संभागायुक्त ने की निर्वाचन कार्यों की समीक्षा

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। संभागायुक्त राजेश बहुगुणा द्वारा शुक्रवार को निर्वाचन कार्याें से जुड़े नोडल अधिकारियों की बैठक लेकर जिला प्रशासन की लोकसभा निर्वाचन हेतु की गयी तैयारियों की समीक्षा की गयी।

कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में आयोजित बैठक में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी प्रवीण सिंह, अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रानी बाटड़, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती मंजूषा राय सहित सभी नोडल अधिकारियों की उपस्थिति रही।

बैठक में कलेक्टर प्रवीण सिंह द्वारा पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से श्री बहुगुणा को जिले की निर्वाचन संबंधी तैयारियों की जानकारी दी गयी। उन्होंने बताया कि 22 फरवरी को प्रकाशित नामावली में सिवनी जिले में कुल 09 लाख 98 हजार 787 मतदाता शामिल थे तथा आज तक सतत रूप से निर्वाचन नामावली में नाम जोड़ने का कार्य किया जा रहा है।

28 मार्च की स्थिति में जिले में अब तक कुल 10 लाख 05 हजार 584 मतदाताओं के नाम निर्वाचन नामावली में हैं तथा सर्विस वोटर कुल 809 हैं। उन्होंने बताया कि जिले में 18 से 19 वर्ष के कुल 35 हजार 701 नवीन मतदाता निर्वाचन में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

उन्होंने बताया कि जिले के चिन्हांकित 05 हजार 992 दिव्यांग मतदाताओं के लिये मतदान केन्द्रों में सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ ही दिव्यांग मित्रों की नियुक्तियां की जायेगी। शत प्रतिशत मतदान के लिये संपूर्ण जिले में स्वीप गतिविधि चलाकर नुक्कड़ नाटक, कलश यात्रा, शासकीय, सार्वजनिक परिसरों में बैनर पोस्टर, नारे – स्लोगन तथा हस्ताक्षर अभियान चलाकर मतदाताओं को जागरूक किया जा रहा है।

जिला कलेक्टर ने बताया कि 18 से 19 वर्ष के आयु के नवीन मतदाता को मतदान हेतु प्रेरित करने का कैम्पस एम्बेसेडर की नियुक्ति शासकीय महाविद्यालयों में की गयी है। सेल्फी पाइंट के साथ विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित कर युवा मतदाताओं को प्रेरित किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि 29 अप्रैल को जिले के 1357 मतदान केन्द्रों में मतदान किया जायेगा जिनमें सभी आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित कर ली गयी हैं। चिन्हांकित 227 क्रिटिकल तथा 09 वनरेबल तथा शेडो एरिया के मतदान केन्द्रों में सीसीटीव्ही कैमरे, वेब कॉस्टिंग तथा वीडियोग्राफी के माध्यम से सतत निगरानी रखी जायेगी।

कलेक्टर प्रवीण सिंह ने जानकारी दी कि निर्वाचन आयोग के निर्देश के अनुसार अवैध नगदी, सामग्री, हथियार आदि के परिवहन को रोकने हेतु जैसे एसएसटी, एफएसटी के साथ व्हीएसटी तथा अन्य निर्वाचन दलों का गठन कर कार्यवाही प्रारंभ कर दी गयी है। साथ ही निर्वाचन कार्याें हेतु कर्मचारियों की नियुक्ति का आवश्यक प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *