हाईटेक डिवाईस से नकल करते एक धराया!

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में सोमवार 30 नवंबर 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
——-
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का नाम भोजपाल रखे जाने का विवाद अभी थमा भी नहीं है कि, हालही में शहर के एक अन्य इलाके के नाम बदलने की चर्चा पर विवाद खड़ा होने लगा है। जहां एक तरफ भजपा ने शहर के ईदगाह हिल्स इलाके का नाम बदलकर गुरुनानक देव जी के नाम पर रखने की सलाह दी है, वहीं कांग्रेस इसे सामाजिक ताने-बाने की विरोधी सलाह बता रही है।
विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर और भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा द्वारा भोपाल के ईदगाह हिल्स इलाके का नाम बदलकर गुरुनानक टेकरी रखना चाहिए। प्रकाश पर्व के दौरान रामेश्वर शर्मा ने कहा कि, ये भोपाल का सौभाग्य है कि, 500 साल पहले गुरुनानक देव जी भोपाल आए थे। वो भारत भ्रमण के दौरान राजधानी में रुके थे। इसी लिए इलाके का नाम उनके नाम पर होना चाहिए।
रामेश्वर शर्मा ने आगे ये भी कहा कि, ये राजा भोज की नगरी का सौभाग्य है कि, यहां उनके चरण पड़े। रामेश्वर ने सवाल करते हुए कहा कि, कोई बताए 500 साल पहले यहां किसका मकान था। पहले तो ये गुरुनानक टेकरी ही थी। इसीलिए इस इलाके का वही नाम होना चाहिए। ईदगाह तो यहां बाद में बनाई गई। हमें सत्य को स्वीकार करना होगा।
इसके बाद कांग्रेस नेता और प्रदेश प्रवक्ता के.के मिश्रा ने रामेश्वर की सलाह पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इसे सामाजिक ताने-बाने को ध्वस्त करने वाली सलाह बताया। मिश्रा ने ट्वीट करते हुए कहा कि, हमारे सामाजिक ताने-बाने को ध्वस्त कर अनावश्यक खून बहाने से बाज़ आइए प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा जी, भोपाल के ईदगाह का नाम बदलने की बात कह कर आप अब मुस्लिमों और सिखों को लड़ाना चाहते है! इस घिनौनी साजिश के पहले यह भी जान लीजिए कि, अमृतसर साहिब की नींव मियां मीरबांकी ने ही रखी थी।
——-
हाल ही में दो जंगली हाथी भटकते हुए जबलपुर के बरगी इलाके में आ गए थे। बलराम और राम की जोड़ी दो साल पहले ओडिशा से एमपी में भटकते हुए आए थे। लेकिन करंट लगने की वजह से बलराम की 3 दिन पहले तड़प-तड़प कर मौत हो गई थी। उसके बाद से हाथी राम भटक रहा था। घटना स्थल से 48 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मंडला जिले के कुछ ग्रामीणों पर राम ने हमला किया है। ऐसे में कहा जा रहा है कि राम ने बलराम की मौत का बदला लिया है।
राम ने बैगा जनजाति के दो लोगों पर हमला किया है। वन विभाग के अधिकारियों का मानना है कि यह बदले का हमला हो सकता है। क्योंकि यहां से 48 किलोमीटर दूर ही बलराम की मौत हुई थी। बलराम की मौत जंगली सुअर के अवैध शिकार के लिए रखे बिजली तार में फंस कर हुई थी। जबलपुर के सीसीएफ एचडी मेहिले ने कहा कि हाथी ने एक पीठ पर वार किया है। वहीं, दूसरे ग्रामीण को हवा में उछाल कर फेंक दिया है। साथ ही उसे रौंदने की भी कोशिश की है। लेकिन ग्रामीण वहां से भागने में सफल रहे हैं। जब हाथी उन लोगों पर हमला किया तब ग्रामीण अपने खेतों में काम कर रहे थे।
घायलों में 48 वर्षीय भगत सिंह बैगा और 54 वर्षीय राज कुमार हैं। दोनों की खतरे की स्थिति से बाहर हैं। जबलपुर सीसीएफ ने कहा कि इस जंगली हाथी को पकड़ने के लिए कर्नाटक से विशेषज्ञों को बुलाया जा रहा है। साथ ही कान्हा नेशनल पार्क की टीम भी लगातार इसे पकड़ने की कोशिश कर रही है।
——-
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहडोल में कुछ बच्चों की मृत्यु की घटना को गंभीरता से लेते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि इस घटना की जांच कर प्रतिवेदन सौंपा जाए। यदि चिकित्सक और स्टाफ दोषी पाए जाएं तो ऐसे लोगों को दंडित किया जाए।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवास पर बुलाई बैठक में निर्देश दिए कि बच्चों के इलाज में कहीं भी व्यवस्थाओं में कमी है तो उसे दूर किया जाए। वेंटिलेटर एवं अन्य उपकरणों का समुचित प्रबंध हो। आवश्यक हो तो विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवाएं लेकर रोगियों को स्वास्थ्य लाभ दिया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा शहडोल में बच्चों की मृत्यु के मामले में यह देखें कि इसकी जड़ में कहीं लापरवाही तो नहीं। जिला, संभाग और राजधानी के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इस घटना को गंभीरता से लें और आवश्यक हो तो जबलपुर से चिकित्सा विशेषज्ञ भेज कर अन्य ऐसे रोगी बच्चों का उपचार कार्य किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लोगों की जिंदगी बचाना बहुत आवश्यक है। सभी अस्पतालों में व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया जाए।
