ISIS ने मैग्जीन के फ्रंट कवर पर छापी भगवान शिव की क्षतिग्रस्त मूर्ति की फोटो, सिर की जगह लगा ‘झंडा’

(ब्यूरो कार्यालय)
दशमिक (साई)। देश के जाने माने अखबार नवभारत टाईम्‍स की एक खबर के अनुसार आतंकवादी संगठन आईएसआईएस की ‘इंडिया-सेंट्रिक ऑनलाइन प्रोपेगेंडा’ मैग्जीन ने हाल ही में एक पोस्ट में भगवान शिव की एक मूर्ति की फोटो लगाई है, जिसका सिर गायब है। यह मूर्ति कर्नाटक में उत्तर कन्नड़ जिले के मुरुदेश्वर शहर के समुद्र तट पर स्थित 123 फीट ऊंची प्रसिद्ध शिव प्रतिमा जैसी मालूम पड़ती है। यह एक बेहद प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। इस तस्वीर को लोग सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं जो कई जगह तनाव का कारण भी बन रही है।

नवभारत टाईम्‍स की खबर के अनुसार न्यूज एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक शेयर की गई इस फोटो ने कर्नाटक में सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील तटीय जिले उत्तर कन्नड़ में तनावपूर्ण स्थिति पैदा कर दी है। आतंकवादी संगठन की ऑनलाइन प्रोपेगेंडा मैग्जीन ‘द वॉयस ऑफ हिंद’ के फ्रंट कवर पर एक सिर कटी हुई शिव प्रतिमा की तस्वीर लगाई गई है। इसमें यह भी दिखाया गया है कि सिर की जगह ISIS का झंडा लगा हुआ है। पत्रिका में फोटो के नीचे लिखा है, ‘झूठे भगवानों को खत्म करने का समय आ चुका है।’

कर्नाटक सरकार ने बढ़ाई मंदिर की सुरक्षा

नवभारत टाईम्‍स की खबर के अनुसार इस तस्वीर को सेल्फ-स्टाइल्ड एनालिस्ट और ऑब्जर्वर अंशुल सक्सेना ने पोस्ट किया है। आईएएनएस के अनुसार, ऑनलाइन मैग्जीन कवर में भगवान शिव की इस तरह की फोटो को लेकर हिंदू संगठन गुस्से में हैं। स्थिति को देखते हुए कर्नाटक सरकार ने मुरुदेश्वर मंदिर की सुरक्षा कड़ी कर दी है। मुरुदेश्वर तटीय शहर भटकल शहर के बहुत करीब स्थित है, जो भारतीय खुफिया एजेंसियों की लगातार निगरानी में है। आतंकी यासीन भटकल इसी शहर का रहने वाला है।

आईएसआईएस के निशाने पर शिया मुसलमान

नवभारत टाईम्‍स की खबर के अनुसार आईएसआईएस के निशाने पर न सिर्फ हिंदू समुदाय बल्कि मुसलमान भी हैं। कुछ दिनों पहले आतंकवादी संगठन ने धमकी दी थी कि पूरी दुनिया के शिया मुस्लिमों को आतंकी समूह अपना निशाना बनाएगा। इस्लामिक स्टेट ने शिया मुस्लिमों को ‘खतरनाक’ कहा था। यह चेतावनी आईएस के साप्ताहिक अखबार Al-Naba में प्रकाशित की गई है। इसमें कहा गया है कि शिया मुसलमानों को उनके घरों और केंद्रों पर निशाना बनाया जाएगा।

(नवभारत टाईम्‍स से साभार)