नारकीय जीवन जी रहे घंसौरवासी

 

 

वार्ड नंबर छः में ओवर फ्लो हो रहीं नालियां

(संतोष बर्मन)

घंसौर (साई)। आदिवासी बाहुल्य तहसील मुख्यालय घंसौर में ग्राम पंचायत की कथित अनदेखी के चलते वार्ड नंबर छः के निवासी नारकीय जीवन जीने पर मजबूर हैं। वार्ड में गंदगी पसरी पड़ी है तो नल जल योजना भी जब चाहे तब ठप्प हो जाती है।

वार्ड नंबर छः के निवासियों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि उनके द्वारा वार्ड में साफ सफाई के लिये सरपंच और उप सरपंच से कई बार लिखित और मौखिक रूप से शिकायत किये जाने का कोई परिणाम सामने नहीं आ पा रहा है।

ग्रामीणों का आरोप है कि लंबे समय से किसी भी जन प्रतिनिधि के द्वारा इस वार्ड में जाकर हालात देखने की जहमत नहीं उठायी गयी है। वार्ड का आलम यह है कि यहाँ चारों ओर गंदगी का साम्राज्य पसरा हुआ है। नालियों की लंबे समय से साफ सफाई न होने के कारण इनका गंदा और बदबूदार पानी सड़कों पर बह रहा है।

ग्रामीणों ने बताया कि उनके द्वारा लगभग छः महिनों से सरपंच एवं उप सरपंच से वार्ड की साफ सफाई की गुहार लगायी जा रही है पर सरपंच और उप सरपंच इस ओर ध्यान ही नहीं दे रहे हैं। नालियों से उठने वाली दुर्गंध ने लोगों का जीना दुश्वार कर रखा है। गर्मी के इन दिनों में आज आलम यह हो गया है कि लोगों के घरों में भी नालियों का गंदा पानी घुस रहा है।

ग्रामीणों के अनुसार गर्मी की आहट मिलने के साथ ही आज जब यह अपने शवाब की ओर तेजी से बढ़ रही है तब इस क्षेत्र के वाशिंदे पेयजल के संकट से बुरी तरह जूझ रहे हैं। वार्ड में नल जल योजना भी जब चाहे तब ठप्प हो जाती है, लोग बूंद – बूंद पानी को तरस रहे हैं। लोगों की शिकायत है कि जन प्रतिनिधियों के द्वारा उनकी सुध लेना मुनासिब नहीं समझा जाता है।