..यों अशुभ माना जाता है कुत्ते का रोना

 

 

दिखती है आत्मा या फिर कुछ और ही है मामला?

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। इसे अंध विश्वास कहें या कुछ और, लेकिन आज भी अगर रात में कुत्ता रोता है तो लोग उसे दूर भगा देते हैं। ऐसा इसलिये क्योंकि हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार रात में कुत्तों का रोना अशुभ होता है लेकिन, क्या कभी आपने सोचा है कि कुत्तों के रोने को क्यों अशुभ माना जाता है। तो आईये जानते हैं इसका कारण..

आत्मा को देखते ही रोने लगते हैं कुत्ते : इसको लेकर ज्योतिषों का कहना है कि कुत्ते सबसे ज्यादा तब रोते हैं जब उनके आसपास कोई आत्मा होती है या फिर उन्हें कोई आत्मा दिखायी देती है। ज्योतिषों का ये भी कहना है कि जब भी कुत्ते रोते हैं तो इसका मतलब होता है कि वह किसी को संदेश दे रहे हैं और यह अपने साथियों को संदेश देते हैं कि वह भी सचेत हो जायंे, क्योंकि उनको एक आत्मा दिखायी दे रही है।

वहीं, वैज्ञानिकों की मानें तो जब भी कुत्ता अकेला होता है तो वह जोर – जोर से रोने लगता है, ताकि दूसरे कुत्ते उसकी आवाज सुनकर वे भी रोने लगते हैं जिससे उन्हें लगता है कि वह अकेले नहीं है दूसरे कुत्ते भी उनके पास हैं। दूसरी ओर कई जानकारों का कहना है कि कुत्ते ऐसा करके अपनी लोकेशन दूसरे कुत्तों को बताते हैं।