नहीं पड़ेगी फाइजर कंपनी की वैक्सीन की आवश्यकता!

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में मंगलवार 24 नवंबर का राष्ट्रीय ऑडियो बुलेटिन.
——-
योगी सरकार ने लव जिहाद पर अध्यादेश पास कर दिया है। मंगलवार को हुई उत्तर प्रदेश कैबिनेट की बैठक में यह अध्यादेश पास किया गया। उत्तर प्रदेश सरकार ने कुछ दिन पहले ही ऐलान किया था कि हम लव जिहाद पर नया कानून बनाएंगे जिससे लालच, दबाव, धमकी या शादी का झांसा देकर शादी की घटनाओं को रोका जा सके। मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि आज उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म सम परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 लाया गया है जो उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था सामान्य रखने के लिए और महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए आवश्यक है।
यूपी के गृह विभाग ने लव जिहाद के खिलाफ प्रस्तावित कानून का मसौदा पहले ही तैयार कर लिया था। इस मसौदे को परीक्षण के लिए विधायी विभाग को भी भेज दिया गया था। हालांकि विभाग ने कानून का जो मसौदा तैयार किया है उसमें लव जिहाद शब्द का जिक्र नहीं है। इसे गैर कानूनी धर्मांतरण निरोधक बिल कहा जा रहा है।
मंगलवार की सुबह यूपी कानून आयोग के अध्यक्ष आदित्यनाथ मित्तल ने भी कहा कि दो अलग-अलग धर्म के लोग आपस में शादी कर सकते हैं लेकिन नए कानून में व्यवस्था अवैध रुप से धर्मांतरण को लेकर है। इसमें 3 साल, 7 साल और 10 साल की सजा का प्रावधान है। नए कानून के जरिए अवैध रुप से धर्मांतरण कर शादी करने पर रोक लगेगी।
——-
पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए वैक्सीन का इंतजार हो रहा है। भारत में भी कोरोना वैक्सीन के कई कैंडिडेट हैं, जो ट्रायल में बेहतर परिणाम दिखा रहे हैं।
इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि देश को शायद फाइजर कंपनी की कोरोना वैक्सीन की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने दोहराया कि भारत को कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में फाइजर के टीके की आवश्यकता नहीं हो सकती है, क्योंकि देश में अन्य वैक्सीन का परीक्षण किया जा रहा है, जो अब तक सेफ्टी ट्रायल्स में आशाजनक परिणाम दिखा रहे हैं।
मीडिया रिपोटर््स के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि फाइजर-बायो एन टेक के वैक्सीन पर विचार करने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि अमेरिकी नियामक प्राधिकरण ने भी अभी तक इसकी वैक्सीन को मंजूरी नहीं दी है। उन्होंने कहा कि अगर फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी मिल भी जाती है तो इसके निर्माता दूसरे देशों को वैक्सीन की आपूर्ति करने से पहले अपनी स्थानीय आबादी को वैक्सीन मुहैया कराने का प्रयास करेंगे। भारत में अभी तक कम से कम वैक्सीन के पांच कैंडिडेट हैं, जिनके कोविड-19 वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल जारी है। इनमें से तीन वैक्सीन तो सेफ्टी और प्रभाव साबित करने के लिए दूसरे और तीसरे फेज के ट्रायल में हैं।
सीरम इंस्ट्टीट्यूट ऑफ इंडिया, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के साथ मिलकर ऑक्सफोर्ड – एस्ट्रा जेनेका वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल कर रहा है। वहीं, भारत बायोटेक के कोविड-19 के टीके कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण आरंभ हो गया है। कोवैक्सीन के दूसरे चरण का नतीजा कभी भी आ सकता है। दवा बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक कोविड-19 के लिये अपनी वैक्सीन को अगले वर्ष दूसरी तिमाही में पेश करने की योजना बना रही है।
इसके अलावा, कैडिला हेल्थ की वैक्सीन जेड.वाय. सी.ओ.वी. डी. ने भी दूसरे चरण का परीक्षण पूरा कर लिया है और परिणाम का इंतजार हो रहा है। इस वैक्सीन के फॉलोअप का समय भी अब खत्म होने वाला है। इन तीनों के अलावा, रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-व्ही के दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के लिए भारत के डॉ. रेड्डी की प्रयोग शालाओं ने रूसी वैक्सीन डेवलपर्स के साथ करार किया है और इस पर इस सप्ताह से काम आरंभ हो जाएगा।
——-
अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (ए.आई.बी.ई.ए.) ने केंद्रीय ट्रेड यूनियन्स की 26 नवंबर को राष्ट्रव्यापी आम हड़ताल में शामिल होने की घोषणा की है। भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियन्स ने 26 नवंबर को राष्ट्रव्यापी आम हड़ताल की घोषणा की है।
ए.आई.बी.ई.ए. ने मंगलवार को बयान में कहा कि लोकसभा ने हाल में संपन्न सत्र में तीन नए श्रम कानूनों को पारित किया है और कारोबार सुगमता के नाम पर 27 मौजूदा कानूनों को समाप्त कर दिया है। ये कानून शुद्ध रूप से कॉरपोरेट जगत के हित में हैं। इस प्रक्रिया में 75 प्रतिशत श्रमिकों को श्रम कानूनों के दायरे से बाहर कर दिया गया है। नए कानूनों में इन श्रमिकों को किसी तरह का संरक्षण नहीं मिलेगा।
——-
भारत ने मंगलवार को जिन 43 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया है, उनमें स्नैक वीडियो भी शामिल है। स्नैक वीडियो एक चाइनीज ऐप है जो टिकटॉक पर बैन के बाद तेजी से लोकप्रिय होकर उसका स्थान ले रहा था। इसके अलावा ताजा लिस्ट में वी डेट, ट्रूली चाइनीज, चाइना लव समेत तमाम डेटिंग ऐप्स शामिल हैं। भारत अब तक 267 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगा चुका है।
जून के आखिर में जब पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर था तब सबसे पहले टिकटॉक समेत 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन की गाज गिरी थी। इन ऐप्स पर जब बैन लगा तब उनसे जुड़ी कंपनियों ने उन ऐप्स के क्लोन्स बना लिए जैसे टिकटॉक का टिकटॉक लाइट, हेलो का हेलो लाइट, शेयर इट का शेयर इट लाइट। इसके बाद सरकार ने 27 जुलाई को 47 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगा दिया जिसमें से ज्यादातर या तो पहले से प्रतिबंधित ऐप्स के क्लोन थे या फिर उनसे मिलते-जुलते थे।
——-
इंडियन न्यूज पेपर सोसायटी (आई.एन.एस.) ने केरल सरकार द्वारा पुलिस अधिनियम में विवादास्पद संशोधन करके अध्यादेश लाने का मंगलवार को कड़ा विरोध किया और मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से उसे वापस लेने एवं प्रेस की आजादी बहाल करने अपील की।
एक बयान में इंडियन न्यूज पेपर सोसायटी के अध्यक्ष एल. आदिमूलम ने केरल सरकार द्वारा जारी अध्यादेश पर निराशा एवं स्तब्धता प्रकट की। केरल सरकार ने मान हानिकारक समझी जाने वाली सामग्री के प्रकाशन को लेकर कठोर दंड के वास्ते पुलिस अधिनियम में संशोधन किया है। आई.एन.एस. का कड़ा बयान ऐसे समय में आया है जब एक दिन पहले ही लोकतांत्रिक मोर्चा सरकार ने विभिन्न वर्गों की आलोचना के मद्देनजर इस संशोधन के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी।
