अवैध उत्खनन कर रही जेसीबी पकड़ायी

 

 

वन विभाग के कार्यक्षेत्र में चल रहा था उत्खनन

(ब्यूरो कार्यालय)

केवलारी (साई)। केवलारी क्षेत्र में अवैध उत्खनन चरम सीमा पर चल रहा है। प्रशासन विशेषकर खनिज विभाग का यहाँ किसी तरह का नियंत्रण नहीं रह गया है। वन विभाग के अधिकार क्षेत्र वाले हिस्सों में भी आतताईयों के द्वारा जमकर उत्खनन किया जा रहा है।

वन परिक्षेत्र अधिकारी बी.एल. पाल ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को जानकारी देते हुए बताया कि गत दिवस उनके पास किसी के द्वारा यह सूचना दी गयी कि किसी के द्वारा बम्हनीखेड़ा ग्राम के पास वन विभाग के स्वामित्व वाली जमीन पर अवैध उत्खनन किया जा रहा है। उन्होंने इस जानकारी के मिलते ही अपने अधीनस्थों को मौके पर रवाना किया।

वहीं सहायक वन परिक्षेत्र अधिकारी एन.एल. सोनी ने बताया कि बम्हनीखेड़ा ग्राम के कुछ किसान पानी निकासी हेतु नाली निर्माण कार्य कराना चाहते थे। उन्होंने जेसीबी के चालक को बताया, चालक के द्वारा वन विभाग की जमीन से ही नाली निकालना आरंभ कर दिया गया।

रेंजर श्री पाल ने बताया कि भारतीय वन अधिनियम सन 1927 की धारा 33(1)ग के अंतर्गत कार्यवाही कर मामले को विवेचना में लिया गया है।

बताया जाता है कि इस मशीन के द्वारा इसके पहले भी वन विभाग के स्वामित्व वाली जमीन से अवैध रूप से उत्खनन का कार्य किया गया था। इस मामले में जेसीबी के चालक अरविंद पिता बसोड़ी विश्वकर्मा, निवासी भद्दूटोला से पूछताछ की जा रही है। चालक के अनुसार यह मशीन किन्ही सापात खान की है, जो किसी अन्य स्थान से आकर केवलारी क्षेत्र में निवास कर रहे हैं।