——-
सिवनी जिले में नवीन जलावर्धन योजना का काम बहुत ही मंथर गति से चल रहा है। समयावधि पूरी होने के लगभग पांच साल बाद भी यह अब तक पूरी तरह आकार नहीं ले सकी है। जिला मुख्यालय में हर के 24 वार्डों में साफ पानी पहुंचाने के लिए 63 करोड़ र्स्पये की पेयजल योजना चार साल में भी पूरी नहीं हो पाई है। आज भी पुरानी जर्जर पाइपलाइन से पानी की सप्लाई की जा रही है। इसके कारण दूषित पेयजल घरों में पहुंच रहा है। साल 2015 में योजना का काम शुरू किया गया था।
नई पेयजल योलना का काम वर्ष 2016 में पूरा हो जाना था। अब तक इस योजना का काम पूरा नहीं हो सका है। इस साल भी इस योजना का लाभ शहर के सभी लोगों को मिलना मुश्किल लग रहा है। पिछले साल अप्रैल माह में नई पेयजल योजना से पेयजल की सप्लाई शुरू कर दी गई थी, लेकिन अब तक नई पाइपलाइन से पेयजल की आपूर्ति शुरू नहीं हो सकी है।
नई जलावर्धन योजना के तहत शहरवासियों को पेयजल की आपूर्ति के लिए 10 हजार 750 घरों में नल कनेक्शन किए जाने हैं। इस पेयजल योजना का ठेका पुणे की मेसर्स महालक्ष्मी इंजीनियरिंग वर्क्स को दिया गया है। अब तक करीब 9 हजार नल कनेक्शन ही हो सके हैं। कोरोना संक्रमण के दौरान दूषित पेयजल की सप्लाई जारी है। इससे लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।
——-
जबलपुर शहर के निजी इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित नार्दन कोल फील्ड्स लिमिटेड की एचईएमएम ऑपरेटर की परीक्षा में हाइटेक डिवाइस से नकल करते हुए एक परीक्षार्थी को गढ़ा पुलिस ने गिरफ्तार किया। परीक्षार्थी ने उक्त डिवाइस गांव के एक युवक से 25 हजार रुपए में खरीदा था। बाहर से उक्त युवक ही उसे परीक्षा में आए सवालों का जवाब बता रहा था। पर्यवेक्षक ने संदेह होने पर उसकी तलाशी ली तो इसका खुलासा हुआ। गढ़ा पुलिस ने परीक्षार्थी सहित नकल करा रहे आरोपी के खिलाफ धारा 120 बी, 420,34 भादंवि का प्रकरण दर्ज किया है।
जानकारी के अनुसार परीक्षार्थी हरियाणा के जींद का रहने वाला दीपक नैन है। वह हाइटेक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, जिसमें एक संचार कंपनी की सिम लगी है का उपयोग करते हुए गांव के हरदीप नैन से सवालों का उत्तर पूछ कर लिख रहा था। पर्यवेक्षक को संदेह हुआ तो उसने उसकी तलाशी में उक्त हाइटेक डिवाइस जब्त किया। गढ़ा टीआई राकेश तिवारी ने बताया कि दीपक नैन व हरदीप नैन चन्नू पत्ती दनोदा खुर्द थाना नरवाना जिला जींद हरियाणा के रहने वाले हैं।
गिरफ्त में आए 23 वर्षीय दीपक नैन ने बताया कि उसने 25 हजार रुपए में उक्त डिवाइस हरदीप से खरीदी थी। पुलिस ने डिवाइस जब्त करते हुए उसकी फारेंसिक जांच कराने की बात कही है। दीपक नैन को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। हरदीप नैन पुलिस की पकड़ में आने से पहले ही फरार हो गया। जल्द ही एक टीम उसे गिरफ्तार करने हरियाणा जाएगी।
——-
प्रदेश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाले इंदौर शहर के रेसकोर्स रोड पर गली नंबर – 2 अब चर्चा में है। कारण कोरोना को लेकर रविवार शाम को हुआ एक अनाउंसमेंट। इस क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। प्रशासन और निगम की टीम ने यहां एक मल्टी को सील कर दिया है। यहां आई एक गाड़ी अनाउंस कर गई कि इस मल्टी में 70 लोग कोरोना संक्रमित हैं। यह सुनते ही चौकीदार और कामवाली बाई काम छोड़ चले गए। यही नहीं कुछ लोग तो घर छोड़कर कहीं और रहने चले गए, जो बचे उनकी रात डर और खौफ के बीच गुजरी। जबकि हकीकत यह है कि दिवाली से अब तक इस क्षेत्र में ही 34 के करीब लोग पॉजिटिव आए हैं। सुबह लोग उठे और एक-दूसरे से सामना भी हुआ, लेकिन हर आंख में शंका थी कि इसे तो कोरोना नहीं। दोपहर में रहवासी इस कार्रवाई के विरोध में उतर आए और सवाल किया कि 41 फ्लैट की मल्टी में करीब 100 लोग रहते हैं, इसमें से 70 पॉजिटिव कैसे आ सकते हैं?
