दुबई में बैठे सट्टाकिंग गिरीश, अंकित पर केस दर्ज

 

 

 

 

 

जारी होगा रेड कार्नर नोटिस

(ब्‍यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। आईपीएल क्रिकेट मैच पर सट्टा खिलाने वाले दुबई में बैठे सट्टाकिंग गिरीश तलरेजा पर और उसके साथी अंकित के खिलाफ कोलार पुलिस ने शिकंजा कस दिया है। दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

बता दें कि सट्टे को लेकर गिरफ्त में आए व्यापारियों ने इनके नाम बताए थे। संभवतः भोपाल में इस तरह की यह पहली कार्रवाई है। दरअसल, पहले भी गिरीश का नाम आता था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। लेकिन अब पुलिस ने दोनों के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने करने की तैयारी कर ली है। डाटा एनालिसिस करने के बाद अब ईडी (इनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट) को इस पूरी कार्रवाई की सूचना दी जा रही है। इधर, गिरीश के संबंध क्रिकेटरों के साथ होने के बाद केंद्रीय एजेंसियां भी भोपाल पुलिस के संपर्क में आ गई हैं।

बता दें कि भोपाल पुलिस ने शहर में चल रहे आईपीएल के हाईप्रोफाइल सट्टे के रैकेट का भंडाफोड़ किया था। सात स्थानों पर छापामार कार्रवाई कर शहर के जाने माने व्यापारियों से कुल सवा करोड़ की रकम बरामद की गई थी। उनके पास से करोड़ों का लेनदेन का रिकॉर्ड भी मिला था। यह कारोबार एक हजार करोड़ के होने का दावा किया जा रहा है।

रसूखदारों के नाम भी आ रहे सामने

एएसपी अखिल पटेल ने बताया कि आईपीएल के सट्टे से कई ऐसे कारोबारियों की लिंक जुड़ रही है, जो रसूख वाले हैं। लेकिन अभी ठोस सबूत नहीं मिलने के कारण उन पर सीधे कार्रवाई करना मुश्किल हो रहा है। इसलिए जब्त पेन ड्राइव, लैपटॉप और अन्य डिजिटल डाटा को एनालिसिस करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए सायबर एक्सपर्ट और प्राइवेट सायबर एक्सपर्ट को जोड़ा जा रहा है।

पासपोर्ट की जानकारी भी जुटा रही

दुबई निवासी गिरीश तलरेजा और अंकित बरियानी के खिलाफ पुलिस रेड कार्नर नोटिस जारी करने की तैयारी कर रही है। इसके लिए पुलिस इंटरपोल की मदद लेगी। दोनों गज पासपोर्ट की जानकारी के लिए भी पुलिस अब केंद्र सरकार को पत्र लिख रही है।

एक माह में 15 व्यापारी गए थे दुबई

पुलिस के पास जानकारी हाथ लगी है कि पिछले एक माह में भोपाल के करीब 15 व्यापारी दुबई जाकर लौटे हैं। ये वे हैं, जो गिरीश के करीबी माने जाते हैं। चर्चा तो यहां तक है कि इन लोगों ने उससे संपर्क भी किया था। पुलिस इनकी जानकारी जुटाने में लग गई है।

सवा करोड़ की रकम की लिंक नहीं मिली

पुलिस के पास सवा करोड़ की लिंक नहीं मिल पा रही है। गिरफ्त में आए व्यापारियों ने अभी तक इसका सोर्स नहीं बताया है। इन व्यापारियों के खातों की पूरी डिटेल निकाली जा रही है। पता लगाया जा रहा है कि रकम कहां से आती और कहां जाती थी। उनके मोबाइल की कॉल डिटेल भी निकाली जा रही है। आयकर विभाग के अलावा पुलिस भी अपने स्तर पर जानकारी जुटा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *