लगातार आने के कारण ठंडी रहेगी। अभी दक्षिणी अरब सागर में सुस्पष्ट निम्न दाब क्षेत्र अभी भी सक्रिय है, जबकि चक्रवातीय परिसंचरण अब उड़ीसा में समुद्र तल से 0.9 किमी की ऊँचाई पर सक्रिय है। अद्यतन पश्चिमी विक्षोभ मध्य क्षोभ मंडल की पछुआ पवनों के बीच एक ट्रफ समुद्र तल से 3.1 किमी की ऊंचाई पर धुरी बनाते हुए सक्रिय है।
साथ ही दक्षिणी बंगाल की खाड़ी, हिंद महासागर में एक निम्न दाब क्षेत्र सक्रिय हो चुका है। इससे मौसम में परिवर्तन हो रहा है। दिन में भी इसके कारण ठंडक बढ़ेगी। शनिवार को दिन का अधिकतम तापमान सामान्य से 4 डिग्री सेल्सियस कम 25 डिग्री सेल्सियस तक रहा।
—–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जाने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
प्रदेश के सिवनी जिले में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रात्रि करीब 1.45 बजे तेज आवाज़ के साथ भूकंप का झटका आया। जिसके बाद लोगों को अपने घरों से बाहर निकलना पड़ा। इसके साथ ही देखते-देखते शहर में पुलिस की सायरन गूंजने लगी। एक टायर की एजेंसी के सीसीटीवी कैमरे में भूकंप का झटके रिकॉर्ड हो गया। करीब तीन माह के अंदर आए झटकों में यह सबसे तेज बताया जा रहा हैं। घर से बाहर निकले लोगों ने आग जलाकर सुबह होने का इंतजार कर रहे हैं। भूकंप की तीव्रता 4.7 दर्ज की गई है।
बीती रात करीब 01ः45 पर भी तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.3 मापी गई। इसके उपरांत दो झटके और आए जिनकी तीव्रता कम थी। कड़कड़ाती ठंड में लोग घरों से बाहर खड़े होने को मजबूर हो गए। जानकारी के मुताबिक सिवनी में ये अब तक का सबसे ज्यादा तीव्रता वाला भूकंप था। जिसके कारण लोगों में दहशत है।
—–
ओटीटी प्लेटफार्म पर आ रहे ए सूटेबल बॉय सीरीज़ में महेश्वर में दर्शाए गए अश्लील सीन पर आपत्ति दर्ज करते हुए प्रोटेम स्पीकर रामेशवर शर्मा ने कहा कि फ़िल्म के निदेशक इस तरह के सीन फिल्मों में डालना प्रतिबंधित करे अन्यथा फिल्में चलना ही बन्द हो जाएंगी। इसी के साथ उन्होंने बताया कि महेश्वर लोगो की मुक्ति के लिए है।
ऐसा चुम्बन का सीन हिन्दू देवी देवताओं के मंदिरों पर ही नहीं होगा कभी किसी मुस्लिम लड़के को मुस्लिमो की मस्जिद में चुंबन सीन करके बताओ, तब पता चलेगा।किसी हिन्दू बेटी के साथ हिन्दू धार्मिक स्थलों पर ऐसा सीन करने का नाम ही लव जिहाद है। हम फ़िल्म के निदेशकों के खिलाफ जगह-जगह थ्प्त् कराएंगे ओर अपनी आपत्ति दर्ज कराएंगे। आपको बता दे कि प्रोटेम स्पीकर रामेशवर शर्मा से पहले गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी इस पर अपनी आपत्ति दर्ज कराकर कार्यवाही की बात कह चुके है।
—–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में रविवार 22 नवंबर का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। सोमवार 23 नवंबर को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते हैं। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———