आज से माँ आदिशक्ति की भक्ति में डूबेंगे श्रद्धालु

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित संपूर्ण जिले में चैत्र नवरात्र की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। शनिवार 06 अप्रैल से आरंभ हो रहे नवरात्र में नौ दिनों तक श्रद्धालु शक्ति की भक्ति में लीन रहेंगे। देवी मंदिरों में मनोकामना ज्योति कलश की स्थापना के लिये मंदिर समिति ने सारी तैयारी कर ली है। वहीं श्रद्धालुओं ने भी मंदिर में कलश स्थापना के लिये बुकिंग करा दी है।

जिला मुख्यालय के दुर्गा चौक स्थित राज राजेश्वरी मंदिर में सबसे ज्यादा मनोकामना ज्योति कलश स्थापित किये जाते हैं। तकरीबन 500 कलश की स्थापना यहाँ होती है। मुख्यालय के अलावा महाराष्ट्र और आसपास के महा नगरों के भी श्रद्धालु यहाँ कलश स्थापित कराते हैं। इतना ही नहीं जो श्रद्धालु वर्तमान में विदेश में रहने लगे हैं वे भी राज राजेश्वरी मंदिर में ज्योति कलश की बुकिंग कराते हैं।

शहर के बारापत्थर क्षेत्र में स्थित प्राचीन मरहाई माता मंदिर में कई सालों से अखण्ड ज्योति जल रही है। यहाँ दूर-दूर से श्रद्धालु पूजन करने आते हैं। यहाँ भी हर साल विशेष आकार में मनोकामना ज्योति कलश की स्थापना की जाती है। स्वास्तिक, ओम और त्रिशूल आदि आकार में रखे ज्योति कलश आकर्षण का केन्द्र रहते हैं। यहाँ भी आसपास के जिले से श्रद्धालु ज्योति कलश की स्थापना कराते हैं।

इसके अलावा जिले के बरघाट विकासखण्ड के आष्टा गाँव में स्थित प्राचीन माता महाकाली मंदिर में श्रद्धालुओं की आस्था जुड़ी है। यहाँ के पुजारी और ग्रामीणों के मुताबिक यहाँ माँगे जाने वाली हर मनोकामना पूरी होती है। चैत्र और शारदेय नवरात्र में आसपास के महानगरों से श्रद्धालु दर्शन और पूजन करने पहुँचते हैं। साथ ही कलश की स्थापना करवाते हैं।

जिला मुख्यालय सिवनी के आज़ाद वार्ड स्थित माता दिवाला मंदिर, गणेश चौक स्थित विंध्य वासिनी मंदिर, महाकालेश्वर टेकरी स्थित शारदा मंदिर, भैरोगंज स्थित कात्यायिनी मंदिर में भक्तों की खासी भीड़ रहती है। इसके अलावा बरघाट रोड स्थित बाघदेव बंजारी, छपारा स्थित बंजारी माता मंदिर, बण्डोल स्थित कात्यायिनी मंदिर, आमागढ़ स्थित दुर्गा मंदिर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु नवरात्र पर्व पर ज्योति कलश की स्थापना कराते हैं।