पुलिस ने रोकी अपने ही डीजी की सरकारी गाड़ी और ली तलाशी

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पुलिस महकमे में उस समय हड़कंप मच गया जब चैक पोस्ट पर सिपाहियों ने एक IPS अफसर की सरकारी गाड़ी रोक ली और डिग्गी से लेकर वाहन के भीतर तक तलाशी लेने लगे। बाद में जब सिपाहियों को पता चला कि यह सरकारी गाड़ी आईपीएस अफसर की है तो पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पुलिस ने हबीबगंज के पास चैकिंग पोस्ट लगाया था। सोमवार शाम को जब पुलिस हर वाहन पर नजर रख रही थी, उसी समय वहां तैनात पुलिस ने एक सरकारी वाहन देखा, तो उसे भी रुकवा लिया गया। उसकी डिग्गी चैक की गई, लेकिन कुछ नहीं मिला, जब वाहन के भीतर देखा तो वहां तैनात अमला हैरान रह गया। वाहन में मध्यप्रदेश के आईपीएस अफसर परिवहन आयुक्त शैलेंद्र श्रीवास्तव गाड़ी में बैठे थे, यह देख चैकिंग कर रहे सिपाहियों में हड़कंप मच गया। तलाशी लेने वाले सिपाहियों ने श्रीवास्तव से माफी मांगी।

साहब मुस्कुराए और चल दिए

वाहन की डिग्गी से लेकर भीतर तक जांच करने वाले सिपाही ने जब भीतर आईपीएस अफसर को बैठे देखा तो उसके हाथ-पैर फूल गए थे। डरे सहमे सिपाही ने साहब से तुरंत माफी मांग ली। बताया जाता है कि आईपीएस अफसर की गाड़ी को रुकवाकर डिग्गी से लेकर भीतर तक जांच की गई थी, लेकिन साहब बिल्कुल भी नाराज नहीं हुए। उन्होंने सिपाहियों की ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा की सराहना की और मुस्कुराकर चल दिए।

पांच लाख रुपए बरामद

लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के साथ ही पुलिस और चुनाव आयोग की कई टीमों ने वाहनों की जांच पड़ताल तेज कर दी है। वहीं आगर मालवा जिले में वाहन चैकिंग के दौरान अवैध रूप से ले जाए जा रहे पांच लाख रुपए बरामद किए गए। मामला थाना सुसनेर के पटपड़ा बार्डर का है। यहां एचआर54डी6032 मारुति ब्रिजा कार से पांच लाख रुपए बरामद किए गए हैं। कार मालिक दात्याखेड़ी सोयतकलां में नीरज तिवारी और पंकज शर्मा बड़ीया सुसनेर थे। नकद राशि के बारे में संतोषप्रद जानकारी नहीं दिए जाने पर राशि जब्त की गई।

ट्रैफिक पुलिस ने उतरवाई रसूख की नंबर प्लेट

सतना से खबर है कि पुलिस ने चौराहों पर वाहनों को रोककर रसूखदारों की नंबर प्लेट हटवाई। ट्रैफिक पुलिस की चेकिंग के समय एक भाजपा नेता की गाड़ी भी पहुंच गई। तुरंत यातायात पुलिस ने गाड़ी को रुकने का इशारा किया। जैसे ही भाजपा नेता की गाड़ी रुकी तभी पुलिस ने नंबर प्लेट उतारे हुए 500 रुपए का चालान थमा दिया। पुलिस की सख्ती देख नेता जी ने आनन-फानन में जेब में हाथ डाली और पुलिस को 500 रुपए थमाते हुए चालान लेते हुए आगे बढ़ गए।

बनाए कई वाहनों के चालान

उधर, देवास से खबर है कि पुलिस ने संभाग के परिवहन अमले ने बायपास पर वाहनों की चेकिंग शुरू की। मंदसौर डीटीओ ज्ञानेंद्र वैश्य, देवास डीटीओ जया वसावा सहित उज्जैन आगर के डीटीओ शामिल थे। बस ट्रक डंपर आदि वाहनों को रोककर कागज़ात चेक किये और नियम विरुद्ध पाए जाने पर चालानी कार्रवाई की।

2 thoughts on “पुलिस ने रोकी अपने ही डीजी की सरकारी गाड़ी और ली तलाशी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *