उफनाते नाले में बहे युवकों के मिले शव

 

 

सड़क से तीन सौ मीटर दूर मिला वाहन, कुछ दूरी पर मिले शव

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। जिलाधिकारी के स्पष्ट निर्देशों के बाद भी पुल पर पानी होने की दशा में सड़क पर से आवागमन को रोका नहीं जा सक रहा है। रविवार देर रात मुंगवानी के समीप नाले में चार पहिया वाहन सहित बहे दो युवकों के शव एवं वाहन को सड़क से कुछ दूरी पर बरामद किया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार 08 सितंबर को सिंगोड़ी ग्राम निवासी चंद्र शेखर सनोडिया (36), एसआरटी बस सर्विस के संचालक के पुत्र तथा भाजपा युवा मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष जय सनोडिया (34) एवं दीपक सनाड्य चार पहिया एक वाहन से गाडरवाड़ा ग्राम से मध्य रात्रि लगभग पौने बारह बजे सिवनी लौट रहे थे।

युवाओं के बीच चल रहीं चर्चाओं पर अगर यकीन किया जाये तो इनका वाहन जैसे ही पुसेरा ग्राम के पास स्थित नाले के समीप पहुँच तब नाले में पानी को देखकर वाहन में सवार दीपक सनोडिया के द्वारा वाहन से उतरकर पैदल ही जाकर पुल पर पानी की स्थिति देखने का प्रयास किया गया।

चर्चाओं के अनुसार जब दीपक सनाड्य ने पानी की स्थिति और उसका वेग देखा तब उनके द्वारा वाहन निकालने से मना कर दिया गया। इसी बीच वाहन चला रहे चंद्र शेखर सनोडिया के द्वारा वाहन को पार करवाने की कोशिश प्रारंभ कर दी गयी। वाहन कुछ आगे जाकर ही हिचखोले खाते हुए पानी के बहाव के साथ बह गया।

चर्चाओं के अनुसार रात के स्याह अंधकार में पुलिया पर भी रौशनी की किसी तरह की व्यवस्था न होने के कारण दीपक सनाड्य के द्वारा तत्काल ही मोबाईल पर इस बात की जानकारी अपने परिचितों को देना आरंभ कर दिया गया। इसी बीच किसी के द्वारा डायल 100 को फोन कर दिया गया जिसके बाद डायल 100 भी मौके पर पहुँच गयी।

चर्चाओं के अनुसार दीपक ने लोगों को बताया कि वाहन बहने के बाद उनके द्वारा बचाओ – बचाओ की आवाजें भी सुनी गयीं थीं। ये आवाजें डायल 100 के आने तक भी जारी थीं। इधर, जैसे ही इनके परिचितों को इस बात की खबर लगी वैसे ही उनके परिचित रात में ही मुंगवानी की ओर कूच कर गये।

भाजपा के नगर अध्यक्ष नरेंद्र गुड्डू ठाकुर ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि उनके द्वारा अपने साथियों के साथ रात को लगभग एक डेढ़ किलोमीटर तक नाले के किनारे वाहन और दोनों बहे युवकों को खोजने का प्रयास किया गया, किन्तु उन्हें सफलता नहीं मिल सकी।

उन्होंने बताया कि सोमवार 09 सितंबर को सुबह पाँच बजे तक नाले में पानी बढ़ता ही जा रहा था, पर साढ़े छः बजे के बाद पानी कम होना आरंभ हुआ तब मुंगवानी वाले छोर पर लोगों के द्वारा दुर्घटनाग्रस्त वाहन को देखा गया। इसके बाद जैसे – जैसे पानी कम होता गया वैसे – वैसे लोग मौके पर पहुँचते गये और रविवार देर रात तेज पानी की लहरों में लापता हुए जय सनोडिया और चंद्र शेखर सनोडिया के शव बरामद कर लिये गये।

सोमवार को सुबह जब इनके शवों को शव परीक्षण के लिये सिवनी लाया गया तब वहाँ बड़ी तादाद में भाजपा के कार्यकर्त्ताओं और नेताओं सहित मृतकों के मित्रगण उपस्थित रहे। शव परीक्षण के उपरांत दोनों मृतकों का अंतिम संस्कार कर दिया गया, जिसमें शामिल होकर बड़ी तादाद में लोगों ने उन्हें अंतिम बिदाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *