दिग्विजय सिंह का कद बढ़ाने की कोशिश हो रही अब काँग्रेस में!

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में बुधवार 03 मार्च का प्रादेशिक ऑडियो बुलेटिन.
——–
संस्कारधानी जबलपुर सहित पूरे प्रदेश में महाशिवरात्रि व होली को लेकर उत्साह नजर आने लगा है। कोविड संकट के दौर में बेहद परेशान हुई जनता अब उल्लास के रंग में रंगीन होना चाहती है। महाशिवरात्रि से इसकी शुरूआत होगी और होली में रंग-तरंग के बीच कोविड का सारा मलाल अलविदा हो जायेगा। ऐसी मनोवैज्ञानिक सोच के साथ आम जन तैयारियों में जुटे हैं। हालांकि संजीदा किस्म के लोग अब भी कोविड संकट बरकरार होने की ताकीद के साथ सावधानी बरतने के लिये प्रेरित करते नजर आ रहे हैं। वे अमरावती में लाकडाउन का हवाला देते हैं। वहीं उत्साहित जन वैक्सीन आ चुकने की दलील के साथ उत्साह में कमी न लाने पर आमादा हैं। भोले बाबा के पूजन के बाद इंद्रधनुषी होली को लेकर जमकर तैयारी की जा रही है।
इस बार होलिका दहन के लिये होलिका की प्रतिमाएं भी तेजी से बनने लगी हैं। महंगाई को लेकर कटाक्ष वाली प्रतिमाओं की थीम भी चर्चा में है। वहीं राम मंदिर को लेकर भी उत्साह चरम पर है। लिहाजा, होली में राम मंदिर की थीम भी काम करेगी। होलिका समितियों के सदस्य सक्रिय हो गये हैं।
——–
हाई कोर्ट ने तेल कंपनियों और पेट्रोलियम मंत्रालय को नोटिस जारी कर पूछा है कि एथेनॉल मिले डीज़ल-पेट्रोल पर टैक्स लेने का क्या प्रावधान है। क्या एथेनॉल मिले डीज़ल-पेट्रोल पर पांच प्रतिशत से अधिक टैक्स नहीं लिया जा सकता। हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक और जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की डबल बेंच ने एक जनहित याचिका पर सुनवायी करते हुए उक्त नोटिस जारी किया है।
दरअसल डीज़ल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को जबलपुर हाई कोर्ट में चुनौती दी गयी है। एक जनहित याचिका के माध्यम से नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच जबलपुर के संयोजक मनीष शर्मा ने पक्ष रखा है कि एथेनॉल मिश्रित डीज़ल-पेट्रोल पर सरकार ने पांच प्रतिशत ही टैक्स लेने का नियम बनाया था लेकिन इस पर 51 प्रतिशत टैक्स वसूला जा रहा है।
याचिककर्त्ता ने बताया एक हजार मिलीलीटर पेट्रोल में वर्तमान में सात से 10 प्रतिशत यानी लगभग 70 से 100 मिलीलीटर तक एथेनॉल मिलाया जा रहा है। बावजूद इसके सरकार पूरे एक हजार मिलीलीटर पर टैक्स लगा रही है जबकि 51 प्रतिशत टैक्स केवल पेट्रोल की मात्रा पर यानी 900 मिलीलीटर पर वसूलना चाहिये। शेष एथेनॉल की 70 से 100 मिलीलीटर मात्रा पर 05 प्रतिशत से ज्यादा टैक्स नहीं लेना चाहिये लेकिन ऐसा नहीं होने से लोगों को महंगा पेट्रोल मिल रहा है। आने वाले समय में एथेनॉल की मात्रा बढ़कर 300 मिलीलीटर तक पहुँच जायेगी। पेट्रोल कंपनियां एथेनॉल की मात्रा बढ़ाती जा रही हैं लेकिन इसे दर्शाया नहीं जाता।
याचिकाकर्त्ता मनीष शर्मा की ओर से अधिवक्ता सुशांत श्रीवास्तव ने पक्ष रखा। इस याचिका में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय सहित सभी ऑइल कंपनियों को पक्षकार बनाया गया है। अधिवक्ता सुशांत श्रीवास्तव ने तर्क रखा कि पांच प्रतिशत टैक्स की बजाय 18 प्रतिशत केंद्र सरकार और 33 प्रतिशत टैक्स राज्य सरकार वसूल रही है। ऑइल कंपनियां अभी सात से 10 प्रतिशत एथेनॉल मिला रही हैं। इसे 2025 तक 20 प्रतिशत और 2030 तक 30 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है।
नियमानुसार एथेनॉल मिश्रित पेट्रोल-डीज़ल पर सिर्फ पांच प्रतिशत टैक्स लिया जाये, तो आम लोगों को चार से छः रूपये सस्ते में डीज़ल-पेट्रोल मिलेगा। सरकार ने 10 वर्षों में इस तरह से खरबों रूपये वसूल चुके हैं। सरकारी तेल कंपनियों इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड ने आज चौथे दिन बुधवार को पेट्रोल व डीज़ल की कीमतों में कोई परिवर्तन नहीं किया है।
——–
मध्य प्रदेश के खंडवा से भारतीय जनता पार्टी के सांसद नंद कुमार सिंह चौहान का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार को निधन हो गया। गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उपचार के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली। अंतिम दर्शन के लिये उनका पार्थिव शरीर राजधानी भोपाल स्थित मध्य प्रदेश भारतीय जनता पार्टी कार्यालय लाया गया है, जहाँ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष वी.डी.. शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ सहित भारतीय जनता पार्टी और काँग्रेस के कई नेताओं द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।
——–
प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में रहने वाले जनजातीय समुदाय को भगवान राम और हिन्दुत्व से जोड़ने के लिये संस्कृति विभाग ने एक अनूठी कवायद की है। देश में पहली बार शबरी प्रसंग, गोंड रामायणी और केवट प्रसंग पर रामलीला तैयार हो रही है।
वरिष्ठ नाट्य लेखक योगेश त्रिपाठी ने उत्तर से दक्षिण तक विभिन्न कालखंड में लिखी गयीं रामायण का अध्ययन कर इसकी स्क्रिप्ट तैयार की है। वहीं, मिलिंद त्रिपाठी के निर्देशन में मुंबई में इसका म्यूजिक रिकॉर्ड किया गया है। अप्रैल से प्रदेशभर की 79 जनजातीय बहुल जनपदों में इसका मंचन आरंभ किया जायेगा। लॉकडाउन में ही संस्कृति विभाग ने संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर के निर्देशन में इसकी तैयारी आरंभ कर दी थी।
रामकथा में वर्णित वनवासी चरित्रों पर आधारित लीलाओं की प्रस्तुतियां होंगी। इसे केवट लीला, शबरी लीला और गोंड रामायणी लीला नाम दिया गया है। इस प्रस्तुति से जुड़े सभी कलाकार भी जनजातीय समुदाय से ही होंगे। प्रत्येक जनपद में तीन दिवसीय समारोह का आयोजन होगा, जहाँ प्रतिदिन दो से ढाई घंटे की रामलाली में केवट प्रसंग, शबरी प्रसंग और गोंड रामायणी की प्रस्तुतियां होंगी। श्री रघुनाथ लीला समिति, ओडिशा, सतना…. और छत्तीसगढ़ में रायपुर की मंडली प्रस्तुति देगी। ओडिशा की मंडली उड़िया शैली में प्रस्तुति देगी तो अन्य दो मंडली दंडकारण्य से इसे जोड़ते हुए पारसी शैली में रामलीला का मंचन करेगी।
रामलीला में रिकॉर्डेड डॉयलॉग्स का उपयोग किया जायेगा। जनजातीय समुदायों को संवाद और दृश्यों से जोडऩे के लिये बैकग्राउंड में प्रसंगों से जुड़ी पेंटिंग्स भी दिखायी देगी। इसके लिये आंध्रप्रदेश की चेरियालपटम, हिमाचल प्रदेश के चंबा की गुलेर चित्र शैली और राजस्थान के नाथद्वारा की शैली में 25-25 पेंटिंग्स जनजातीय चित्रकारों से तैयार करायी जा रही है।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिये समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य, यात्रा या समारोह आदि के लिये फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किये गये हैं, वे 95 से 99 प्रतिशत तक सही साबित हुए हैं।
——–
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह को काँग्रेस आलाकमान ने दो बड़ी जिम्मेदारी दी है। दिग्विजय सिंह 2018 से पार्टी में एक प्रकार से लाइन अटैच चल रहे थे। काँग्रेस हाईकमान ने उन्हें दो राज्यों की स्क्रीनिंग कमेटी का चेयरमैन बनाया है।
मध्य प्रदेश के दिग्गज काँग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का कद काँग्रेस में बढ़ाया जा रहा है। दो माह बाद पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में दिग्विजय सिंह बड़ी भूमिका में नजर आयेंगे। उन्हें काँग्रेस हाईकमान ने तमिलनाडू और पुडुचेरी में चुनाव की स्क्रीनिंग कमेटी का चेयरमैन बनाया है।
——–
भिंड के मौ में पदस्थ नायब तहसीलदार का बाबू श्रीकृष्ण बौहरे को ग्वालियर में रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। लोकायुक्त की टीम ने सुबह सिटी सेंटर से उसे 20 हजार रुपये की रिश्वत के साथ रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। फरियादी की शिकायत के बाद लोकायुक्त की टीम ने इस मामले की जांच की थी।
दरअसल, वसीयत में अमल कराने के नाम पर यह रिश्वत ली जा रही थी और कुल 30 हजार डील तय हुई थी। 10 हजार रुपये बाद में देना था। श्रीकृष्ण ग्वालियर में ही रहता है और लोकायुक्त की यह कार्यवाही मंगलवार को होना थी। कार्यवाही इसलिये नहीं हो सकी कि मंगलवार को मौ से ग्वालियर लौटते समय श्रीकृष्ण का एक्सीडेंट हो गया और वह घायल हो गया था। इसके बाद भी उसने बुधवार को फरियादी हरि सिंह राणा को सिटी सेंटर के जीवन ज्योति अस्पताल के पास बुलाया था।
एस.पी. लोकायुक्त संजीव सिन्हा ने बताया कि फरियादी हरि सिंह राणा के पिता ने वसीसत में उनके बेटों के नाम संपत्ति की थी। यह संपत्ति मौ में ही है। इस पर हरि सिंह के भाई को आपत्ति थी। मामला सिविल कोर्ट में पहुँचा लेकिन हरि सिंह के पक्ष में निर्णय हुआ। वसीयत के लिट्रेचर के आधार पर राजस्व में अमल होना था इसी बात के लिये हरि सिंह से मौ में पदस्थ बाबू श्रीकृष्ण बौहरे 30 हजार रुपये मांग रहा था। हरि सिंह ने लोकायुक्त टीम से संपर्क किया और फिर पूरा होमवर्क अधिकारियों ने किया।
—-
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में शरद खरे से बुधवार 03 मार्च का प्रादेशिक ऑडियो बुलेटिन। बृहस्पतिवार 04 मार्च को एक बार फिर हम ऑडियो बुलेटिन लेकर उपस्थित होंगे, आपको ये ऑडियो बुलेटिन यदि पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब अवश्य करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह प्रत्येक वीडियो के अंत में हम आपको बताते ही हैं। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)