क्या सर्दी-खांसी में बच्चों को खिला सकते हैं केला!

हाल ही में मेरा बच्चा सर्दी-खांसी से पीड़ित था। वो कुछ नहीं खा रहा था, इसलिए मैंने उसे केला और कुछ खट्टे फल खाने को दिए। मैंने सुना है कि इस स्थिति में बच्चे को ऐसे फल नहीं देने चाहिए, इससे हालत और ज्यादा ख़राब हो सकती है, क्या ये सही है?

जानकारों का कहना है कि कई माताएं ये समझती हैं कि केला और खट्टे फल खाने से सर्दी-खांसी में बच्चे की स्थिति और अधिक खराब हो जाती है। लेकिन आपको बता दें कि ये तथ्य गलत है। कई डॉक्टर इस दौरान विटामिन सी वाले फूड खाने की सलाह देते हैं, जिससे इम्युनिटी सिस्टम मज़बूत होता है। केला भी एक ऐसा फल है जो मिनरल्स से भरपूर है और इम्युनिटी बढ़ाता है।

केले में पोटेशियम भी अधिक होता है और ये पानी की कमी को पूरा करता है। इसमें इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं जो शरीर में इलेक्ट्रोलाइट और तरल पदार्थ संतुलन को बनाए रखने में सहायक हैं। इसमें 105 कैलोरी होती है, जिससे आपको तुरंत ऊर्जा मिलती है।

खट्टे फलों में विटामिन सी होता है, जिससे एंटीवायरल प्रभाव पड़ता है और जल्दी स्वस्थ होने में मदद मिलती है। संतरे और नींबू जैसे फलों में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जिससे बॉडी से टोक्सिन बाहर निकालने में मदद मिलती है और सर्दी-खांसी जैसी समस्या से स्वाभाविक रूप के उपचार में सहायता मिलती है।

बच्चे को सर्दी-खांसी होने पर ये ज़रूरी नहीं है कि आप उसे इस तरह के ही फल किलाते रहें। वास्तव में उसे इस तरह के फल के अलावा हेल्दी डायट और दवा भी दें।

(साई फीचर्स)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

0 Views

Related News

(शरद खरे) जिले की सड़कों का सीना रोंदकर अनगिनत ऐसी यात्री बस जिले के विभिन्न इलाकों से सवारियां भर रहीं.
मण्डी पदाधिकारी ने की थी गाली गलौच, हो गये थे कर्मचारी लामबंद (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। सिमरिया स्थित कृषि उपज.
दिन में कचरा उठाने पर है प्रतिबंध, फिर भी दिन भर उठ रहा कचरा! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। अगर आप.
सौंपा ज्ञापन और की बदहाली की ओर बढ़ रही व्यवसायिक गतिविधियों को सम्हालने की अपील (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिवनी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। डेंगू से पीड़ित एस.आई. अनुराग पंचेश्वर की उपचार के दौरान जबलपुर में मृत्यु हो गयी है।.
(आगा खान) कान्हीवाड़ा (साई)। इस वर्ष खरीफ की फसलों में किसानों ने सोयाबीन, धान से ज्यादा मक्के की फसल बोयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *