प्रयागराज में मां गंगा ने लेटे हनुमान जी का किया जलाभिषेक, गूंजे जयकारे

(एल.एन.सिंह)
प्रयागराज (साई)। प्रयागराज आस्था की संगम नगरी में गंगा और यमुना के बढ़ रहे जल स्तर से जहां प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। वही गंगा का बढ़ता जल प्रयागवासियों के लिये शुभ संकेत लेकर आया है। गुरुवार को गंगा का पानी प्रयाग के कोतवाल कहे जाने वाले प्रसिद्ध लेटे हुए हनुमान मंदिर में प्रवेश कर गया।
संगम किनारे बांध के नीचे स्थित प्राचीन हनुमान जी के पौराणिक मंदिर में गंगा जल के प्रवेश को धार्मिक मान्यताओ के अनुसार चमत्कार माना जाता है।इस समय मंदिर समेत विशाल संगम क्षेत्र जलमग्न है यह संयोग ही रहा मंगलवार को मां गंगा ने हनुमान जी को स्नान कराया। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महाराज नरेंद्र गिरी ने बताया की मां का स्नान कराना सदियो की परम्परा है की मां गंगा लेटे हुए हनुमान जी महराज को स्नान कराती है।

ऐसी मान्यता है की गंगा जल यदि हनुमान जी की मूर्ति तक पहुंचता है तो उस वर्ष किसी भी प्राकृतिक आपदा से प्रयाग समेत देश भर की रक्षा होती है गंगा जल के स्वतः मूर्ति स्पर्श से सुखद फल की प्राप्ती होती है।बताया कि मान्यता के अनुसार गंगा जी हनुमान मंदिर के द्वार तक आने के बाद इंतजार करती हैं कि आरती उतारी जाए। जैसे ही पूजा और आरती हुई, मंदिर में गंगा जल प्रवेश कर गया। मंदिर में गंगा के प्रवेश के बाद कपाट बंद कर दिया गया।