आई.एन.एस. अध्यक्ष ने कहा कि समाचार पत्रों का संगठन इस सख्त अध्यादेश को जारी किये जाने का कड़ा विरोध करता है, जो संविधान प्रदत्त प्रेस की आजादी का इस्तेमाल करने पर केरल में प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक एवं डिजिटल मीडिया को परेशान करने और उन पर मुकदमा चलाने की पुलिस और राज्य सरकार को निरंकुश शक्तियां प्रदान करेगा।
——-
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य, यात्रा या समारोह आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——-
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्य मंत्रियों से कहा है कि कोरोना संक्रमण को लेकर हमारे पास पर्याप्त आंकड़े हैं। हमें पूरी तैयारी करनी होगी।
उन्होंने कहा कि लोगों में पहले खौफ था, फिर लोगों में एक-दूसरे के प्रति संदेह हुआ। अब लोग बीमारी के प्रति गंभीर हैं और ऐहतियात बरत रहे हैं, लेकिन फिर भी काफी लोग महसूस कर रहे हैं कि वायरस कमजोर हो गया है। पीएम मोदी ने याद दिलाया, आपदा के गहरे समंदर से निकले हैं हम और किनारे की तरफ बढ़ रहे हैं। कहीं ऐसा न हो जाए कि हमारी कश्ती वहां डूबे जहां पानी कम था। ये स्थिति हमें नहीं आने देना है। उन्होंने कहा कि जिन देशों में कोरोना कम हो रहा था, वहां तेजी से बढ़ रहा है और देश में भी कुछ राज्यों में यह स्थिति चिंताजनक है।
दरअसल भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को आठ राज्यों के मुख्य मंत्रियों के साथ आगे के रोडमैप पर मैराथन मीटिंग ली। बैठक में उन सूबों के सीएम शामिल थे, जहां पर हाल-फिलहाल में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी आई है। पीएम ने इस दौरान वैक्सीन के आने के समय, डोज और कीमत आदि से लेकर अन्य चीजों पर अपनी बात रखी। इसी के साथ उन्होंने साफ किया कि कोई भी अपना विचार थोप नहीं सकता है और सभी को मिलकर काम करना होगा।
——-
राजधानी दिल्ली में एक तरफ कोरोना वायरस दोबारा तेजी से कहर ढा रहा है तो दूसरी तरफ सुरक्षा उपायों के उल्लंघन की शिकायतें भी लगातार बढ़ रही है। दिल्ली सरकार मास्क नहीं लगाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए 2000 रुपए का जुर्माना लगा रही है।
इस बीच बीजेपी ने कुछ तस्वीरें जारी कर आरोप लगाया है कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया एक शादी समारोह में बिना मास्क लगाए शामिल हुए हैं। पार्टी का दावा है कि यह तस्वीरें सोमवार की हैं। बीजेपी ने तस्वीरें शेयर कर पूछा कि इनका चालान कटेगा या नहीं, क्या उप मुख्यमंत्री नियमों से ऊपर हैं। हाल ही में मनीष सिसोदिया लोगों के बीच मास्क बांटते और कोरोना को लेकर जागरूकता फैलाते हुए दिल्ली के इलाकों में नजर आए थे।
दिल्ली बीजेपी ने तस्वीरें ट्वीट कर लिखा, सीएम साहब, ये आपकी सरकार में उप मुख्यमंत्री हैं, और यह कल की तस्वीर हैं। न मास्क है न सोशल डिस्टेंसिंग, लेकिन इनका चालान नहीं कटेगा क्योंकि आप और आपके नेता खुद को क़ानून से ऊपर समझते हैं। चालान केवल जनता भरेगी और आप उस पैसे से विज्ञापन देंगे।
—-
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में शरद खरे से मंगलवार 24 नवंबर का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन। बुधवार 25 नवंबर को एक बार फिर हम ऑडियो बुलेटिन लेकर उपस्थित होंगे, आपको ये ऑडियो बुलेटिन यदि पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब अवश्य करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह प्रत्येक वीडियो के अंत में हम आपको बताते ही हैं। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)