कानों कान खबर नहीं, और शाम को है मोहगांव खवासा मार्ग का लोकार्पण!

एनएचएआई के अधिकारियों के लिए अंतिम प्राथमिकता पर पहुंचा बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले का हिस्सा! सत्ता में भाजपा, तवज्जो कांग्रेस को, भाजपा के विधायक, जिलाध्यक्ष उपेक्षित!
(अखिलेश दुबे)


सिवनी (साई)। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के द्वारा मोहगांव से खवासा तक के 29 किलोमीटर लंबे मार्ग का लोकार्पण ब्रहस्पतिवार 16 सितंबर को शाम 07 बजे से किया जाने वाला है, पर इसकी जानकारी एनएचएआई के द्वारा सिवनी सहित अन्य जिलों के मीडिया को नहीं देना आश्चर्य जनक ही माना जा रहा हैै। लोगों का यह भी कहना है कि भारतीय रेल की तरह ही एनएचएआई के द्वारा भी बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से को अंतिम प्राथमिकता पर रखा जा रहा है।


बालाघाट के सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन की फेसबुक वाल पर भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का एक पोस्टर चस्पा है। इसके मुताबिक भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 44 के सिवनी नागुपर अनुभाग के मोहगांव से खवासा खण्ड के चार लेन सड़क चौड़ीकरण/उन्नयन परियोजना जिसकी लंबराई 29 किलोमीटर एवं लागत 968 करोड़ रूपए है का लोकार्पण केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी के द्वारा 16 सितंबर को शाम 07 बजे किया जाएगा।


इस पोस्टर के अनुसार इस कार्यक्रम की अध्यक्षता मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा की जाएगी। इसके अलावा केंद्रीय पंचायत राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, सामाजिक न्याय मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, मध्य प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, जलशक्ति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल, इस्पात राज्य मंत्री फग्गन ंिसह कुलस्ते, सड़क परिवहन राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह, बालाघाट सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन, बरघाट विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया की उपस्थित में होगा। यह कार्यक्रम ब्रहस्पतिवार 16 सितंबर 2021 को शाम 07 से 09 बजे के बीच खवासा टोल प्लाजा के पहले एचपी पेट्रोल पंप के पास मान्सी पायल रिसोर्ट में होना प्रस्तावित है।


लोगों को आश्चर्य इस बात का है कि सिवनी जिले के लिए मोहगांव से खवासा के मार्ग के निर्माण हेतु जनमंच नामक संस्था के द्वारा लंबी लड़ाई लड़ी गई। इसके अलावा उत्तर दक्षिण गलियारे के इस हिस्से को बनवाने में आने वाली बाधाओं को हटावाने में कांग्रेस और भाजपा के द्वारा जिस स्तर पर प्रयास किए गए वे किसी से छिपे नहीं हैं। इसके बाद भी एनएचएआई के अधिकारियों के द्वारा इस महत्वपूर्ण मसले की जानकारी मीडिया को देना मुनासिब क्यों नहीं समझा! एनएचएआई के द्वारा ऐसा किया जाकर बैठे बिठाए एक बहुत बड़ा मुद्दा विपक्ष में बैठी कांग्रेस को (बशर्ते कांग्रेस इसे भुनाना चाहे) दे दिया है।

सत्ता में भाजपा, तवज्जो कांग्रेस को, भाजपा के विधायक, जिलाध्यक्ष उपेक्षित!

लोग अब इस बात के भी निहितार्थ लगाते दिख रहे हैं कि आखिर एनएचएआई के छिंदवाड़ा स्थित परियोजना निदेशक कार्यालय (जिसके अधीन सिवनी जिले का हिस्सा आता है) के द्वारा गुपचुप तरीके से इस कार्यक्रम को अंजाम क्यों दिया जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि एनएचएआई के द्वारा नई परंपरा का आगाज किया गया है। आमंत्रण पत्र में कांग्रेस के विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया का नाम है पर भारतीय जनता पार्टी के दो विधायकों सिवनी विधायक दिनेश राय एवं केवलारी विधायक राकेश पाल सिंह का नाम आमंत्रण पत्र में नहीं है। और तो और भाजपा के जिलाध्यक्ष आलोक दुबे का नाम भी आमंत्रण पत्र में नहीं होना आश्चर्य का विषय माना जा रहा है।

मीडिया को जानकारी नहीं!

उक्त पदाधिकारी का कहना था कि सबसे ज्यादा आपत्तिजनक बात तो यह है कि एनएचएआई के अधिकारियों के द्वारा सिवनी जिले के नागरिकों के लिए उत्तर दक्षिण गलियारे में सबसे ज्यादा अहम मानेे जाने वाले मोहगांव से खवासा के हिस्से का लोकार्पण ब्रहस्पतिवार को होने के बाद भी ब्रहस्पतिवार को दोपहर तीन बजे तक इसकी जानकारी किसी भी मीडिया संस्थान या मीडिया कर्मी को नहीं दी गई है।

बदला जाए एनएचएआई के अधिकारियों को!

उक्त पदाधिकारी का यह भी कहना था कि बालाघाट के सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन को चाहिए कि वे भूतल परिवहन मंत्री नितिन गड़करी से इस बात की शिकायत जरूर करें कि एनएचएआई के अधिकारियों के द्वारा सिवनी के भाजपा के दो विधायकों दिनेश राय, राकेश पाल सिंह सहित भाजपा जिलाध्यक्ष आलोक दुबे की उपेक्षा तो की ही है साथ ही मीडिया को इस बात की जानकारी नहीं दी है, जिससे जिले में भाजपा के प्रति अच्छा संदेश नहीं जा रहा है। इसलिए एनएचएआई के छिंदवाड़ा, भोपाल में पदस्थ अफसरों को तत्काल ही बदला जाए।
लोगों का यह भी कहना है कि जिस तरह केंद्र सरकार के अधीन काम करने वाले भारतीय रेलवे विभाग के द्वारा बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में भोमा से सिवनी होकर चौरई तक के रेलखण्ड का काम अत्यंत मंथर गति से कराया जा रहा है उसी तर्ज पर अब भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के द्वारा भी बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से की उपेक्षा आरंभ कर दी गई है। इसका उदहारण मोहगांव से सिवनी, छपारा होकर लखनादौन तक के सड़क के हिस्से का संधारण न किया जाना माना जा सकता है।