——-
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जाने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——-
एड्स जैसी जानलेवा बीमारी की रोकथाम के लिए कई कार्यक्रम व अभियान चलाए जा रहे हैं, इसके बाद भी जागरूकता का आभाव व लापरवाही भारी पड़ रही रही है। हर साल करीब औसतन 200 एड्स के मरीज मिल रहे है। हालात यह है कि एड्स बीमारी के बढ़ते मामलों में सिवनी जिला प्रदेश के टॉप टेन शहरों में शामिल है।
जिले में वर्तमान में एड्स के 1577 मिरीज हैं। वर्ष 2005 से अब तक जिले में 214199 लोगों के एचआइवी टेस्ट किए गए हैं। इनमें से 1577 महिला- पुरुष एचआइवी पॉजिटिव पाए गए हैं। एड्स से अब तक कितनी मौंते हुई हैं, यह विभाग ने अब तक सार्वजनिक नहीं किया है। हर साल एड्स के मरीज बढ़ रहे हैं। प्रदेश के अन्य जिलों की बात करें तो टेस्ट के आधार पर ज्यादा मरीज मिलने के मामले में पहले नंबर पर इंदौर है। दूसरे नंबर पर बुरहानपुर, तीसरे नंबर में बड़बानी, चौथे नंबर में जबलपुर, पांचवे नंबर में मंडला, छटवे नंबर में मंदसौर, सातवे नंबर में भोपाल, आठवे नंबर में उज्जैैन, नौवे नंबर में रतलाम व दसवें नंबर में सिवनी जिला शामिल है।
——-
प्रदेश के भिंड जिले में नकली सोने की मोहरे लेकर गोल्ड लोन लेने पहुंचे दो युवकों को कोतवाली थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पकड़े गए दोनों युवकों से नकली सोने की 4 मोहरे भी जब्त की है। दरअसल, प्प्थ्स् गोल्ड लोन फाइनेंस कंपनी के मैनेजर प्रभात शर्मा ने बताया कि उसके ऑफिस पर दो व्यक्ति आए थे, जिन्होंने सोने की 4 मोहरे दिखाते हुए गोल्ड लोन मांगा था। एक व्यक्ति ने अपना नाम नबी खान और दूसरे ने नौशाद बताया था।
नबी खान ने अपना आधार कार्ड भी दिया था। मैनेजर प्रभात ने सोने की मोहर देख कर गोल्ड लोन की प्रक्रिया शुरू कर दी। मोहरों के वजन के हिसाब से करीब डेढ़ लाख रुपए के लोन की कार्रवाई शुरू कर दी। लेकिन जब मोहरों जांच की गई तो पता चला इन पर सोने का पानी चढ़ा हुआ है। इसके साथ ही साथ आधार कार्ड में भी किसी अन्य व्यक्ति का फोटो लगा हुआ था।
जैसे ही मैनेजर ने पुलिस को फोन करना चाहा तो यह दोनों लोग भाग गए। जिसके बाद पुलिस सक्रिय हुई और पुलिस ने दोनों आरोपियों को पकड़ लिया। पकड़े गए आरोपियों के नाम राजा राइन और नौशाद खान निवासी सुभाष नगर निकल कर सामने आए है। कोतवाली थाना पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करते हुए आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।
——-
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में सोमवार 30 नवंबर का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। मंगलवार 01 दिसंबर को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते हैं। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———