भीषण दुर्घटना में तीन ने तोड़ा दम

एनएचएआई की एंबूलेंस रही गायब, लोगों की मदद से निकाला घायलों को

(अवनीश बरमैया)

बण्डोल (साई)। बण्डोल थाने से महज एक किलोमीटर दूर फोरलेन पर सोमवार की सुबह हुई भीषण कार दुर्घटना में तीन लोगों ने दम तोड़ दिया और आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गये। दुर्घटना के बाद एनएचएआई की एंबूलेंस का दूर-दूर तक अता पता नहीं था। बण्डोल थाना प्रभारी मुन्ना लाल राहंगडाले ने पुलिस और जनता के सहयोग से घायलों को वाहनों से बाहर निकाला।

पुलिस सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सोमवार 22 अप्रैल की सुबह लगभग सवा नौ बजे सिवनी से जबलपुर की ओर जाने वाले मार्ग पर एक चार पहिया वाहन का टायर फट गया और फिल्मी स्टंट की तरह वह वाहन उछलकर विपरीत दिशा वाले मार्ग से गुजर रहे एक चार पहिया वाहन पर जा गिरा। इसी बीच लखनादौन से सिवनी की ओर आ रही एक अन्य कार भी अपने आगे हुई दुर्घटनाग्रस्त हुई कार से जा टकरायी।

सूत्रों ने बताया कि जिला मुख्यालय से लगभग 16 किलोमीटर दूर बण्डोल बायपास पर हुई इस दुर्घटना में सिकंदराबाद से कटनी जा रहा एक चार पहिया वाहन क्रमाँक एपी 10 बीडी 3836 का टायर फटा और वह उछलकर विपरीत दिशा से आ रही कार क्रमाँक एमपी 22 सीए 1167 से जा टकरायी। इस वाहन के पीछे से आ रही कार एमपी 21 सीए 4716 इससे जा टकरायी।

सूत्रों ने आगे बताया कि इस दुर्घटना में सिकंदराबाद के भूपति नगर निवासी आशीष पिता दिलीप देव का परिवार कार से कटनी की ओर जा रहा था तभी बायपास से गुजरते वक्त उनकी कार, टायर फट जाने के कारण अनियंत्रित होकर सड़क के दूसरी ओर पहुँच गयी तभी लखनादौन से सिवनी की ओर आ रही, लखनादौन प्रोफेसर कॉलोनी निवासी डॉ.धनवान शाह पिता गणेश शाह की कार उससे भिड़ गयी। इसके बाद पीछे से आ रही कटनी निवासी पंकज पिता रघुवर जेक की कार भी उनकी कार से जा टकरायी।

इस भीषण सड़क हादसे में आशीष सिंह देव की पत्नि अनुजा (39), उनका पुत्र अर्व (6) एवं पुत्री अरहाना (12) की मृत्यु हो गयी। वहीं आशीष गंभीर रूप से घायल हो गये हैं। इसके अलावा डॉ.धनवान शाह इनवाती (40), उनकी पत्नि रंजीता (38) और पुत्री तनवी (10) इसी दुर्घटना में घायल हो गयीं।

इसके साथ ही साथ ही तीसरी कार के सवार पवन जेक (50) और पराग पिता पवन जेक (24) भी इसी सड़क हादसे में घायल हो गये हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस हादसे के समय जर्मन शेफर्ड प्रजाति का एक श्वान भी कार में सवार था जिसकी भी इस सड़क दुर्घटना में मौके पर ही मौत हो गयी।

घटना की सूचना लगने पर मौके पर पहुँची पुलिस के द्वारा स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को तत्काल जिला चिकित्सालय पहुँचाया गया वहीं मृतकों के शव का पंचनामा बना पीएम के उपरांत परिजनों को सौंप दिया गया है। हादसे में घायल डॉ.इनवाती और उनकी पत्नि की गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें रेफर कर दिया गया है।

घटना की जानकारी मिलते ही बण्डोल थाना प्रभारी मुन्ना लाल राहंगडाले सदलबल मौके पर जा पहुँचे और लोगों की मदद से उन्होंने घायलों को बाहर निकालकर उपचारार्थ जिला चिकित्सालय भेजा। मौके पर पुलिस महानिरीक्षक विवेक शर्मा, जिला पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार भी पहुँच गये थे।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि फोरलेन पर हुई इस भीषण दुर्घटना के बाद भी इस सड़क का रखरखाव कर रही मीनाक्षी कंस्ट्रक्शन कंपनी की एंबूलेंस मौके पर नहीं पहुँची। नियमानुसार इस एंबूलेंस को घटना स्थल से महज कुछ किलोमीटर दूर अलोनिया टोल बूथ पर 24 घण्टे मुस्तैद रहना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *