जब्त नकदी पर 300 फीसदी जुर्माना भी वसूलेगा आईटी विभाग

 

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान आयकर विभाग द्वारा जब्त किए गए 13 करोड़ 20 लाख रुपए नकद और आभूषणों पर आयकर विभाग ने टैक्स और 300 फीसदी तक जुर्माना वसूलने की तैयारी कर ली है। बेनामी और अघोषित संपत्ति के संदर्भ में आयकर अधिनियम में हुए बदलाव के बाद अब 77.5 फीसदी टैक्स और उस पर 100 से लेकर 300 फीसदी जुर्माने का प्रावधान भी हो गया है।

इधर लोकसभा चुनाव के संदर्भ में विभाग अब तक 12 करोड़ रुपए नकद और करीब 50 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति का खुलासा कर चुका है। रविवार को इंदौर की टीम ने जिस व्यक्ति के पास 10 लाख रुपए नकद जब्त किए। उसके झूठ के चलते विभाग ने छापामारी में 50 लाख रुपए का नया टैक्स निकाल दिया।

मप्र में चार महीने पहले विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान आयकर विभाग ने कई जिलों में अपनी कार्रवाई के दौरान 6 करोड़ 80 लाख रुपए नकद राशि जब्त की थी। इसके अलावा 6 करोड़ 40 लाख रुपए मूल्य के आभूषण भी जब्त हुए थे, इस तरह विभाग के सामने कुल 13 करोड़ 20 लाख रुपए मूल्य की इस संपत्ति का असली मालिक सामने नहीं आया।

यह नकदी और आभूषण जिन लोगों के पास से बरामद हुए विभागीय पूछताछ के दौरान वे भी समाधानकारक जवाब नहीं दे पाए। रविवार 31 मार्च को इंदौर की टीम ने एक व्यक्ति के पास 10 लाख रुपए नकद जब्त किए। उसने इस रकम के बारे में अफसरों को गलत जानकारी देकर बचने का प्रयास किया, लेकिन विभाग ने तुरंत ही संबंधित पते पर सर्वे के बाद छापामारी भी कर दी। इस तरह करीब 50 लाख रुपए की नई टैक्स चोरी सामने आ गई।

मैदानी अफसर कर रहे टैक्स चोरी का आकलन

विभागीय सूत्रों का कहना है कि इस संपत्ति को कालाधन मानकर और संबंधित लोगों से पूछताछ के बाद इन्वेस्टीगेशन विंग ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर असेसमेंट के लिए भेज दी है। इस संपत्ति पर अब विभाग का मैदानी अमला असेसमेंट की कार्रवाई कर टैक्स निकालेगा। इसी वर्ष जुलाई तक रिटर्न फाइल होंगे, इसके बाद सितंबर तक ऐसे प्रकरण चिन्हित किए जाएंगे। उसके बाद कर निर्धारण की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। इस तरह मामले का पटाक्षेप वर्ष 2020 तक कर दिया जाएगा।

खुफिया विंग की नजर

आयकर विभाग ने अब लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश के 52 जिलों में कालेधन की आवाजाही पर नजर रखने नई रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। इसके लिए खुफिया विंग भी सक्रिय है, 28 जनवरी को चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ पहली बैठक के तुरंत बाद आयकर विभाग ने अपनी टीमें गठित कर सभी जिलों में तैनात कर दीं। फरवरी से अब तक करीब पौने दो महीने में आयकर अधिकारियों ने 12 करोड़ नकद राशि जब्त कर ली है।

भारी पड़ेगा झूठ बोलना

मप्र में आयकर विभाग की इन्वेस्टीगेशन विंग के प्रधान निदेशक पतंजलि झा ने बताया कि विधानसभा के बाद अब लोकसभा चुनाव के लिए सभी जिलों और हवाईअड्डों पर विभागीय अफसरों को तैनात किया गया है। आयकर भवन में 24 घंटे सतर्क रहने वाला कंट्रोल रूम भी काम कर रहा है।

उन्होंने बताया कि हमारी मंशा किसी को अनावश्यक परेशान करने की नहीं है, यदि कोई व्यक्ति बड़ी नकद राशि लेकर चल रहा है तो उसके पास राशि का समाधानकारक दस्तावेज भी होना चाहिए। इसमें झूठ का सहारा लेने पर मुश्किलें बढ़ेंगी। इसके लिए अभियोजन की कार्रवाई का भी सामना करना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *