सस्ती लोकप्रियता हासिल करने ढोंग न रचाएं सिवनी विधायक दिनेश राय : मोहनसिंह चंदेल

लंबे समय बाद स्थानीय मामलों पर बोलना आरंभ किया कांग्रेस ने!
(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। देश प्रदेश के मामलों को प्रमुखता से उठाने वाली कांग्रेस की जिला इकाई के द्वारा लंबे समय बाद स्थानीय स्तर पर सुर बुलंद करना आरंभ किया गया है। कांग्रेस की ओर से विधान सभा चुनाव लड़ चुके जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष मोहन सिंह चंदेल के द्वारा कुछ मामलों में सिवनी विधायक दिनेश राय को घेरना आरंभ किया गया है।
जिला कांग्रेस द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार कोरोना कॉल में सिवनी में अनेक मौते चिकित्सा सुविधा, चिकित्सक, बिस्तर, वैन्टीलेटर, आक्सीजन, दवाईयॉ न होने के कारण हो गई। जानकारो द्वारा बार-बार सचेत किया जा रहा था, सत्ताधारी दल के सिवनी विधायक दिनेश राय भी यह बात अच्छी तरह जानते थे कि आने वाली कोरोना की लहर कितनी भयावह हो सकती है।
विज्ञप्ति के अनुसार सिवनी विधायक दिनेश राय को संकट के उस समय इन चिकित्सा सामाग्री एवं व्यवस्थाओं की उपलब्धता पर ध्यान देना था, किन्तु वे कुछ नही कर सके। इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में कई माह से पूर्ण हुआ आक्सीजन प्लांट भी समय पर प्रारंभ नहीं कर सकें, एक के बाद एक अनेक मौते होते चली गयी, सबसे दुखद पहलू यह है कि भाजपा शासित नगर पालिका ने कोरोना संक्रमण से मृत लोगो के अंतिम संस्कार के लिए 3 हजार रूपए की राशि वसूली। इस पर भी सिवनी विधायक दिनेश राय ने चुप्पी साध ली।
पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मोहनसिंह चंदेल द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि सत्ताधारी दल के विधायक दिनेश राय उस समय खामोश रहें, जिला चिकित्सालय में 18 से 24 घंटे शव रखे रहे, परिवार के लोग शवों के सामने रोते बिल्खते इस बात की गुहार लगा रहे थे कि शवों का तो समय पर अंतिम संस्कार हो जाता, फिर भी विधायक दिनेश राय कुछ नही कर सके। अनेक मौते ऐसी भी हुई जिनके अंतिम संस्कार के लिए कोई खड़ा नही हुआ।
मोहन चंदेल ने आगे कहा कि अलबत्ता एक काम में विधायक दिनेश राय ने मृत्यु के कई माह बाद सक्रियता दिखाई वह था कोरोना से मृत लोंगो के अस्थि विर्सजन करने में। यदि यही सक्रियता सिवनी विधायक चिकित्सा सामाग्री उपलब्ध कराने में दिखा देते तो शायद इतने अधिक संख्या में अस्थि विर्सजन और तर्पण करने की नौबत नहीं आती, विधायक सस्ती लोकप्रियता के लिये इस तरह की नौटंकी बंद करे और अपनी जिम्मेदारी को समझें।
श्री चंदेल ने आगे कहा कि कोरोना से मृत लोंगो की आत्मा को शांति और उनके परिवार को राहत तब मिलेंगी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित कोरोना से मृत परिवार के लोगो को 04 लाख रूपए की राशि एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा घेाषित 01 लाख रूपए की राशि और मृत परिवार के बच्चों को 05 हजार रूपए प्रतिमाह पेंशन, निःशुल्क शिक्षा और परिवार के सदस्य को नौकरी देने की घोषणा पूरी कराये।
सिवनी विधान सभा का चुनाव लड़ चुके मोहन चंदेल ने आगे कहा कि जो व्यक्ति कोरोना से मृत हुये है आज उनके परिवार जनों को आर्थिक रूप से मदद करने की आवश्यकता है। यदि मदद नही कर सकते है तो यह झूठी घोषणा क्यों की गई? विधायक पर निशाना साधते हुए मोहन चंदेल ने कहा कि विधायक दिनेश राय के अस्थि विर्सजन और तर्पण करने से शायद मृत व्यक्ति की आत्मा को शांति मिलेगी या नहीं लेकिन उनके परिवार के जिंदा लोंगो की परेशानीयॉ दूर नही होगी, आज उन परिवारों की आर्थिक स्थिती बहुत दयनीय है।