कोरोना वेक्सीनेशन के काम में हो रहा हीलाहवाला!

सीएमएचओ, जिला टीकाकरण अधिकारी मौन! एएनएम पहुंची समय पर, पौने दस बजे तक नहीं खुला टीकाकरण केंद्र का ताला
(संजीव प्रताप सिंह)


सिवनी (साई)। कोरोना कोविड 19 के लिए वेक्सीनेशन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं जिलाधिकारी डॉ. राहुल हरीदास फटिंग बहुत ज्यादा संजीदा नजर आ रहे हैं, किन्तु जमीनी हालातों को देखकर यही प्रतीत हो रहा है कि जमीनी स्तर के अधिकारियों, कर्मचारियों को इससे ज्यादा सरोकार शायद नहीं है।


जी हां, यह कहने के पीछे ठोस आधार यह है कि सिवनी जिले के गोपालगंज में कोरोना वेक्सीनेशन महाभियान के दौरान ग्राम पंचायत भवन में सुबह 09 बजे से शाम 06 बजे तक वेक्सीनेशन का काम कराया जाना था, किन्तु सुबह 09 बजकर 45 मिनिट तक ग्राम पंचायत के भवन के मुख्य द्वार पर अलीगढ़ का ताला लटकता रहा।


गोपालगंज के ग्राम पंचायत भवन पहुंचे नितिन तिव्हन ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान बताया कि वे ठीक 09 बजे ग्राम पंचायत भवन पहुंचे तो वहां महज एक ही एएनएम साजो सामान के साथ मौजूद थीं। किन्तु 09 बजे ग्राम पंचायत भवन के मुख्य द्वार का ताला भी नहीं खुला था तो सरपंच, सचिव, महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी या कर्मचारी, शिक्षक आदि के अलावा वेक्सीनेशन का वेरीफिकेशन करने वाले रोजगार सहायक तक वहां मौजूद नहीं थे।


उन्होंने बताया कि उन्होंने खण्ड चिकित्सा अधिकारी वंदना कमलेश से चर्चा की तो वंदना कमलेश ने उन्हें बताया कि इस महाभियान में जिन भी अधिकारी या कर्मचारियों की ड्यूटी लगा करती है उन्हें अवकाश नहीं दिया जाता है। मौके पर सुबह 09 बजे से पौने दस बजे के बीच ग्राम पंचायत भवन में महज एक एएनएम के अलावा और कोई भी मौजूद नहीं था। बाकी के सारे अधिकारी कर्मचारी वहां से नदारत ही थे। ग्राम पंचायत के सचिव जब 09 बजकर 45 मिनिट पर पहंुचे तब जाकर ग्राम पंचायत भवन का ताला खुल पाया।


नितिन तिव्हन ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान यह भी बताया कि उनके द्वारा इस संबंध में सिवनी के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अंकुर मेश्राम, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पार्थ जायसवाल, बीएमओ गोपालगंज वंदना कमलेश, जिला कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास फंटिग से उनके मोबाइल नबंर पर बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उनका फोन नहीं उठा। सीएमएचओ डॉ. राजेश श्रीवास्तव से बात हुई तो उन्होंने कहा कि बात संज्ञान में आई है दिखवाते हैं।


समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा जब इस संबंध में जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. लोकेश चौहान से चर्चा कर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो सदा की तरह इस बार भी उन्होंने फोन उठाने की जहमत नहीं उठाई वहीं दूसरी ओर गोपालगंज की खण्ड चिकित्सा अधिकारी वंदना कमलेश ने भी मोबाईल नहीं उठाया।