उड़ने लगे फोरलेन के धुर्रे!

ठेकेदार कंपनियों पर मेहरबान दिख रहा एनएचएआई! सभी के लोकसभा और विधानसभा क्षेत्र से होकर जाती है फोरलेन
(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के स्वामित्व वाले सिवनी जिले में सड़क के हिस्सों के निर्माण और संधारण में एनएचएआई को ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिख रही है। लखनादौन से छपारा होकर सिवनी एवं सिवनी से मोहगांव के बीच के सड़क मार्ग पर अनेक स्थानों पर धुर्रे पूरी तरह उड़ चुके हैं फिर भी एनएचएआई की कुंभकर्णीय निद्रा अब तक नहीं टूट पायी है।


एनएचएआई के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि एनएचएआई के एमपी टू पैकेज (जिले में नरसिंहपुर सीमा से सिवनी शहर तक) का निर्माण मीनाक्षी कंस्ट्रक्शन कंपनी एवं एक अन्य कंपनी के द्वारा करवाया गया है। इसमें से बंजारी घाट के हिस्से को बाद में पूरा करवाया गया है।


सूत्रों ने बताया कि बंजारी घाट वाले हिस्से को छोड़कर सड़क के शेष हिस्से को बनाकर मीनाक्षी कंस्ट्रक्शन कंपनी के द्वारा वर्ष 2009 में एनएचएआई को सौंप दिया गया था। इसके बाद एनएचएआई के द्वारा मीनाक्षी कंस्ट्रक्शन को सड़क के इस हिस्से का संधारण तब तक करने के लिये कहा गया था जब तक हर छः माह में एनएचएआई के द्वारा मीनाक्षी कंपनी को निश्चित राशि (जो निर्माण में खर्च हुई थी का हिस्सा) दी जायेगी।


सूत्रों ने बताया कि निविदा एवं अनुबंध की शर्तों के अनुसार सड़क में होने वाली दुर्घटनाओं के लिये संधारण करने वाली कंपनी को एक एंबुलेंस, पेट्रोलिंग मोबाईल, क्रेन आदि को चौबीसों घण्टे मुस्तैद रखना होगा। एंबुलेंस को हर पचास किलोमीटर की दूरी पर तैयार रखा जायेगा।
सूत्रों ने कहा कि एनएचएआई के द्वारा इन सारी बातों का ज्यादा प्रचार – प्रसार नहीं करवाये जाने के कारण लोगों को इसकी जानकारी नहीं है। सूत्रों ने कहा कि फोरलेन पर होने वाली दुर्घटनाओं में घायलों को वर्तमान में 108 एंबुलेंस से लाया ले जाया जा रहा है, जबकि यह काम 108 की बजाय इस सड़क का संधारण कर रही कंपनी के जिम्मे था। इससे सरकार को 108 एंबुलेंस के लिये प्रति किलोमीटर अतिरिक्त राशि व्यय करना पड़ रहा है।


सूत्रों ने बताया कि इसके अलावा सड़क के किसी भी हिस्से के खराब होने पर उसे तत्काल ही दुरूस्त कराने की जवाबदेही ठेकेदार कंपनी की है। इतना ही नहीं हर पाँच साल में ठेकेदार कंपनी को समूची सड़क पर निर्धारित मानक के हिसाब से डामरीकरण करना भी आवश्यक है।
इस लिहाज से वर्ष 2020 में मीनाक्षी कंपनी को सिवनी से लखनादौन के हिस्से में डामरीकरण कराया जाना चाहिए था, किन्तु एनएचएआई के अधिकारियों की कथित शह पर कंपनी ने इस काम को प्राथमिकता देने के बजाए सड़क को भगवान भरोसे ही छोड़ दिया गया है। और तो और बंजारी घाट वाले हिस्से के निर्माण के उपरांत तो ठेकेदार ने पलटकर भी इस ओर नहीं देखा है।

सभी के लोकसभा और विधानसभा क्षेत्र से होकर जाती है फोरलेन

यहां यह उल्लेखनीय होगा कि लखनादौन से सिवनी होकर खवासा तक जाने वाली फोरलेन मण्डला संसदीय क्षेत्र के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते, बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन के संसदीय क्षेत्रों एवं लखनादौन विधायक योगेंद्र सिंह, केवलारी विधायक राकेश पाल सिंह, सिवनी विधायक दिनेश राय और बरघाट विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया के विधानसभा क्षेत्र से होकर गुजरती है। चार विधायक और दो सांसदों के क्षेत्रों से गुजरने वाली यह सड़क जर्जर अवस्था को प्राप्त हो रही है जबकि अभी इसका रखरखाव निर्माण एजेंसी वाले ठेकेदार को ही करना है, फिर भी किसी ने इस मामले में सुध लेने की जहमत नहीं उठाई है।
(क्रमशः जारी)