ऊंची चट्टानों के किनारे बसा है यह गांव

दुनिया में कई लोग ऐसे हैं जो पहाड़ या फिर ऊंची चट्टानों पर घर बनाना पसंद करते हैंलेकिन कुछ लोग ऐसे भी है जो अपनी जान को जोखिम में डालकर ऐसी जगह रहते हैंजहां वे सुरक्षित नहीं है। ऐसी ही एक जगह स्पेन का केस्टेलफोलिट डे ला रोका गांव हैजो बेसाल्ट के चट्टान पर बसा है।

बता दें कि लाखों साल पहले यहां दो ज्वालामुखी विस्फोट हुए थे। पहला विस्फोट बटेट गांव में 217,000 साल पहले और दूसरा बेगुदा में 192,000 साल पहले हुआ था।

धीरे-धीरे ये ज्वालामुखी जमने लगा और बेसाल्ट चट्टानों में बदल गया। चट्टानों को ठंडा होने में लंबा समय लगाइसके बाद यहां बस्ती बसी। यहां के घरों को भी ज्वालामुखी से बनी चट्टानों से ही बनाया गया है।

13वीं शताब्दी में चट्टान के कोने पर सेंट सालवोडोर चर्च स्थापित किया गया थाजो आज भी देखा जा सकता है।

जमीन से 50 मीटर ऊपर और लगभग 1 किमी के क्षेत्र में बसा केटेलोनिया का केस्टेलफोलिट डे ला रोका गांव जिस चट्टान पर बसा हैवह एकदम संकीर्ण है और उस पर बने घर चट्टान के किनारे बने हैं।

फ्लूवीया और टोलोनेल नदी की सीमा में आने वाला यह गांव स्पेन का सबसे छोटा गांव है। चट्टान पर बसा यह गांव किसी खतरे से कम नहीं है क्योंकि यहां के कई घर चट्टान के एकदम किनारे बने हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि एक छोटी सी गलती भी जान पर भारी पड़ सकती है।

(साई फीचर्स)