पीएम बनने के बाद पहली बार अयोध्या जाएंगे मोदी

 

 

 

 

01 मई को मया बाजार में चुनावी रैली

(ब्‍यूरो कार्यालय)

अयोध्‍या (साई)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक मई को उत्तर प्रदेश के अयोध्या जाएंगे। मई 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से अभी तक पीएम अयोध्या नहीं गए हैं। ऐसे में उनके अयोध्या दौरे के कार्यक्रम को अलग-अलग नजरिए से देखा जा रहा है। बता दें कि फैजाबाद लोकसभा सीट पर पांचवें चरण के तहत 6 मई को मतदान होना है।

प्रधानमंत्री मोदी आंबेडकरनगर और अयोध्या के बीच गोसाईंगंज के मया बाजार इलाके में 1 मई को चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि पीएम मोदी का अयोध्या के मंदिरों में भी दर्शन-पूजन का कार्यक्रम है या नहीं।

इस बीच आज से पीएम मोदी वाराणसी के दो दिन के दौरे पर हैं। शाम को उनका मेगा रोड शो का कार्यक्रम है। इसके बाद शुक्रवार को पीएम मोदी अपना नामांकन दाखिल करेंगे। बीजेपी ने इसके लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की हैं। खुद अमित शाह वहां डटे हुए हैं।

अयोध्या दौरे के मायने

पीएम मोदी के अयोध्या दौरे के कई मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण की वोटिंग से पहले पीएम के इस दौरे से बीजेपी को आस-पास की सीटों पर फायदा मिल सकता है। साथ ही इसे 6 मई को मतदान से पहले माहौल अपने पक्ष में करने की जुगत के रूप में भी देखा जा रहा है। 6 मई को फैजाबाद सीट के अलावा धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, बांदा, फतेहपुर, कौशाम्बी, बाराबंकी, बहराइच, कैसरगंज और गोंडा लोकसभा सीटों पर भी मतदान है। ऐसे में एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन की चुनौती से जूझ रही बीजेपी को इस रैली से काफी आशाएं हैं।

पिछले दो साल के दौरान योगी सरकार ने अयोध्या में कई बड़े आयोजन किए हैं। पिछले साल योगी सरकार ने भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया था। इसके साथ ही फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या किया गया था। अयोध्या में भगवान राम की बड़ी प्रतिमा लगाने को भी मंजूरी दी जा चुकी है। लेकिन संसदीय सीट अभी फैजाबाद के नाम से जानी जाती है। इस लोकसभा सीट से बीजेपी के लल्लू सिंह सांसद हैं। बीजेपी ने एक बार फिर उनको टिकट दिया है। कांग्रेस ने यहां से पूर्व प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष निर्मल खत्री को उतारा है। खत्री 2009 में इस सीट से सांसद रह चुके हैं। वहीं, गठबंधन की तरफ से एसपी के आनंदसेन यादव मैदान में हैं। उनके पिता मित्रसेन यादव भी फैजाबाद से सांसद निर्वाचित हुए थे।

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामला

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। भव्य राम मंदिर निर्माण की साधु-संतों की मांग के बीच लंबे अरसे से यह मामला अदालती कार्यवाही में उलझा हुआ है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने सभी पक्षों से बातचीत के जरिए मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्थों की एक कमिटी बनाई थी। अगर मध्यस्थता से मामला नहीं सुलझता है तो सुप्रीम कोर्ट मामले में अंतिम निर्णय देगा।

वाराणसी में 7 किमी लंबा रोड शो

पीएम का रोड शो लंका स्थित महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण के साथ शुरू होगा। करीब 7 किलोमीटर की दूरी 4 घंटे में तय कर प्रधानमंत्री दशाश्‍वमेध घाट पहुंचेंगे। यहां बने फ्लोटिंग प्‍लेटफार्म से मां गंगा का वैदिक रीति से पूजन करने के बाद भव्‍य गंगा आरती में शामिल होंगे।

गंगा सेवा निधि के अध्‍यक्ष सुशांत मिश्र ने बताया कि 2014 का चुनाव जीतने के बाद और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे को साथ लेकर प्रधानमंत्री मोदी के आने के समय से कहीं ज्‍यादा भव्‍य ढंग से दशाश्‍वमेध घाट को सजाया जाएगा। कवि केशव की पंक्ति नाम लिए कितने तरिजात, प्रणाम किए सुर लोक सिधारोके लयबद्ध गायन के बीच पंरपरागत वेशभूषा में 7 अर्चक मां गंगा की आरती करेंगे। अर्चकों के साथ रिद्धि सिद्धि के रूप में 14 कन्‍याएं रहेंगी। यह नजारा देव दीपावली उत्‍सव जैसा होगा।

2 thoughts on “पीएम बनने के बाद पहली बार अयोध्या जाएंगे मोदी

  1. Pingback: Earn Fast Cash Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *