सिवनी में पहले दिन से ही इलेक्ट्रिक इंजन से चलेगी रेलगाडी

रेल्वे के अधिकारी क्यों कतरा रहे हैं पत्रकार वार्ता करने से! दोनों सांसदों को चाहिए कि रेल अधिकारियों की करवाएं सिवनी में पत्रकार वार्ता ताकि जनता तक पहुंच सके अमान परिवर्तन की वास्तविक स्थिति, सिवनी में कार्यरत है पीजीसीएल!
(लिमटी खरे)


सिवनी (साई)। सिवनी के निवासियों के लिए यह खुशखबरी ही कही जाएगी कि सिवनी में जब भी ब्राडगेज की सीटी सुनाई दे, पर कमर्शियल आपरेशन आरंभ होगा तो उसमें डीजल इंजन के बजाए बिजली के इंजन (इलेक्ट्रिक इंजन) रेल को खींचते नजर आएंगे चाहे वह सवारी गाड़ी हो अथवा माल गाडी।


उक्ताशय की बात दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे मुख्यालय बिलासपुर के महाप्रबंधक कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कही। सूत्रों ने बताया कि सिवनी में पहले दिन से ही (फ्राम डे वन) सिवनी में बिजली के इंजन से ही रेलगाड़ी का संचालन किया जाएगा।


रेलमंत्री के संज्ञान में आया विलंब कारित करना!

सूत्रों ने बताया कि समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा लगातार ही बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में अमान परिवर्तन के काम को मंथर गति से कराए जाने की खबरें प्रसारित किए जाने के बाद दिल्ली के अनेक मीडिया माध्यमों के द्वारा भी इन खबरों का प्रकाशन और प्रसारण किया जा रहा है। इन खबरों के लिंक और कतरनों को रेल मंत्री रहे पीयूष गोयल के संज्ञान में लाया गया था। वर्तमान रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को भी इससे वाकिफ कराया गया है।


रेल मंत्री के करीबी सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सिवनी में पहले दिन (जब भी आपरेशन आरंभ हो) से ही चलने वाली रेल को बिजली से चलाए जाने की तैयारियां करने के निर्देश रेल्वे विभाग को उनके द्वारा दिए गए हैं। सूत्रों ने बताया कि तकनीकि परीक्षण सीआरएस भले ही डीजल इंजन से कराया जाए पर आपरेशनल होने पर इसे बिजली के इंजन से चलाया जाएगा।


पीजीसीएल का कार्यालय है सिवनी में

रेल्वे बोर्ड के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सिवनी जिले में अमान परिवर्तन के काम हेतु पावर ग्रिड कार्पोरेशन लिमिटेड का एक अस्थाई कार्यालय खोला गया है। पहले यह कार्यालय जबलपुर रोड पर लूघरवाड़ा के एक लॉन में संचालित था, अब यह छिंदवाड़ा रोड के एक लॉन में संचालित होने लगा है।


सूत्रोें ने यह भी बताया कि इलेक्ट्रिफिकेशन के काम में भी बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से को प्राथमिकता पर नहीं रखा गया है। इसका कारण यह है कि मण्डला संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में अमान परिवर्तन का काम पूरा कर लिया गया है, पर बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में काम कच्छप गति से ही संचालित हो रहा है।


सूत्रों की मानें तो अमान परिवर्तन के साथ ही साथ इलेक्ट्रिफिकेशन के मामले में भी मण्डला संसदीय क्षेत्र अव्वल ही आता दिख रहा है। सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि नैनपुर से मण्डला फोर्ट तक के हिस्से में इलेक्ट्रीफिकेशन का काम पूरा कर लिया गया है। अब नैनपुर से केवलारी, कान्हीवाड़ा होते हुए भोमा तक के इलेक्ट्रिफिकेशन के काम को जल्द ही अंजाम दिया जाएगा।


बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले का हिस्सा है अंतिम प्राथमिकता पर!

रेल्वे बोर्ड के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को यह भी बताया कि हाल ही में रेल्वे बोर्ड के चेयरमेन सुनीत शर्मा को भी समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा प्रसारित खबरों से रूबरू कराया गया है। सूत्रों ने उम्मीद जताई है कि जल्द ही रेल्वे बोर्ड के चेयरमेन सुनीत शर्मा अथवा मेंबर ट्रेक्शन राहुल जैन के द्वारा अधिकारियों को सिवनी जिले में काम जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए जा सकते हैं।


सूत्रों ने इस बात पर भी आश्चर्य व्यक्त किया कि मण्डला संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में काम रेल्वे के मैदानी अधिकारियों के द्वारा प्राथमिकता के आधार पर कराया गया किन्तु बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से अर्थात भोमा से चौरई तक के भाग में अमान परिवर्तन का काम मंथर गति से क्यों कराया जा रहा है! इस बारे में भी जांच के निर्देश दिए जा सकते हैं कि भोमा से सिवनी होकर चौरई तक के अमान परिवर्तन के काम को विलंबित क्यों व किसके कहने पर किया जा रहा है!